class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

भाजपा की सरकार बनने पर एक रूपए में एक किलो अनाज

आगामी विधानसभा चुनाव को देखते हुए भाजपा ने लोगों को रिझाने का काम शुरू कर दिया है। सिंघल मंडी में हुई जनसभा में भाजपा राष्ट्रीय महामंत्री कैलाश विजयवर्गीय ने कहा कि उत्तराखंड में भाजपा की सरकार आने पर गरीबों को मध्यप्रदेश की तर्ज पर एक रूपए में एक किलो अनाज मिलेगा।

बुधवार को भाजपा की ओर से सिंघल मंडी में आयोजित जनसभा को संबोधित करते हुए राष्ट्रीय महामंत्री पूरी तरह से इलेक्शन मूड में दिखे। उन्होंने कहा कि मध्य प्रदेश में भाजपा की सरकार है और वहां पर एक रूपए में एक किलो अनाज गरीबों को मिलता है। अगर उत्तराखंड में भाजपा की सरकार आयी तो यहां भी उसी रेट में अनाज मिलेगा। उन्होंने मलिन बस्तियों के नियमितीकरण के मसले पर कहा कि कांग्रेस सरकार अब तक कुछ नहीं कर पायी है। भाजपा की सरकार आने पर वह पट्टे बांटने का काम करेगी। उन्होंने कांग्रेस पर आरोप लगाया कि केंद्र के पैसे भी प्रदेश सरकार भ्रष्टाचार कर रही है। भाजपा प्रदेश अध्यक्ष अजय भट्ट ने केंद्र की योजनाओं को गिनाते हुए कहा कि आज पीएम मुद्रा बैंक का तमाम लोग फायदा ले चुके हैं। उन्होंने प्रदेश सरकार को आड़े हाथ लेते हुए कहा कि राज्य में खनन, शराब माफिया का राज चल रहा है। मेयर विनोद चमोली ने कहा कि हरीश सरकार ने मलिन बस्तियों के नियमितीकरण एक्ट में ऐसा बिंदु डाल दिया है जिससे निजी भूमि में बसे लोगों को पट्टा नहीं मिल सकता है। महानगर अध्यक्ष उमेश अग्रवाल ने कहा कि बस्तियों के नियमितीकरण पर सरकार गुमराह कर रही है। इस दौरान तमाम कांग्रेसी भाजपा में शामिल हुए। कार्यक्रम में प्रदेश संगठन महामंत्री संजय कुमार, प्रदेश महामंत्री नरेश बंसल, महानगर महामंत्री राजेंद्र सिंह ढिल्लो, भाजयुमो महानगर अध्यक्ष श्याम पंत, अजीत चौधरी, पार्षद सुशील गुप्ता, आलोक कुमार, अमिता देवी, अनंत सागर, मंसूर खान, राजकुमार कक्कड़, राजेंद्र रावत आदि मौजूद थे।

शराब, खनन पर रंजीत रावत टैक्स

राष्ट्रीय महामंत्री कैलाश विजय वर्गीय ने प्रदेश सरकार पर हमला बोलते हुए कहा कि प्रदेश में शराब, खनन पर रंजीत रावत टैक्स लिया जाता है। फिर यह टैक्स रंजीत रावत के पास पहंुचने पर अन्यों को बंटता है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: BJP formed the government at one rupee a kg of grain
From around the web