मंगलवार, 28 अप्रैल, 2015 | 21:26 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
यूपीः संभल एआरटीओ कार्यालय में फायरिंग।यूपी: आजमगढ़ में बिजली गिरने से दो की मौत, हाइवे पर दो घंटे आवागमन बाधितयूपी : मऊ में चक्रवाती तूफान से भारी तबाही, युवती की मौतयूपी: बलिया में बारिश व तूफान ने फिर मचाई तबाही, दो की मौतयूपी: आंधी ने उजाड़ दिये आम के बागीचे, रामनगर का पीपा का पुल काफी दूर तक बहाभूकंप के बाद आंधी-पानी ने ढाया कहर, पूर्वांचल में नौ की मौतयूपी : भूकंप के बाद पूरे अवध क्षेत्र में आंधी-बारिश का कहरपहले ही तबाह किसानों की बची-खुची फसल भी खत्म
एलियंस हैं या नहीं? बस 2024 तक करें इंतजार
लंदन, एजेंसी First Published:27-12-12 09:35 AMLast Updated:27-12-12 10:09 AM
Image Loading

मानव अगले 12 सालों में दूसरे ग्रह के प्राणियों (एलियन) से संपर्क स्थापित कर सकता है। यह बात ब्रिटेन के रक्षा मंत्रालय के यूएफओ (अन आइडेंटीफाइड ऑब्जेक्ट) परियोजना के एक पूर्व अधिकारी ने कही है।

समाचार पत्र डेली एक्सप्रेस के मुताबिक यूएफओ परियोजना के पूर्व प्रमुख निक पोप ने कहा कि स्क्वोयर किलोमीटर एरे (एसकेए) नामक वृहदाकार दूरबीन के विकास से यह जाना जा सकेगा कि ब्रह्मांड में कहीं और जीवन है या नहीं। पोप ने मंत्रालय में 21 सालों तक यूएफओ देखी जाने वाली घटना का अध्ययन किया है।

उन्होंने कहा कि मैं एक विवादास्पद बयान दूंगा। मैं आपको एक निश्चित वर्ष के बारे में बताउंगा कि कब संपर्क की पहली बार पुष्टि होगी और वह वर्ष 2024 है। अगर सभी योजना समय से पूरी होती है तो उसी वर्ष एसकेए काम करना शुरू कर देगा।

एसकेए का काम 2016 में शुरू होगा। यह दुनिया का सबसे बड़ा रेडियो दूरबीन होगा। इसमें हजारों रिसेप्टर लगे होंगे, जो ऑस्ट्रेलिया में पांच हजार वर्ग किलोमीटर क्षेत्र में फैले होंगे।

वैज्ञानिकों के मुताबिक एसकेए किसी भी दूसरे दूरबीन से 50 गुणा अधिक संवेदनशील होगा और 10 हजार गुणा अधिक तेजी से आकाश का सर्वेक्षण करने में मदद करेगा। पोप ने कहा कि अगर 100 प्रकाशवर्ष दूर भी यदि कोई सभ्यता होगी, तो इस दूरबीन से पता चल जाएगा।

 
 
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
जरूर पढ़ें
Image Loadingआरसीबी से बदला चुकता करने उतरेंगे आरआर
एक दूसरे के खिलाफ पिछले मुकाबले में पराजय झेल चुकी राजस्थान रायल्स आईपीएल के कल होने वाले मैच में रायल चैलेंजर्स बेंगलूर से बदला चुकता करने के इरादे से उतरेगी।