रविवार, 26 अक्टूबर, 2014 | 07:23 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
Image Loading    राजनाथ सोमवार को मुंबई में कर सकते हैं शिवसेना से वार्ता नरेंद्र मोदी ने सफाई और स्वच्छता पर दिया जोर मुंबई में मोदी से उद्धव के मिलने का कार्यक्रम नहीं था: शिवसेना  कांग्रेस ने विवादित लेख पर भाजपा की आलोचना की केन्द्र ने 80 हजार करोड़ की रक्षा परियोजनाओं को दी मंजूरी  कांग्रेस नेता शशि थरूर शामिल हुए स्वच्छता अभियान में हेलमेट के बगैर स्कूटर चला कर विवाद में आए गडकरी  नस्ली घटनाओं पर राज्यों को सलाह देगा गृह मंत्रालय: रिजिजू अश्विका कपूर को फिल्मों के लिए ग्रीन ऑस्कर अवार्ड जम्मू-कश्मीर और झारखंड में पांच चरणों में मतदान की घोषणा
पीड़िता के परिजनों के निशाने पर दिल्ली पुलिस
बलिया, एजेंसी First Published:06-01-13 02:46 PMLast Updated:06-01-13 04:06 PM
Image Loading

दिल्ली गैंगरेप कांड की भेंट चढ़ी पीड़िता के परिजनों ने इस मामले में दिल्ली पुलिस द्वारा अदालत में दाखिल आरोपपत्र में कथित रूप से हत्या की धारा नहीं जोड़ने पर सख्त नाराजगी जाहिर करते हुए कहा है कि अगर पुलिस की ऐसी ही नीयत और हरकतें रहीं तो उनकी बेटी को कभी इंसाफ नहीं मिल पाएगा।

पीड़ित लड़की के भाई ने कहा कि दिल्ली पुलिस द्वारा अदालत में दाखिल आरोपपत्र में हत्या की धारा नहीं जोड़े जाने की खबर अगर सच है तो यह बहुत गलत और आपत्तिजनक है। यह इतने संवेदनशील मामले पर पुलिस की घोर लापरवाही को दर्शाता है। उन्होंने कहा कि अगर पुलिस का इस तरह का लापरवाही भरा रवैया रहा तो उनकी दिवंगत बहन तथा परिवार को न्याय नहीं मिल पाएगा।

लड़की के भाई ने कहा कि उनका परिवार दिल्ली पुलिस की कथित चूक के खिलाफ कानून के जानकारों से विचार-विमर्श करके आगे की कार्रवाई करेगा। गौरतलब है कि दिल्ली पुलिस ने शनिवार को अदालत में स्वीकार किया था कि गैंगरेप के बाद हत्या मामले में वह आरोपियों के खिलाफ हत्या के गम्भीर आरोप का जिक्र करना भूल गयी। उसने इसे टाइपिंग की गलती होने का दावा किया था।

लड़की के भाई ने अपनी बहन के मित्र के उस बयान को सही करार दिया है जिसमें कहा गया है कि दरिंदगी की शिकार हुई उस लड़की ने बलात्कारियों को जलाकर मार डालने की बात कही थी। उन्होंने मीडिया से अपील की कि वह उनकी निजता के अधिकार का सम्मान करें।

 

 
 
 
 
टिप्पणियाँ