बुधवार, 26 नवम्बर, 2014 | 02:03 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
Image Loading    झारखंड में पहले चरण में लगभग 62 फीसदी मतदान  जम्मू-कश्मीर में आतंक को वोटरों का मुंहतोड़ जवाब, रिकार्ड 70 फीसदी मतदान  राज्यसभा चुनाव: बीरेंद्र सिंह, सुरेश प्रभु ने पर्चा भरा डीडीए हाउसिंग योजना का ड्रॉ जारी, घर का सपना साकार अस्थिर सरकारों ने किया झारखंड का बेड़ा गर्क: मोदी नेपाल में आज से शुरू होगा दक्षेस शिखर सम्मेलन  दक्षिण एशिया में शांति, विकास के लिए सहयोग करेगा भारत काले धन पर तृणमूल का संसद परिसर में धरना प्रदर्शन 'कोयला घोटाले में मनमोहन से क्यों नहीं हुई पूछताछ' दो राज्यों में प्रथम चरण के चुनाव की पल-पल की खबर
'व्हीलचेयर पर बिताया समय जिंदगी का सबसे खराब दौर'
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:04-01-13 04:31 PM
Image Loading

करियर के लिये खतरा बनी दो चोटों से उबरने के बाद तेज गेंदबाज एस श्रीसंत ने कहा कि प्रथम श्रेणी क्रिकेट में वापसी से पहले व्हीलचेयर पर बिताया समय उनकी जिंदगी का सबसे खराब दौर था।
     
श्रीसंत ने 14 महीने बाद वापसी करते हुए हाल ही में केरल के लिये रणजी क्रिकेट खेला। उन्होंने कोच्चि से कहा कि कौन कहता है कि लड़के रोते नहीं। मैं जब उंगलियों के आपरेशन के कारण दो महीने व्हीलचेयर पर था तब बच्चों की तरह रोता था।
     
उन्होंने कहा कि मुझे लगने लगा था कि मैं कभी क्रिकेट फिर नहीं खेल पाउंगा। मुझे बहुत डर लगता था। वो 14 महीने मेरे करियर का सबसे अंधकारमय दौर था।
      
श्रीसंत ने कहा कि दो महीने व्हीलचेयर पर बिताने के बाद अगले तीन महीने मैं बैसाखियों के सहारे चलता रहा। बीसीसीआई, केरल क्रिकेट संघ और एनसीए ने मेरा बहुत साथ दिया। जिस समय मैने कहा कि मैं पूरी तरह फिट हूं, केरल क्रिकेट संघ ने मुझे तुरंत टीम में जगह दी।
      
वह यहां पालम मैदान पर इंग्लैंड के खिलाफ रविवार को भारत ए के लिये खेलेंगे। उन्होंने कहा कि मेरे लिये यह नई शुरूआत है। मैं अब खेल का पूरा मजा लेना चाहता हूं। केरल के लिये खेलूं, भारत ए या फिर भारत के लिये । मैं तनिक भी आराम नहीं करना चाहता।

 
 
 
टिप्पणियाँ