रविवार, 26 अक्टूबर, 2014 | 00:27 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
Image Loading    राजनाथ सोमवार को मुंबई में कर सकते हैं शिवसेना से वार्ता नरेंद्र मोदी ने सफाई और स्वच्छता पर दिया जोर मुंबई में मोदी से उद्धव के मिलने का कार्यक्रम नहीं था: शिवसेना  कांग्रेस ने विवादित लेख पर भाजपा की आलोचना की केन्द्र ने 80 हजार करोड़ की रक्षा परियोजनाओं को दी मंजूरी  कांग्रेस नेता शशि थरूर शामिल हुए स्वच्छता अभियान में हेलमेट के बगैर स्कूटर चला कर विवाद में आए गडकरी  नस्ली घटनाओं पर राज्यों को सलाह देगा गृह मंत्रालय: रिजिजू अश्विका कपूर को फिल्मों के लिए ग्रीन ऑस्कर अवार्ड जम्मू-कश्मीर और झारखंड में पांच चरणों में मतदान की घोषणा
फॉर्म में लौटने की उम्मीद कर रहे हैं युवी
कोलकाता, एजेंसी First Published:03-01-13 04:08 PMLast Updated:03-01-13 04:26 PM
Image Loading

विश्व कप 2011 के हीरो युवराज सिंह ने कहा है कि नववर्ष पर वह पुराने फॉर्म में लौटने की उम्मीद कर रहे हैं।

युवराज ने पूर्व अमेरिकी सायक्लिस्ट लैंस आर्मसट्रॉन्ग से प्रेरणा लेते हुए कहा कि यह वर्ष मेरे लिए बहुत रोमांचपूर्ण रहने वाला है और इसी से पता चलेगा कि मैं अपने फॉर्म में लौट पाता हूं या नहीं।
 
युवराज ने कैंसर के प्रति जागरुकता फैलाने वाली अपनी संस्था 'यू वी फैन' तथा अपोलो अस्पताल के बीच बुधवार को हुए करार के दौरान यह बात की। उन्होंने बताया कि पिछला वर्ष उनके जीवन का सबसे कठिन दौर रहा लेकिन उन्होंने इस बीमारी को मात देकर दोबारा क्रिकेट खेलना शुरु कर दिया।
 
उन्होंने कहा कि आर्मस्ट्रॉन्ग के साथ पिछले वर्ष जो कुछ भी हुआ मैंने वह सब अखबारों में पढ़ा लेकिन इसके बाद मैंने उन्हें संदेश भेजा कि वह हमेशा मेरे हीरो रहेंगें चाहे दुनिया उनके बारे में कुछ भी कहती रहे। आर्मस्ट्रॉन्ग ने जिस जज्बे से कैंसर को मात देकर अपने करियर में सफलता हासिल की उसे देखते हुए वह हमेशा मेरे आदर्श रहेंगें। आप अब तक कहानियों में ली सुपरहीरों किरदारों के बारे में सुनते आए हैं लेकिन आमस्ट्रॉन्ग मेरे लिए एक हीरो ही हैं।
 
युवी ने कहा कि वनडे से सचिन तेंदुलकर की विदाई वाकई में दुखद है। उन्होंने कहा कि एक अच्छा खिलाड़ी विदा ले चुका है और अब उनकी कामयाबियों के बारे में चर्चा करने का कोई औचित्य नहीं है क्योंकि चर्चा करते करते एक वर्ष आसानी से बीत जाएगा। सचिन मेरे बड़े भाई की तरह थे। वह हमेशा मेरी प्रेरणा रहे थे।
 
 
 
टिप्पणियाँ