गुरुवार, 02 जुलाई, 2015 | 04:42 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    अब मोबाइल फोन से डायल हो सकेगा लैंडलाइन नंबर गोद से गिरी बच्ची, बचाने के लिए मां भी चलती ट्रेन से कूदी बलात्कार मामलों में कोई समझौता नहीं, औरत का शरीर उसके लिए मंदिर के समान होता है: सुप्रीम कोर्ट अब यूपी पुलिस 'चुड़ैल' को ढूंढेगी, जानिए क्या है पूरा मामला  खुलासा: एक रुपया तैयार करने का खर्च एक रुपये 14 पैसे दार्जिलिंग: भूस्‍खलन के कारण 38 लोगों की मौत, पीएम ने जताया शोक, 2-2 लाख रुपये मुआवजे का ऐलान यूनान ने किया डिफॉल्ट, नहीं चुकाया अंतरराष्ट्रीय मुद्राकोष का कर्ज विकी‍पीडिया पर नेहरू को मुस्लिम बताये जाने पर भड़की कांग्रेस, पूछा अब क्या कार्रवाई करेगी मोदी सरकार PHOTO: जब मंत्रीजी ने पकड़ी लेडी डॉक्टर की कॉलर और बोले... ललित मोदी के ट्वीट पर बवाल, भाजपा नहीं करेगी वरुण गांधी का बचाव
तेंदुलकर ने वनडे से संन्यास लिया
मुंबई, एजेंसी First Published:23-12-12 12:30 PMLast Updated:23-12-12 05:20 PM
Image Loading

सर्वकालिक महान बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर ने रविवार को वनडे अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास लेने की घोषणा की। इसके साथ ही इस प्रारूप में उनके 23 साल के स्वर्णिम करियर का अंत हो गया जिसमें उन्होंने कई रिकॉर्ड अपने नाम लिखे।

बीसीसीआई के आज जारी बयान में इस 39 वर्षीय बल्लेबाज ने कहा कि मैंने खेल के वनडे प्रारूप से संन्यास लेने का फैसला किया है। मुझे खुशी है कि मेरा विश्व कप विजेता भारतीय टीम का हिस्सा बनने का सपना पूरा हुआ। 2015 में विश्व कप खिताब के बचाव की तैयारियां जल्दी और सही तरह से शुरू होनी चाहिए।

उन्होंने कहा कि मैं टीम को भविष्य के लिये शुभकामनाएं देता हूं। मैं अपने शुभचिंतकों का वर्षों तक भरपूर समर्थन और प्यार के लिये दिल से शुक्रगुजार हूं। आधुनिक क्रिकेट के सबसे संपूर्ण बल्लेबाज और सर डोनल्ड ब्रैडमैन के बाद सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाज आंके जाने वाले तेंदुलकर ने वनडे में सर्वाधिक रन बनाने वाले बल्लेबाज के रूप में संन्यास लिया।

तेंदुलकर ने 463 वनडे मैच खेलकर 44.83 की औसत से 18,426 रन बनाये। दायें हाथ के इस बल्लेबाज के नाम पर इस प्रारूप में 49 शतक दर्ज हैं। वनडे में सबसे पहला दोहरा शतक जमाने का रिकॉर्ड तेंदुलकर के नाम पर ही दर्ज है।

तेंदुलकर ने पाकिस्तान के खिलाफ 1989 में वनडे अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में पदार्पण किया था और इस चिर प्रतिद्वंद्वी टीम के खिलाफ एक अन्य सीरीज़ से पहले उन्होंने इस प्रारूप को अलविदा कहा। उनके करियर का सबसे अहम पल पिछले साल विश्व कप विजेता टीम का हिस्सा बनना रहा। यह तेंदुलकर का छठा विश्व कप था।

तेंदुलकर ने 2006 में टी20 में एकमात्र मैच खेला था और इसके बाद वह इस प्रारूप से हट गये थे। वह अभी टेस्ट क्रिकेट में बने रहेंगे।

 
 
 
अन्य खबरें
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
क्रिकेट स्कोरबोर्ड