रविवार, 01 फरवरी, 2015 | 17:12 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
दिल्ली को आगे बढ़ाना है तो भाजपा को पूर्ण बहुमत दीजिए : मोदीजहां झुग्गी होगी वहीं पक्का मकान बनाएंगे : मोदीशहर में ट्रफिक की समस्या का समाधान किरण बेदी करा देंगी : मोदीगरीबों को गरीब रखकर राजनीति हुई : मोदीचुनाव भी विकास के मु्द्दे पर लड़ता हूं और सरकार भी विकास के मुद्दे पर चलाता हूं : मोदीमेरे पास किताबी ज्ञान नहीं, लोगों की शक्ति की पहचान है : मोदीटीवी में जगह से सरकार नहीं चलती : मोदीयुवा देश का लाभ लेना मुझे आता है : मोदीअगर नसीबवाले से आपका पैसा बचता है तो बदनसीब की क्या जरूरत : मोदीमेरे नसीब से तेल-पेट्रोल सस्ता हुआ तो क्या बुरा है : मोदीआपने जो प्यार दिया अब मुझे वह ब्याज समेत लौटाना है : मोदीआंदोलन की आदत रखने वालों को सिर्फ टीवी में जगह चाहिए : मोदीदिल्ली को जिम्मेवार सरकार चाहिए : मोदीभागने से काम नहीं चलता, सरकार चलाना बड़ी जिम्मेदारी : मोदीरोज विरोधी सुबह उठकर सोचते हैं कि आज कौन सा झूठ फैलाया जाए : मोदीकांग्रेस-आप में झूठ बोलने की होड़ : मोदीकांग्रस-आप ने कुर्सी के लिए सौदा किया : मोदीहम समस्या दूर करने की सोचते हैं : मोदीदिल्ली से पानी का वादा पूरा किया : मोदीदिल्ली के द्वारका में पीएम मोदी ने रैली के दौरान कहा, मैं असली दिल्लीवाला हो गया हूंदिल्ली के द्वारका में पीएम मोदी की रैलीबीजेपी नफरत फैला रही है : सोनियाबीजेपी ने झूठे वादे किए, किसानों के सपने का क्या हुआ, काला धन वापस कहां आया : सोनियाहमने झुग्गीवालों को घर दिये : सोनियादिखावे की राजनीति करने वालों से सतर्क रहने की जरूरत : सोनियाबिहार के फारबिरगंज में काले झंडों के साथ अल्पसंख्यक समुदाय के हजारों लोगों ने किया प्रदर्शन, फांस की शार्ली एब्दो पत्रिका द्वारा पैगंबर मोहम्मद साहब का कार्टून छापने के विरोध में किया प्रदर्शन।
नासा ने जानबूझकर ध्वस्त किए चंद्रमा पर भेजे उपग्रह
वाशिंगटन, एजेंसी First Published:18-12-12 01:35 PM
Image Loading

अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा ने चंद्रमा के अध्ययन के लिए भेजे गए दो उपग्रहों को जानबूझकर ध्वस्त किया। चंद्रमा के उत्तरी ध्रुव के नजदीक एक पहाड़ से टकराकर इन्हें ध्वस्त किया गया। चांद की संरचना जानने के लिए ऐसा किया गया।

समाचार एजेंसी आरआईए नोवोस्ती के मुताबिक ग्रेविटी रिकवरी एंड इंटीरियर लेबोरेटरी (जीआरएआईएल) मिशन के के दो 'ऐब्ब' और 'फ्लो' नाम के उपग्रह चंद्रमा की कक्षा में ही रहें इसलिए मिशन इंजीनियरों ने उनमें कम ईंधन भरा था। सोमवार को एक वक्तव्य जारी कर यह बात कही गई।

इस 49.6 करोड़ डॉलर के जीआरएआईएल मिशन की शुरुआत सितम्बर 2011 में हुई थी। 'ऐब्ब' और 'फ्लो' उपग्रह जानकारियां देने के लिए जनवरी से ही चंद्रमा के चारों ओर उड़ान भर रहे थे। वक्तव्य में कहा गया है कि दोनों उपग्रहों का मुख्य कार्य चंद्रमा के गुरुत्वाकर्षण क्षेत्र को मापना था और इस साल मार्च से मई के बीच यह काम पूरा कर लिया गया था।

नासा अधिकारियों ने बताया कि 'ऐब्ब' और 'फ्लो' उपग्रह उनका मिशन समाप्त होने से पहले एक अंतिम प्रयोग करेंगे।

 
 
 
टिप्पणियाँ
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड