शुक्रवार, 28 अगस्त, 2015 | 12:57 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
झारखंड: चक्रधरपुर में बच्चे से छेड़छाड़ करनेवाला शिक्षक पदमुक्त, इससे पहले अभिभावकों ने स्कूल में हंगामा किया, इसके बाद फादर ने आरोपी शिक्षक को हटाने की घोषणा की।झारखंड: सी-सैट मुद्दे पर विधानसभा की कार्यवाही बाधित।
'नाकामियों से सचिन को शर्मिंदा होते नहीं देखना चाहता'
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:28-12-2012 03:48:19 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM
Image Loading

इंग्लैंड के पूर्व कप्तान ज्योफ्री बायकॉट का मानना है कि ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ आगामी सीरीज़ में नाकामी से सचिन तेंदुलकर क्रिकेट के सभी प्रारूपों को अलविदा कह सकते हैं और क्रिकेटप्रेमी नहीं चाहते कि वह लगातार नाकामियों से शर्मिंदा हों।
     
बायकॉट ने कहा कि मार्च में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ टेस्ट सीरीज़ में वह रन बनाना चाहता होगा क्योंकि हममें से कोई उसे बार बार मिल रही नाकामी से शर्मिंदा होते नहीं देखना चाहता।
    
उन्होंने ईएसपीएन क्रिकइन्फो से कहा कि यदि ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ वह रन नहीं बनाता है तो मुझे यकीन है कि वह टेस्ट क्रिकेट को भी अलविदा कह देगा। लेकिन हम दुआ करेंगे कि वह रन बनाये।
    
क्रिकेट के महानतम बल्लेबाजों में शुमार तेंदुलकर ने रविवार को वनडे क्रिकेट से संन्यास का ऐलान कर दिया था। इसके साथ ही 23 साल के सुनहरे करियर का अंत हो गया जिसमें उन्होंने अनगिनत बल्लेबाजी रिकॉर्ड अपने नाम किये।
     
बायकॉट ने तेंदुलकर के फैसले को समझदारी भरा बताते हुए कहा कि यह दुखद है लेकिन यही जिंदगी का सच है। उम्र के साथ हमें स्वीकार करना होता है कि अब हम वह सब नहीं कर सकते जो पहले करते थे। यह स्वीकार कर पाना आसान नहीं है।
    
उन्होंने कहा कि उसके लिये यह काफी कठिन था। वह वनडे क्रिकेट में भी अदभुत बल्लेबाज रहा है लेकिन यादों के सहारे नहीं जिया जा सकता। उसने समझदारी भरा फैसला लिया है।
     
यह पूछने पर कि क्या टेस्ट प्रारूप में भारत को सचिन की अधिक जरूरत है, उन्होंने कहा कि मुझे लगता है कि उसे वही करना चाहिये जो उसके लिये सर्वश्रेष्ठ हो। वह जिस भी प्रारूप में अच्छा खेलेगा, भारतीय टीम का ही भला होगा।

बायकॉट ने कहा कि तेंदुलकर कुछ समय से भारत के लिये टी20 नहीं खेल रहा था। आज, आधुनिक क्रिकेट में, वनडे क्रिकेट खिलाड़ी के शरीर के लिये शारीरिक रूप से काफी थकाने वाला हो गया है। हम सभी सचिन को काफी पसंद करते हैं, इसमें मैं भी शामिल हूं। उसने कभी भी किसी को निराश नहीं किया, वह प्रतिस्पर्धी रहा लेकिन कोई भी उसे शीर्ष फील्डर नहीं कह सकता।
    
यॉर्कशर के इस पूर्व क्रिकेटर ने कहा कि इसलिये जैसे वह हम सभी की तरह बूढ़ा हो रहा है, वह युवाओं की तरह तेजी से भाग नहीं सकता। वह उनकी तरह डाइव नहीं कर सकता।
    
उन्होंने कहा कि ऐसा नहीं है कि वह बहुत अच्छा डाइव करता था, लेकिन आधुनिक क्रिकेट में आपसे डाइव करने की उम्मीद की जाती है। यह आधुनिक प्रक्रिया है और इसमें वह खुद को कुछ ज्यादा ही चोट लगा सकता है। जैसे आप बूढ़े होते हो तो आप गलत तरीके से गिरते हो, जिससे आपके शरीर पर ज्यादा चोट लगती है और आसानी से खरोंचे आ जाती हैं। यह सामान्य है।
    
बायकॉट ने कहा कि वह खुद को फिट रखने पर ध्यान लगा सकता है और जितना चाहे क्षेत्रीय क्रिकेट खेल सकता है। यही महत्वपूर्ण है। उन्होंने कहा कि सचिन टेस्ट क्रिकेट और वनडे क्रिकेट में महान खिलाड़ियों में शामिल रहेगा लेकिन यह नहीं भूलना चाहिए कि इसमें अन्य खिलाड़ी भी मौजूद है।
     
तेंदुलकर ने 463 वनडे में 44.83 के औसत से 18,426 रन जुटाये हैं और इसमें उनके नाम एक दोहरे शतक के साथ 49 वनडे शतक भी शामिल हैं। वह वनडे में दोहरा शतक जड़ने वाले पहले क्रिकेटर हैं।

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
Image LoadingLIVE:भारत के लंच तक दो विकेट पर 50 रन
श्रीलंका के खिलाफ तीसरे और आखिरी क्रिकेट टेस्ट के पहले दिन शुक्रवार को भारत ने लंच तक पहली पारी में दो विकेट पर 50 रन बनाए।
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
 
Image Loading

जब पप्पू पहंचा परीक्षा देने...
अध्यापिका: परेशान क्यों हो?
पप्पू ने कोई जवाब नहीं दिया।
अध्यापिका: क्या हुआ, पेन भूल आये हो?
पप्पू फिर चुप।
अध्यापिका : रोल नंबर भूल गए हो?
अध्यापिका फिर से: हुआ क्या है, कुछ तो बताओ क्या भूल गए?
पप्पू गुस्से से: अरे! यहां मैं पर्ची गलत ले आया हूं और आपको पेन-पेंसिल की पड़ी है।