मंगलवार, 26 मई, 2015 | 19:14 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    दिल्ली विधानसभा: विशेष सत्र में हंगामा, बीजेपी विधायक को बाहर निकाला  यूपी: गर्मी का कहर जारी, राहत के आसार नहीं इस रेस्टोरेंट में आने वालों को बनना पड़ता है कैदी प्रतापगढ़ में रोडवेज के कैशियर की हत्या कर साढ़े सात लाख की लूट  सलमान को दुबई जाने के लिए कोर्ट से मिली अनुमति वसीम रिजवी शिया वक्फ बोर्ड के फिर चेयरमैन साहित्यिक चोरी के आरोप में 'पीके' के निर्माताओं को नोटिस 9 अधिकारियों के तबादले के बाद एलजी से मिले केजरीवाल  कांग्रेस के दस साल पर भारी भाजपा का एक साल: स्मृति दुनिया कर रही हरमन की तारीफ, किसी ने भेजा कार्ड तो किसी ने फर्नीचर
एलियंस हैं या नहीं? बस 2024 तक करें इंतजार
लंदन, एजेंसी First Published:27-12-12 09:35 AMLast Updated:27-12-12 10:09 AM
Image Loading

मानव अगले 12 सालों में दूसरे ग्रह के प्राणियों (एलियन) से संपर्क स्थापित कर सकता है। यह बात ब्रिटेन के रक्षा मंत्रालय के यूएफओ (अन आइडेंटीफाइड ऑब्जेक्ट) परियोजना के एक पूर्व अधिकारी ने कही है।

समाचार पत्र डेली एक्सप्रेस के मुताबिक यूएफओ परियोजना के पूर्व प्रमुख निक पोप ने कहा कि स्क्वोयर किलोमीटर एरे (एसकेए) नामक वृहदाकार दूरबीन के विकास से यह जाना जा सकेगा कि ब्रह्मांड में कहीं और जीवन है या नहीं। पोप ने मंत्रालय में 21 सालों तक यूएफओ देखी जाने वाली घटना का अध्ययन किया है।

उन्होंने कहा कि मैं एक विवादास्पद बयान दूंगा। मैं आपको एक निश्चित वर्ष के बारे में बताउंगा कि कब संपर्क की पहली बार पुष्टि होगी और वह वर्ष 2024 है। अगर सभी योजना समय से पूरी होती है तो उसी वर्ष एसकेए काम करना शुरू कर देगा।

एसकेए का काम 2016 में शुरू होगा। यह दुनिया का सबसे बड़ा रेडियो दूरबीन होगा। इसमें हजारों रिसेप्टर लगे होंगे, जो ऑस्ट्रेलिया में पांच हजार वर्ग किलोमीटर क्षेत्र में फैले होंगे।

वैज्ञानिकों के मुताबिक एसकेए किसी भी दूसरे दूरबीन से 50 गुणा अधिक संवेदनशील होगा और 10 हजार गुणा अधिक तेजी से आकाश का सर्वेक्षण करने में मदद करेगा। पोप ने कहा कि अगर 100 प्रकाशवर्ष दूर भी यदि कोई सभ्यता होगी, तो इस दूरबीन से पता चल जाएगा।

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
Image Loadingधौनी से कप्तानी के गुर सीखे : होल्डर
वेस्टइंडीज की वनडे टीम के युवा कप्तान जैसन होल्डर को लगता है कि चेन्नई सुपरकिंग्स के साथ बिताये गये दिनों में उन्हें किसी और से नहीं बल्कि भारत के सीमित ओवरों की टीम के कप्तान महेंद्र सिंह धौनी से कप्तानी के गुर सीखने को मिले थे।