रविवार, 26 अक्टूबर, 2014 | 09:09 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
Image Loading    राजनाथ सोमवार को मुंबई में कर सकते हैं शिवसेना से वार्ता नरेंद्र मोदी ने सफाई और स्वच्छता पर दिया जोर मुंबई में मोदी से उद्धव के मिलने का कार्यक्रम नहीं था: शिवसेना  कांग्रेस ने विवादित लेख पर भाजपा की आलोचना की केन्द्र ने 80 हजार करोड़ की रक्षा परियोजनाओं को दी मंजूरी  कांग्रेस नेता शशि थरूर शामिल हुए स्वच्छता अभियान में हेलमेट के बगैर स्कूटर चला कर विवाद में आए गडकरी  नस्ली घटनाओं पर राज्यों को सलाह देगा गृह मंत्रालय: रिजिजू अश्विका कपूर को फिल्मों के लिए ग्रीन ऑस्कर अवार्ड जम्मू-कश्मीर और झारखंड में पांच चरणों में मतदान की घोषणा
भारत और पाक के पूर्व कप्तान ईडन में सम्मानित
कोलकाता, एजेंसी First Published:03-01-13 05:13 PM
Image Loading

भारत और पाकिस्तान के पूर्व कप्तानों को पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने गुरुवार को यहां ऐतिहासिक ईडन गार्डन में दोनों देशों के बीच दूसरे वनडे मैच में दौरान सम्मानित किया।
 
बंगाल क्रिकेट संघ (कैब) ने इस मैदान पर दोनों देशों के बीच 18 फरवरी 1987 को खेले गए पहले वनडे की रजत जयंती के अवसर पर भारत-पाकिस्तान के पूर्व कप्तानों को दूसरे वनडे के दौरान पहली पारी समाप्त होने के बाद सम्मानित कर इन दिग्गजों को अभिभूत कर दिया।
 
सुश्री बनर्जी और कैब के अध्यक्ष जगमोहन डालमिया ने इस दिग्गज क्रिकेटरों को विशिष्ट अंदाज में सम्मानित किया। मैच के दौरान पाकिस्तान की पारी जैसे ही समाप्त हुई मैदान पर एक अद्भुत दृश्य दिखाई देने लगा। दोनों देशों के दिग्गज कप्तान फूलों से सजी खुली जीपों पर सीमारेखा के पास से मैदान का चक्कर लगाने लगे।
 
ईडन गार्डन उस समय 66 हजार दर्शकों से खचाखच भरा हुआ था और स्टेडियम के हर कोने से तालियों की गूंज से आसमान गुंजायमान हो रहा था। सम्मानित होने वाले कप्तानों में भारत की तरफ से अजित वाडेकर, बिशन सिंह बेदी, सुनील गावस्कर, कपिल देव, गुंडप्पा विश्वनाथ, दिलीप वेंगसरकर, कृष्णामाचारी श्रीकांत, रवि शास्त्री, अनिल कुंबले, वी वी एस लक्ष्मण और सौरभ गांगुली थे जबकि पाकिस्तान की तरफ से वसीम अकरम और रमीज राजा तथा कई पूर्व कप्तान शामिल थे।
 
खुली जीपों में दो-दो कप्तान सवार होकर चल रहे थे लेकिन बंगाल टाइगर सौरभ गांगुली एक जीप पर अकेले सवार थे। गांगुली के स्टेडियम में घुसते ही सबसे ज्यादा तालियां बजी। जीप परेड समाप्त होने के बाद मुख्यमंत्री बनर्जी ने सभी कप्तानों को शाल पहनाकर और स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया।
 
 
|
 
 
टिप्पणियाँ