class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

डबरालस्यूं पट्टी में होगा पलायन का अध्ययन

डबराल बंधु जन विकास समिति की ओर से डबरालस्यूं पट्टी के अंतर्गत आने वाले गांवों में पलायन का अध्ययन किया जाएगा। इसके लिए 21 से 24 अक्तूबर तक पैदल यात्रा का अभियान चलेगा। बुधवार को समिति की बैठक में यह निर्णय लिया गया।

बैठक के दौरान अभियान के मुख्य संयोजक दिनेश डबराल ने बताया कि 15 सदस्यीय दल ढ़ौरी, तिमली, डंगला, डाबर, जमरिस्यार, जामल, स्यालना, कठूड़, चमस्यूल, गहली, कूतंणी, मसोगी, डओली, अमाल्डू व जल्डा गांवों में बैठक करेगा। फिर इन गांवों का पलायन, जनसंख्या, खेती व पशुपालन की स्थिति का अध्ययन किया जाएगा। फिर आंकड़ों के आधार पर पलायन के व्यवहारिक हल ढूंढने का प्रयास होगा। स्वरोजगार के अवसर देखने के लिए भी चिंतन किया जाएगा। समिति के अध्यक्ष उमाकांत डबराल ने कहा कि समिति की ओर से विगत बीस साल से शहरों में बस चुके लोगों के लिए चलो गांव की ओर कार्यक्रम आयोजित किए जाते रहे हैं। गांव में बंजर हो रहे खेत चिंता का विषय है। समिति के सचिव सतीश डबराल ने बताया कि अभियान के तहत स्वच्छता, नशामुक्ति को लेकर भी जन जागरण किया जाएगा। बैठक में अशोक डबराल, आचार्य अजय डबराल, हरि विलास डबराल, मोहन लाल, प्रेमलाल डबराल, दिनेश कुमार, सत्य प्रकाश डबराल, मुकुंद डबराल आदि मौजूद थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Dbralsun will study migration