शुक्रवार, 28 अगस्त, 2015 | 12:58 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
झारखंड: चक्रधरपुर में बच्चे से छेड़छाड़ करनेवाला शिक्षक पदमुक्त, इससे पहले अभिभावकों ने स्कूल में हंगामा किया, इसके बाद फादर ने आरोपी शिक्षक को हटाने की घोषणा की।झारखंड: सी-सैट मुद्दे पर विधानसभा की कार्यवाही बाधित।
दो नए जिलों के पासपोर्ट आवेदक परेशान
First Published:16-04-2012 10:58:20 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM

गाजियाबाद। कार्यालय संवाददाता

रीजनल पासपोर्ट आफिस से जुड़े दो नए जिले पंचशीलनगर और प्रबुद्धनगर के लोगों को पासपोर्ट पाना मुश्किल हो गया है। मैनुअल आवेदन बंद होने के बाद अब दोनों जिलों के लोगों के पास केवल ऑनलाइन आवेदन की सुविधा ही एक मात्र विकल्प रह गई है। जबकि गाजियाबाद को छोड़ सभी जिलों में अभी जिला पासपोर्ट प्रकोष्ठ सेल पर आवेदन जमा किए जा सकते हैं। दोनों जिलों से हर रोज सौ से ज्यादा आवेदक पासपोर्ट आवेदन करते हैं। रीजनल पासपोर्ट कार्यालय गाजियाबाद में 11 जिलों के लोगों के पासपोर्ट बनाए जाते थे। सभी जिलों पर आवेदकों की सुविधा के लिए जिला प्रकोष्ठ सेल भी बने हैं। कोई भी आवेदक आवेदन के लिए मुख्य कार्यालय आने के बजाय अपने जिले में बने इन जिला प्रकोष्ठ सेल पर भी आवेदन कर सकता है। यहां फीस ड्राफ्ट के रूप में ली जाती है।

पासपोर्ट आवेदन की नई प्रक्रिया शुरू होने के बाद गाजियाबाद पासपोर्ट कार्यालय पर मैनुअल आवेदन फार्म स्वीकार करने बंद कर दिए गए। अब सभी जिलों के आवेदक ऑनलाइन की आवेदन कर सकते हैं। 11 जिलों के लोगों को साहिबाबाद आने से बचने के लिए लिए मैनुअल व्यवस्था है, लेकिन हाल ही मे दो नए बने जिले पंचशील नगर व प्रबुद्धनगर के लोगों के पास केवल ऑनलाइन की व्यवस्था है। इन आवेदकों को साहिबाबाद आना ही पड़ रहा है। दोनों जिलों से हर माह करीब तीन हजार से अधिक आवेदन किए जाते हैं।

दोनों जिले नए बने हैं। यहां जिला प्रकोष्ठ सेल नहीं बना सका। गाजियाबाद में मुख्य पासपोर्ट कार्यालय होने के कारण यहां का प्रकोष्ठ समाप्त कर दिया है। दोनों जिले को लोगों के पास आवेदन फार्म जमा करने के लिए मुख्य कार्यालय आना पड़ेगा। इसके अलावा कोई दूसरा रास्ता नहीं है। अमरेंद्र कुमार सेंगर, रीजनल पासपोर्ट अधिकारी

 
 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
Image LoadingLIVE:भारत के लंच तक दो विकेट पर 50 रन
श्रीलंका के खिलाफ तीसरे और आखिरी क्रिकेट टेस्ट के पहले दिन शुक्रवार को भारत ने लंच तक पहली पारी में दो विकेट पर 50 रन बनाए।
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
 
Image Loading

जब पप्पू पहंचा परीक्षा देने...
अध्यापिका: परेशान क्यों हो?
पप्पू ने कोई जवाब नहीं दिया।
अध्यापिका: क्या हुआ, पेन भूल आये हो?
पप्पू फिर चुप।
अध्यापिका : रोल नंबर भूल गए हो?
अध्यापिका फिर से: हुआ क्या है, कुछ तो बताओ क्या भूल गए?
पप्पू गुस्से से: अरे! यहां मैं पर्ची गलत ले आया हूं और आपको पेन-पेंसिल की पड़ी है।