शनिवार, 05 सितम्बर, 2015 | 21:46 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
युवराज, हरभजन और जहीर का चौथे टेस्ट से पत्ता कटा
कोलकाता, एजेंसी First Published:09-12-2012 03:33:43 PMLast Updated:09-12-2012 05:02:24 PM
Image Loading

इंग्लैंड के हाथों लगातार दो टेस्ट में शिकस्त के बाद भारतीय क्रिकेट चयनकर्ताओं ने अनुभवी तेज गेंदबाज जहीर खान और बल्लेबाज युवराज सिंह को गुरुवार से नागपुर में शुरू हो रहे चौथे और अंतिम टेस्ट की टीम से बाहर कर दिया।

कोलकाता में तीसरे टेस्ट में नहीं खेलने वाले आफ स्पिनर हरभजन सिंह को भी टीम में जगह नहीं मिली है। टीम ने इनकी जगह लेग स्पिनर पीयूष चावला के अलावा दिल्ली के युवा तेज गेंदबाज परविंदर अवाना और सौराष्ट्र के आलराउंडर रविंद्र जडेजा को चुना है।

संदीप पाटिल की अगुआई वाले चयन पैनल की बैठक के बाद बीसीसीआई सचिव संजय जगदाले ने टीम की घोषणा की। चयनकर्ताओं ने साथ ही 20 दिसंबर को पुणे और 22 दिसंबर को मुंबई में होने वाले टी20 मैचों के लिए टीम की घोषणा भी की। इस टीम में अवाना और उत्तर प्रदेश के भुवनेश्वर कुमार दो नए चेहरे हैं। वीरेंद्र सहवाग और जहीर खान को टीम में जगह नहीं मिली है और बोर्ड ने कहा कि ये श्रृंखला के लिए उपलब्ध नहीं रहेंगे।

जगदाले ने कहा कि मैं चयन मुद्दों पर प्रतिक्रिया नहीं देना चाहता। जब टीम हारती है तो किसी को भी खुशी नहीं होती। हम इस पर गौर कर रहे हैं, हम इस पर काम कर रहे हैं। जडेजा और अवाना ने हाल में घरेलू क्रिकेट में काफी अच्छा प्रदर्शन किया है।

मुंबई और कोलकाता में हार के बाद चयनकर्ताओं पर टीम में बदलाव करने का दबाव था। राष्ट्रीय चयनकर्ता हालांकि टीम में आमूलचूल बदलाव करने से बचे। इसी वजह से खराब प्रदर्शन करने के बावजूद कुछ स्टार खिलाड़ियों को टीम में बरकरार रखा गया जबकि स्पिनर आर अश्विन और प्रज्ञान ओज्ञा भी टीम में अपनी जगह बचाने में सफल रहे।

आफ स्पिनर अश्विन गेंदबाज के रूप में विफल रहे लेकिन दूसरी पारी में उन्होंने नाबाद 90 रन बनाए। जडेजा के टीम में शामिल होने से टीम को आलराउंडर का विकल्प मिला है। विशेषकर तब जब मध्यक्रम के बल्लेबाज प्रभाव छोड़ने में नाकाम रहे हैं। विराट कोहली का प्रदर्शन लचर रहा है जबकि सचिन तेंदुलकर भी रनों के लिए जूझ रहे हैं। से हटाया गया

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
क्रिकेट स्कोरबोर्ड Others
 
Image Loading

अलार्म से नहीं खुलती संता की नींद
संता बंता से: 20 सालों में, आज पहली बार अलार्म से सुबह-सुबह मेरी नींद खुल गई।
बंता: क्यों, क्या तुम्हें अलार्म सुनाई नहीं देता था?
संता: नहीं आज सुबह मुझे जगाने के लिए मेरी बीवी ने अलार्म घड़ी फेंक कर सिर पर मारी।