class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

हर्बल स्पे्र से लग सकेगा दंगाईयों पर लगाम

नई दिल्ली। वरिष्ठ संवाददाता

दंगे और प्रदर्शनों के दौरान पुलिस और सुरक्षाकर्मियों के लिए भीड़ को नियंत्रण करना खासा मुश्किल होता है। पुलिस और सैन्य बल एंटी रायट शील्ड और डंडे के सहारे परिस्थिति को नियंत्रित करते हैं। लेकिन अब महज हर्बल स्प्रे और डंडे से भीड़ पर काबू पाया जा सकेगा। हर्बल स्प्रे समेत कई उत्पादों को गुरुवार को अंतरराष्ट्रीय पुलिस एक्सपो में प्रदर्शित किया गया।

खास बात यह है कि यह स्प्रे डीआरडीओ के निर्देशन में तैयार किया गया है। आयोजकों ने बताया कि इससे पुलिस के सामने आने वाले व्यक्ति को कोई नुकसान नहीं होता लेकिन कुछ देर के लिए वह समझ नहीं पता है कि उसके साथ क्या हुआ। इसका इस्तेमाल करने वाले को इसे अपने हाथ में रखना होता है। जैसे ही कोई उनके नजदीक आता है तो उस पर इसे छिड़क दिया जाता है।

प्रीपोम्टर एक्सप्लोसिव डिटेक्टर

कई बार बम विस्फोट होने वाली जगह पर यह पता लगाना मुश्किल होता है कि विस्फोटक कौन सा था, ऐसे में इस डिटेक्टर के इस्तेमाल से महज कुछ सेकेंड में इस बात का पता लग जाएगा। प्रीपोम्टर एक्सप्लोसिव डिटेक्टर के प्रभाव में आते ही इस बात का पता चल जाएगा। हालांकि यह बनने की अवस्था में है और लेजर रमन स्पैक्ट्रोस्कोपी के सिद्धांत पर काम करता है।

साढ़े चार किलो की बुलेटप्रूफ जैकेट

एक्सपो में हल्की बुलेटप्रूफ जैकेट भी आकर्षण का केंद्र रही। इस जैकेट का वजन महज साढ़े चार किलो है। वर्तमान में इस्तेमाल हो रही बुलेटप्रूफ जैकेट का वजन 10 किलो के करीब होता है। ऐसे में यह सुरक्षा के लिहाज से वैसी ही अचूक है। साथ ही सुरक्षाकर्मियों को किसी भी ऑपरेशन में काम करना भी आसान रहता है। जैकेट के अलावा यहां मौजूद स्टॉल पर बुलेटप्रूफ हैट भी प्रदर्शित किया गया।

शोल्डर लाइट और डायरेक्शन लाइट ग्लव्स

रात के समय ट्रैफिक को नियंत्रित करने में शोल्डर लाइट और डायरेक्शन लाइट ग्लव्स काफी कारगर हैं। ग्लव्स के माध्यम से रात के समय ट्रैफिक पुलिस आसानी से लोगों से संवाद कर सकेगी। वहीं शोल्डर कैमरे भी यहां प्रदर्शित किया गया, इस कैमरे से ट्रैफिक पुलिस लोगों को रोकते समय क्या बात कर रही है? यह रिकॉर्ड हो सकेगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:police expo shows many modern technology