बुधवार, 27 मई, 2015 | 09:07 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    रिजिजू बोले, मैं खाता हूं बीफ, मुझे कोई रोक सकता है क्या? जारी है जश्न-ए-मोदी सरकार, आज सूरत में शाह की रैली प्रियंका गांधी आज रायबरेली दौरे पर, सोनिया कल आएंगी  लू और गर्मी से दो दिनों तक नहीं मिलेगी राहत, 1100 मरे केंद्र को केजरीवाल की चुनौती, आदेश खारिज करने के लिए लाए प्रस्ताव दिल्ली विधानसभा: विशेष सत्र में हंगामा, बीजेपी विधायक को बाहर निकाला  यूपी: गर्मी का कहर जारी, राहत के आसार नहीं इस रेस्टोरेंट में आने वालों को बनना पड़ता है कैदी प्रतापगढ़ में रोडवेज के कैशियर की हत्या कर साढ़े सात लाख की लूट  सलमान को दुबई जाने के लिए कोर्ट से मिली अनुमति
ग्रेग की याद में क्लार्क ने पहना उनकी तरह गुलूबंद
सिडनी, एजेंसी First Published:03-01-13 01:25 PM
Image Loading

दिवंगत क्रिकेटर और कमेंटेटर टोनी ग्रेग की याद में ऑस्ट्रेलियाई कप्तान माइकल क्लार्क ने श्रीलंका के खिलाफ गुरुवार से शुरू हुए दूसरे टेस्ट में उनकी तरह गुलूबंद पहना। मैच शुरू होने से पहले स्टम्प पर उनकी ट्रैडमार्क टोपी भी रखी गई थी।
    
खिलाड़ियों ने दक्षिण अफ्रीका में जन्में इंग्लैंड के पूर्व कप्तान के सम्मान में बांह पर काली पट्टियां भी पहनी हुई थी। ग्रेग का फेफड़ों के कैंसर से जूझने के बाद पिछले सप्ताह दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया। ग्रेग के बेटे टॉम ने मैच से पहले क्लार्क को उनका गुलूबंद दिया था। क्लार्क ने कहा कि वह क्रिकेट जगत के प्रेरणास्रोत थे।
     
उन्होंने बागी विश्व सीरिज क्रिकेट का जिक्र करते हुए कहा कि ग्रेगी ने खेल में काफी योगदान दिया। कैरी पैकर और टोनी ग्रेग नहीं होते तो खेल आज यहां तक नहीं पहुंचा होता। खिलाड़ियों ने उनकी याद में एक मिनट का मौन भी रखा जिसमें साथी कमेंटेटरों ने उन्हें श्रद्धांजलि दी।
     
रिची बेनो ने कहा कि वह हर मायने में काफी मजबूत थे। उनके साथ बहुत मजा आता था। हम वैसा ही करेंगे जैसी उनकी इच्छा थी। खेल के अंत में हमारे साथी और दोस्त की याद में एक जाम उठायेंगे। ग्रेग की याद में आज मैच देखने आये हजारों दर्शकों ने उनकी तरह टोपी पहनी थी।

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
Image Loadingधौनी से कप्तानी के गुर सीखे : होल्डर
वेस्टइंडीज की वनडे टीम के युवा कप्तान जैसन होल्डर को लगता है कि चेन्नई सुपरकिंग्स के साथ बिताये गये दिनों में उन्हें किसी और से नहीं बल्कि भारत के सीमित ओवरों की टीम के कप्तान महेंद्र सिंह धौनी से कप्तानी के गुर सीखने को मिले थे।