Image Loading medicin not available in PHC - LiveHindustan.com
सोमवार, 05 दिसम्बर, 2016 | 10:00 | IST
Mobile Offers Flipkart Mobiles Snapdeal Mobiles Amazon Mobiles Shopclues Mobiles
खोजें
ब्रेकिंग
  • पाकिस्तानः कराची के रिजेंट प्लाजा होटल में आग लगने से 11 लोगों की मौत, 70 घायल
  • पढ़ें वरिष्ठ हिंदी लेखक महेंद्र राजा जैन का ये लेख, 'उनके लिए तो नाम में ही सब कुछ...
  • पढ़ें मिंट के संपादक आर सुकुमार का ब्लॉग, 'नए मानकों की तलाश करते कारोबार'
  • चेन्नईः जयललिता की सलामती के लिए समर्थक कर रहे हैं दुआ, अपोलो अस्पताल के बाहर...
  • एक ही नजर में शिखर धवन को भा गई थीं आयशा, भज्जी बने थे लव गुरु। क्लिक करके पढ़ें...
  • भविष्यफल: धनु राशिवाले आज आत्मविश्वास से परिपूर्ण रहेंगे और परिवार का सहयोग...
  • हेल्थ टिप्स: ये हैं हेल्दी लाइफस्टाइल के 5 RULE, डाइट में शामिल करने से पेट रहेगा फिट
  • GOOD MORNING: जयललिता को दिल का दौरा पड़ा, अस्पताल के बाहर जुटे हजारों समर्थक, अन्य बड़ी...

10 साल में बुखार की एक गोली तक नहीं मिली

लालढांग हमारे संवाददाता First Published:02-12-2016 04:33:15 PMLast Updated:02-12-2016 04:40:16 PM

लालढांग क्षेत्र के ग्राम गैंडीखाता की गुर्जरबस्ती में बना प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पिछले 10 साल से सफेद हाथी साबित हो रहा है। भवन बनने के बाद आज तक केंद्र में स्वास्थ्य सेवाएं शुरू नहीं हो पाई हैं। इतने वर्षों में इस केंद्र से किसी मरीज को दवा की एक गोली तक नहीं मिली है। गैंडीखाता के गुर्जरबस्ती क्षेत्र में पर्याप्त स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध नहीं हैं। यहां रहने वाले लोगों को बीमारी की स्थिति में कई किमी का सफर तय करना पड़ता है। 2006 में गुर्जरबस्ती में प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र का भवन बनाया गया था। लोगों को उम्मीद थी कि छोटी-छोटी बीमारियों के लिए उन्हें अब लंबा सफर तय नहीं करना पड़ेगा। लेकिन भवन निर्माण के बाद स्वास्थ्य विभाग आगे की व्यवस्थाएं नहीं कर पाया। आज तक यहां स्टाफ तैनात नहीं किया गया है।लोग बीमारी में पांच किमी दूर गैंडीखाता और 15 किमी दूर लालढांग प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पर जाने के लिए मजबूर हैं। स्थानीय ग्रामीण बाबू खटाना, नूर, गामा, शफी लोधा, अब्दुल, मुस्तफा आदि का कहना है कि 2005-06 में बने प्राथमिक चिकित्सा केंद्र में आज तक न ही डाक्टर की तैनाती हुई और न ही आज तक दवाएं यहां आईं। नजाकत अली, इरशाद, शमशेर अली, युसूफ का कहना है कि इलाज के लिए उन्हें 15 किमी दूर लालढांग या 25 किमी हरिद्वार जाना पड़ता है। कई बार मुख्यमंत्री, स्वास्थ्य मंत्री और मुख्य चिकित्साधिकारी को लिखित प्रार्थना पत्र भेज पीएचसी में डॉक्टर और अन्य सुविधाएं उपलब्ध कराने की मांग की जा चुकी है। लेकिन कोई समाधान नहीं हुआ। कोट गुर्जरबस्ती के प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र का मामला मेरे संज्ञान में नहीं है। यदि भवन बना है तो इस मामले को दिखवाया जाएगा। जरूरत के मुताबिक व्यवस्था की जाएगी।डॉ जीएस पंगपांगी, सीएमओ हरिद्वार

जरूर पढ़ें

 
Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
Web Title: medicin not available in PHC
 
 
 
अन्य खबरें
 
From around the Web
जरूर पढ़ें
Rupees
क्रिकेट स्कोरबोर्ड