मंगलवार, 26 मई, 2015 | 19:13 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    दिल्ली विधानसभा: विशेष सत्र में हंगामा, बीजेपी विधायक को बाहर निकाला  यूपी: गर्मी का कहर जारी, राहत के आसार नहीं इस रेस्टोरेंट में आने वालों को बनना पड़ता है कैदी प्रतापगढ़ में रोडवेज के कैशियर की हत्या कर साढ़े सात लाख की लूट  सलमान को दुबई जाने के लिए कोर्ट से मिली अनुमति वसीम रिजवी शिया वक्फ बोर्ड के फिर चेयरमैन साहित्यिक चोरी के आरोप में 'पीके' के निर्माताओं को नोटिस 9 अधिकारियों के तबादले के बाद एलजी से मिले केजरीवाल  कांग्रेस के दस साल पर भारी भाजपा का एक साल: स्मृति दुनिया कर रही हरमन की तारीफ, किसी ने भेजा कार्ड तो किसी ने फर्नीचर
खुदरा क्षेत्र में FDI को लोकसभा की मंजूरी से उद्योग जगत खुश
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:06-12-12 02:10 PM
Image Loading

भारतीय उद्योग जगत ने बहु ब्रांड खुदरा क्षेत्र में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई) को लोकसभा की मंजूरी का स्वागत करते हुए कहा है कि इससे विदेशी निवेशकों को मजबूत संकेत जाएगा और सरकार को आर्थिक सुधारों को आगे और बढ़ाने में मदद मिलेगी।

उद्योग मंडल फिक्की के अध्यक्ष आरवी कनोडिम्या ने कहा है कि यह एक स्वागत योग्य घटनाक्रम है। हम इस मुद्दे पर सरकार का पूरा समर्थन करते हैं। देश को आगे बढ़ना है। हमें विदेशी निवेशकों को मजबूत संकेत देना है।

इसी तरह की राय जाहिर करते हुए सीआईआई के महानिदेशक चंद्रजीत बनर्जी ने कहा कि यह एक महत्वपूर्ण बात है। इससे सरकार को महत्वपूर्ण सुधारों को लागू करने का विश्वास मिलेगा। इस कदम निश्चित रूप से सरकार को और सुधारों को आगे बढ़ाने में मदद मिलेगी।

रिटेलर्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया ने भी इसे एक बड़ा सकारात्मक कदम बताया। एसोसिएशन के सीईओ कुमार राजगोपालन ने कहा कि यह उन लोगों के लिए एक और उत्साहजनक कदम है, जो भारत में निवेश की तैयारी में हैं।

पैंटालून रिटेल इंडिया के संयुक्त प्रबंध निदेशक राकेश बियाणी ने कहा कि यह एक स्वागत योग्य घटनाक्रम है। हमें उम्मीद है कि जल्द ही इस फैसले को लागू किया जाएगा। भारतीय खुदरा क्षेत्र के लिए एफडीआई अच्छा कदम है।

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
Image Loadingधौनी से कप्तानी के गुर सीखे : होल्डर
वेस्टइंडीज की वनडे टीम के युवा कप्तान जैसन होल्डर को लगता है कि चेन्नई सुपरकिंग्स के साथ बिताये गये दिनों में उन्हें किसी और से नहीं बल्कि भारत के सीमित ओवरों की टीम के कप्तान महेंद्र सिंह धौनी से कप्तानी के गुर सीखने को मिले थे।