शनिवार, 25 अक्टूबर, 2014 | 11:02 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
Image Loading    अमेरिकी स्कूल में गोलीबारी में दो की मौत, चार घायल पाकिस्तान ने फिर किया संघर्ष विराम का उल्लंघन हुदहुद से आई टी क्षेत्र को भारी क्षति हुई है :रेड्डी  मिस्र में आतंकी हमले में 31 सैनिकों की मौत गूगल के अधिकारी ने हवा में गोताखोरी का बनाया विश्व रिकॉर्ड  चीन सीमा पर 54 चौकियां बनाएगा भारत, 175 करोड़ के पैकेज की घोषणा  बर्धवान के बम थे बांग्लादेश के लिए: एनआईए नरेंद्र मोदी की चाय पार्टी में नहीं शामिल होंगे उद्धव ठाकरे भूपेंद्र सिंह हुड्डा की बढ़ सकती हैं मुश्किलें  कालेधन पर राम जेठमलानी ने बढ़ाई सरकार की मुश्किलें
पोंटिंग के हिसाब से नहीं चलेंगे सचिन: गंभीर
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:29-11-12 06:32 PM
Image Loading

रिकी पोंटिंग के अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट को अलविदा कहने के फैसले ने भले ही सचिन तेंदुलकर के संन्यास को लेकर चल रहे मुद्दे में आग में घी का काम किया हो लेकिन टीम इंडिया के सलामी बल्लेबाज गौतम गंभीर का मानना है कि उनका सीनियर साथी अब भी टीम को काफी कुछ दे सकता है।

गंभीर ने कहा कि कोई भी किसी को संन्यास लेने के लिए बाध्य नहीं कर सकता। प्रत्येक खिलाड़ी को पता है कि संन्यास लेने का सर्वश्रेष्ठ समय कौन सा है। पोंटिंग के संन्यास का मतलब यह नहीं है कि सचिन को भी संन्यास लेना होगा। यह व्यक्गित फैसला है। वे दो अलग देशों से संबंध रखते हैं और दो अलग व्यक्ति है। इसलिए तुलना करने का कोई सवाल ही पैदा नहीं होता।

आलोचक जब 39 वर्षीय तेंदुलकर के टीम में स्थान पर सवाल उठा रहे हैं जब गंभीर ने कहा कि इस सीनियर बल्लेबाज में अब भी भारत के लिए काफी रन बनाने की क्षमता है। उन्होंने कहा कि ड्रेसिंग रूम में उनकी मौजूदगी ही देश के लिए बड़ी चीज है। मुझे भरोसा है कि वह इससे उबर जाएगा। सभी उतार-चढ़ाव से गुजरते हैं। वह अब भी खेलने का आनंद उठाता है।

गंभीर ने एक कार्यक्रम के दौरान कहा कि वह भारत का महानतम क्रिकेटर है। वह मैदान पर ही नहीं बल्कि मेंटर के रूप में मैदान के बाहर भी योगदान देता है। उसमें अब भी भारत की ओर से काफी रन बनाने की क्षमता है। पर्थ में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ तीसरे टेस्ट के बाद संन्यास की घोषणा करने वाले पोंटिंग को गंभीर ने ऑस्ट्रेलिया का सर्वश्रेष्ठ कप्तान करार दिया।   

उन्होंने कहा कि वह महान खिलाड़ी है। वह अपनी शर्तों पर क्रिकेट खेला और अब अपनी शर्तों पर संन्यास ले रहा है। तीनों प्रारूपों में उसका रिकार्ड उसकी क्षमता की गवाही देता है। वह ऑस्ट्रेलिया का सबसे सफलतम कप्तान है। गंभीर ने महेंद्र सिंह धौनी का समर्थन किया और कहा कि उनके कप्तान के स्पिन के अनुकूल पिच की मांग करने में कुछ भी गलत नहीं है।   

उन्होंने कहा कि एक कप्तान को वैसा विकेट मिलना चाहिए जिसकी वह मांग कर रहा है। इसमें कुछ भी गलत नहीं है। मुद्दा बनाने की जगह हम सभी को उसका समर्थन करना चाहिए। अगर उसे लगता है कि हम किसी तरह की विकेट पर जीत सकते हैं तो हमें उसका समर्थन करना चाहिए।
 
 
 
टिप्पणियाँ