class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

हाथियों के डर से समय से पहले फसल काट रहे किसान

: पथरी क्षेत्र में लगातार बना हुआ है हाथियों का आतंक: पिछले कई दिनों से लगातार फसल को पहुंचा रहे नुकसानहरिद्वार हमारे संवाददातापथरी के कई गांव में हाथियों का इतना खौफ है कि किसान समय से पहले ही अपनी फसल काटने लगे हैं। किसानों ने धान की कटाई शुरू कर दी है। हालांकि हाथियों ने जिन किसानों की फसलों को बर्बाद किया है, वन विभाग उनकी रिपोर्ट तैयार कर रहा है। ताकि किसानों को बर्बाद फसलों का पूरा मुआवजा मिल सके।क्षेत्र के रानीमाजरा, कटारपुर, चांदपुर, बिशनपुर, कुण्डी आदि गांव में इन दिनों धान और गन्ने की फसलों पर हाथियों के झुंड आए दिन आ रहे हैं। किसान अपनी पकी हुई फसलों को बचाने के लिए रात में फसलों की रखवाली कर रहे हैं। अब किसान ज्यादा जोखिम लेने को तैयार नहीं हैं। अपनी धान की पकी हुई फसल बर्बाद होने से बचाने के लिए दस दिन पहले ही काटना शुरू कर दिया है। महंत आकाश मुनि ने बताया कि हाथी धान की फसलो में जमकर उत्पात मचाते हैं। यदि किसान उन्हें रोकने का प्रयास करते हैं, तो हाथी पीछे दौड़ लगा देते हैं। ग्रामीणों ने बरबाद हुई फसलों के मुआवजे और वन विभाग से रात में गश्त बढ़ाने की मांग की थी, लेकिन सुनवाई नहीं हुई। निराश किसानों ने समय से पहले ही फसलों को काटना शुरू कर दिया है।चांदपुर के कोसिन का कहना है कि वन विभाग फसलों का मुआवजा तो दिलाने की बात कह रहा है, लेकिन हाथियों की रोकथाम के लिए ठोस कदम नहीं उठाये जा रहे हैं। ग्रामीणों में राधे, योगेन्द्र चौहान, चंद्र प्रकाश, दिनेश, संजू चौहान, शेखर, रविंदर चौहान, राजेश सैनी, पंकज चौहान, राकेश सैनी, प्रमोद चौहान, परमिंदर, सोनू, निता, राम कुमार, नूतन कुमार, चमन लाल, प्रदीप चौहान, रिशु आदि की मांग है कि हाथियों की बढ़ती आवाजाही पर रोक लगाई जाए। क्षेत्र में हाथियों की आवाजाही रोकने के लिए सेंथिल लाइन की मरम्मत का काम शुरू कराया जा रहा है। किसानों की फसलों के नुकसान का मुआवजा दिलाया जायेगा।-महेश सेमवाल, रेंजर, वन विभाग

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Farmers fear of elephants premature harvest
From around the web