शनिवार, 30 मई, 2015 | 01:49 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    केजरीवाल को सुप्रीम कोर्ट और हाई कोर्ट का डबल झटका, एलजी ही करेंगे नियुक्ति   क्या दाऊद को जल्द भारत ला रही सरकार बीएमडब्ल्यू ने पेश किया ग्रान कूपे का नया मॉडल  चीन में आमिर का एलियन अवतार हुआ हिट चीन में आमिर का एलियन अवतार हुआ हिट सायना की हार के साथ भारतीय चुनौती समाप्त 26 लड़कियों से रेप के आरोपी टीचर को मौत की सजा दिल्ली एयरपोर्ट पर रेडियोएक्टिव पदार्थ लीक से मचा हड़कंप, काबू में लीकेज स्पेलिंग बी प्रतियोगिता में फिर से भारतीयों का बोलबाला सरकारी नौकरीः 400 से ज्यादा दसवीं पास से लेकर इंजीनियर तक वैकेंसी
सचिन के समक्ष समय रुक जाता था: टाइम पत्रिका
मुम्बई, एजेंसी First Published:23-12-12 06:27 PMLast Updated:24-12-12 05:37 PM
Image Loading

विश्व की प्रमुख पत्रिकाओं में से एक टाइम ने रविवार को एकदिवसीय अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास की घोषणा करने वाले भारत के महान बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर की तारीफ करते हुए कहा कि सचिन क्रिकेट जगत की वह शख्सियत हैं, जिनके आगे समय भी रुक जाया करता था।

सचिन के सम्मान में पत्रिका ने लिखा है, ''समय किसी को नहीं छोड़ता। वह हर किसी पर भारी पड़ता है, लेकिन एक समय ऐसा भी था, जब खुद समय सचिन के आगे रुक जाया करता था। हमें चैम्पियन मिलेंगे, हमें महान खिलाड़ी मिलेंगे लेकिन हमें फिर कभी कोई दूसरा सचिन तेंदुलकर नहीं मिलेगा।''

''सचिन जब पाकिस्तान के तेज गेंदबाजों का सामना करने के लिए पाकिस्तान पहुंचे थे, तब माइकल शूमाकर ने एफ-1 में अपनी खनक नहीं दिखाई थी और न ही लांस आर्म्सट्रांग ने कभी टूर डी फ्रांस में हिस्सा लिया था। डिएगो मैराडोना विश्व कप जीतने वाली अर्जेटीनी टीम के कप्तान थे और पीट सैम्प्रास ने कभी कोई ग्रैंड स्लैम नहीं जीता था।''

''सचिन ने जब इमरान खान और उनकी टीम की बखिया उधेड़ते हुए अपने शानदार करियर की शुरुआत की थी तब रोजर फेडरर का नाम सुना भी नहीं गया था। उस समय लियोनेल मेसी बच्चों थे और उसैन बोल्ट बचपन के मजे ले रहे थे। यह वह वक्त था जब बर्लिन की दीवार खड़ी थी। यूएसएसआर एक देश था और मनमोहन सिंह ने नेहरूवादी अर्थव्यवस्था की शुरुआत नहीं की थी।''

तेंदुलकर ने 463 एकदिवसीय मैचों में 44.83 की औसत से 18,426 रन बनाए हैं जिनमें 49 शतक और 96 अर्धशतक शामिल हैं। इसके अलावा उनका व्यक्तिगत स्कोर नाबाद 200 है।

2010 में तेंदुलकर ने दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ ग्वालियर में नाबाद 200 रनों की पारी खेली थी। एकदिवसीय क्रिकेट में दोहरा शतक लगाने वाले वह विश्व के इकलौते खिलाड़ी हैं।

तेंदुलकर ने अपना अंतिम एकदिवसीय मैच पाकिस्तान के खिलाफ एशिया कप में 18 मार्च, 2012 को ढाका में खेला था। इस मुकाबले में उन्होंने मैच जिताऊ अर्धशतक लगाया था।

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
Image Loadingअंतिम 11 में जगह मिलने की नहीं थी उम्मीद : सरफराज
इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) में अपने प्रदर्शन से प्रभावित करने वाले रॉयल चैलेंजर्स बेंगलोर (आरसीबी) के सबसे युवा बल्लेबाज सरफराज खान का कहना है कि उन्हें क्रिस गेल, ए.बी. डीविलियर्स और विराट कोहली जैसे विध्वंसक बल्लेबाजों के बीच अंतिम 11 में जगह मिलने का यकीन नहीं था और नम्बर छह की बेहद महत्वपूर्ण स्थान पर मौका दिये जाने से उनका आत्मविश्वास सातवें आसमान पर है।
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड