मंगलवार, 26 मई, 2015 | 19:10 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    दिल्ली विधानसभा: विशेष सत्र में हंगामा, बीजेपी विधायक को बाहर निकाला  यूपी: गर्मी का कहर जारी, राहत के आसार नहीं इस रेस्टोरेंट में आने वालों को बनना पड़ता है कैदी प्रतापगढ़ में रोडवेज के कैशियर की हत्या कर साढ़े सात लाख की लूट  सलमान को दुबई जाने के लिए कोर्ट से मिली अनुमति वसीम रिजवी शिया वक्फ बोर्ड के फिर चेयरमैन साहित्यिक चोरी के आरोप में 'पीके' के निर्माताओं को नोटिस 9 अधिकारियों के तबादले के बाद एलजी से मिले केजरीवाल  कांग्रेस के दस साल पर भारी भाजपा का एक साल: स्मृति दुनिया कर रही हरमन की तारीफ, किसी ने भेजा कार्ड तो किसी ने फर्नीचर
सचिन के भविष्य पर अटकलें मत लगाओः धौनी
नागपुर, एजेंसी First Published:12-12-12 06:20 PM
Image Loading

सचिन तेंदुलकर हमेशा से अपने आलोचकों को गलत साबित करते आए हैं और भारतीय कप्तान महेंद्र सिंह धौनी भी इससे अच्छी तरह वाकिफ हैं इसलिए उन्होंने सभी को सलाह दी है कि अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में इस सीनियर बल्लेबाज के भविष्य को लेकर अटकलें नहीं लगाएं।

धौनी ने कहा कि जब मामला सचिन का आता है तो मुझे लगता है कि सबसे अच्छा यह है कि अटकलें नहीं लगाई जाएं। उसने अपने कैरियर के दौरान सभी को गलत साबित किया है। लेकिन मैं सचिन तेंदुलकर नहीं हूं, संभवत: वह जब भी प्रेस कांफ्रेंस के लिए आए तो आप उससे इस बारे में पूछ सकते हैं। भारतीय कप्तान इंग्लैंड के खिलाफ कल से यहां शुरू हो रहे चौथे और अंतिम क्रिकेट टेस्ट से पूर्व पत्रकारों से बात कर रहे थे।
     
धौनी ने कहा कि इस तरह की संकट की स्थिति में सिर्फ तेंदुलकर की उपस्थिति ही टीम के नजरिये से अहम होती है। उन्होंने कहा कि इस तरह के मैचों के लिए टीम में शामिल वह सर्वश्रेष्ठ व्यक्ति है। उसके पास जिस तरह का अनुभव है और वर्षों से उसने जिस तरह का प्रदर्शन किया है उसे देखते हुए हम उस पर निर्भर रह सकते हैं।

तेंदुलकर ने वर्ष 2012 में 25 की औसत से रन बनाए हैं और इंग्लैंड के खिलाफ कोलकाता में तीसरे क्रिकेट टेस्ट की पहली पारी में 76 रन तीन जनवरी के बाद उनका पहला टेस्ट अर्धशतक है।

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
Image Loadingधौनी से कप्तानी के गुर सीखे : होल्डर
वेस्टइंडीज की वनडे टीम के युवा कप्तान जैसन होल्डर को लगता है कि चेन्नई सुपरकिंग्स के साथ बिताये गये दिनों में उन्हें किसी और से नहीं बल्कि भारत के सीमित ओवरों की टीम के कप्तान महेंद्र सिंह धौनी से कप्तानी के गुर सीखने को मिले थे।