मंगलवार, 28 जुलाई, 2015 | 19:01 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    CCTV में कैद हुए गुरदासपुर हमले के गुनहगार, AK-47 लिए सड़कों पर घूमते दिखे आतंकी साड़ी, शॉल, आम की कूटनीति बंद कर पाकिस्तान के खिलाफ इंदिरा जैसा साहस दिखाये PM मोदी 29 जुलाई से बाजार में आएगा माइक्रोसॉफ्ट ओएस विंडोज-10  पीएम मोदी ने दी कलाम को श्रद्धांजलि, बोले- भारत ने खोया अपना रत्न कलाम का अंतिम संस्कार रामेश्वरम में होगा, पीएम मोदी सहित कई हस्तियों के पहुंचने की संभावना अग्नि की सफलता का श्रेय कलाम ने इंदिरा की दूरदर्शिता को दिया था याकूब मामले पर सुप्रीम कोर्ट के जजों के बीच मतभेद, अब बड़ी बेंच में होगी सुनवाई सात दिवसीय राजकीय शोक की घोषणा लेकिन कोई छुटटी नहीं 7.0 तीव्रता वाले भूकंप के जबरदस्त झटकों से हिला इंडोनेशिया जानिए पंजाब के गुरदासपुर स्थित दीनानगर के बारे में कुछ खास बातें
सचिन के समक्ष समय रुक जाता था: टाइम पत्रिका
मुम्बई, एजेंसी First Published:23-12-2012 06:27:54 PMLast Updated:24-12-2012 05:37:35 PM
Image Loading

विश्व की प्रमुख पत्रिकाओं में से एक टाइम ने रविवार को एकदिवसीय अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास की घोषणा करने वाले भारत के महान बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर की तारीफ करते हुए कहा कि सचिन क्रिकेट जगत की वह शख्सियत हैं, जिनके आगे समय भी रुक जाया करता था।

सचिन के सम्मान में पत्रिका ने लिखा है, ''समय किसी को नहीं छोड़ता। वह हर किसी पर भारी पड़ता है, लेकिन एक समय ऐसा भी था, जब खुद समय सचिन के आगे रुक जाया करता था। हमें चैम्पियन मिलेंगे, हमें महान खिलाड़ी मिलेंगे लेकिन हमें फिर कभी कोई दूसरा सचिन तेंदुलकर नहीं मिलेगा।''

''सचिन जब पाकिस्तान के तेज गेंदबाजों का सामना करने के लिए पाकिस्तान पहुंचे थे, तब माइकल शूमाकर ने एफ-1 में अपनी खनक नहीं दिखाई थी और न ही लांस आर्म्सट्रांग ने कभी टूर डी फ्रांस में हिस्सा लिया था। डिएगो मैराडोना विश्व कप जीतने वाली अर्जेटीनी टीम के कप्तान थे और पीट सैम्प्रास ने कभी कोई ग्रैंड स्लैम नहीं जीता था।''

''सचिन ने जब इमरान खान और उनकी टीम की बखिया उधेड़ते हुए अपने शानदार करियर की शुरुआत की थी तब रोजर फेडरर का नाम सुना भी नहीं गया था। उस समय लियोनेल मेसी बच्चों थे और उसैन बोल्ट बचपन के मजे ले रहे थे। यह वह वक्त था जब बर्लिन की दीवार खड़ी थी। यूएसएसआर एक देश था और मनमोहन सिंह ने नेहरूवादी अर्थव्यवस्था की शुरुआत नहीं की थी।''

तेंदुलकर ने 463 एकदिवसीय मैचों में 44.83 की औसत से 18,426 रन बनाए हैं जिनमें 49 शतक और 96 अर्धशतक शामिल हैं। इसके अलावा उनका व्यक्तिगत स्कोर नाबाद 200 है।

2010 में तेंदुलकर ने दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ ग्वालियर में नाबाद 200 रनों की पारी खेली थी। एकदिवसीय क्रिकेट में दोहरा शतक लगाने वाले वह विश्व के इकलौते खिलाड़ी हैं।

तेंदुलकर ने अपना अंतिम एकदिवसीय मैच पाकिस्तान के खिलाफ एशिया कप में 18 मार्च, 2012 को ढाका में खेला था। इस मुकाबले में उन्होंने मैच जिताऊ अर्धशतक लगाया था।

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
Image Loadingप्रतिबंध हटाने के लिए बीसीसीआई से संपर्क करूंगा: श्रीसंत
जब वह तिहाड़ जेल में था तो वह आत्महत्या के बारे में सोच रहा था लेकिन तेज गेंदबाज एस श्रीसंत को अब उम्मीद बंध गई है कि वह वापसी कर सकते हैं और खुद पर लगे प्रतिबंध को हटाने के लिये वह बीसीसीआई से संपर्क करेंगे।
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड