class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

70 दिन तक आंदोलन करने वालों की उपेक्षा

कीर्तिनगर तहसील को लेकर लंबे समय तक आंदोलन, धरना प्रदर्शन व भूख हड़ताल करने वाले आंदोलनकारियों ने तहसील का उद्घाटन होने पर हर्ष जताया है। उन्होंने कहा कि तहसील स्थापना को लेकर कुछ लोगों में श्रेय लेने की होड़ मची हुई है। उद्घाटन के दिन जो क्षेत्रीय जनप्रतिनिधि मंच पर थे उन्होंने तहसील के आंदोलन करने वाले लोगों का जिक्र तक नहीं किया। जिससे आंदोलनकारियों की उपेक्षा हुई है। तहसील आंदोलनकारी कोठार के पूर्व प्रधान भगत सिंह नेगी, नैथाणा के शिव सिंह चौहान, पूर्व क्षेत्र पंचायत सदस्य कलमू कोहली ने कहा कि 70 दिन तक धरना प्रदर्शन करने के बावजूद उद्घाटन के दिन किसी भी वक्ता ने आंदोलनकारियों का नाम तक नहीं लिया। उन्होंने कहा पूर्व कैबिनेट मंत्री शूरवीर सजवाण ने कीर्तिनगर शहीदी मेले में मुख्यमंत्री से तहसील की घोषणा करवाई थी। उनके इस योगदान को भी वक्ताओं ने दरकिनार किया। कहा व्यक्तिगत स्वार्थ की इस राजनीति से आंदोलन में सक्रिय रहे बडियारगढ़, थाती डागर, कड़ाकोट, मलेथा व चौरास कीर्तिनगर के लोगों की अनदेखी की गई है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:70-day movement of people neglect