class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

निर्मल विरक्त कुटिया मामले में आरोपी की जमानत रद्द

: ऊधमसिंह नगर के किच्छा का निवासी है आरोपी: संपत्ति हड़पने के लिए फर्जी कागजात बनाने का आरोपहरिद्वार। हमारे संवाददाताकनखल स्थित निर्मल विरक्त कुटिया की संपत्ति हड़पने की नीयत से धोखाधड़ी और कूटरचना करने के मामले में जिला जज डीपी गैरोला ने आरोपी संत भगवान सिंह की जमानत अर्जी निरस्त कर दी है। पूर्व दायित्वधारी आरोपी सुखदेव सिंह नामधारी समेत आठ लोगों पर धोखाधड़ी करने का केस दर्ज किया गया है। जिला शासकीय अधिवक्ता इन्द्रपाल सिंह बेदी ने बताया कि धोखाधड़ी के मामले में मुख्य आरोपी प्रवीण यादव, सुखदेव सिंह नामधारी और अन्य पर आश्रम की संपत्ति को हड़पने के मकसद से कूटरचना से फर्जी कागजात तैयार कर इस्तेमाल करने का आरोप है। यहीं नही, आरोपियों पर फर्जी कमेटी और वादी का झूठा शपथ पत्र बनाकर इस्तीफा तैयार कर इस्तेमाल करने का आरोप लगाया है। वादी महंत ने आरोपियों पर आश्रम की संपत्ति हड़पने के विरोध के चलते उसे जान से मारने की धमकी देने का आरोप भी लगाया है। वर्ष 2009 में आश्रम के महंत भगवंत सिंह चेला बलबीर सिंह ने आरोपी समेत सभी लोगों के खिलाफ कोर्ट में शकायत दी थी। मामले की सुनवाई करने के बाद जिला जज की अदालत ने आरोपी संत भगवान सिंह पुत्र सुरजीत सिंह चेला संत ज्योति प्रकाश निवासी दरऊ रोड, निकट राधास्वामी सत्संग भवन, किच्छा (ऊधमसिंह नगर) की जमानत याचिका खारिज कर दी है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Nirmal detached cottage canceled the bail of the accused