शुक्रवार, 21 नवम्बर, 2014 | 09:53 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
जीत की लय बरकरार रखना चाहेगी चैलेंजर्स
मोहाली, एजेंसी First Published:19-04-12 03:47 PM
Image Loading

किंग्स को कोलकाता के हाथों बुधवार को मिली हार के बाद जहां पंजाब के आगे अगला मैच जीतने की चुनौती होगी तो वहीं पिछला मैच पुणे के हाथों जीतने वाली रायल चैलेंजर्स बेंगलोर के आगे इस विजई अभियान को आगे ले जाने का दबाव।
 
मोहाली में जब दोनों टीमों की आपसी भिडंत होगी तो एक दूसरे से जीतने के लिए उन्हें कड़ा संघर्ष करना होगा। अपने ही घरेलू मैदान में कोलकाता नाइट राइडर्स से मैच गंवाने के बाद पंजाब के हौंसले फिलहाल कुछ पस्त दिखाई दे रहे है। ऐसे में पिछले मैच में जीत दर्ज करने वाली रॉयल्स को मनोवैज्ञानिक तौर पर भी इसका फायदा मिलने की उम्मीद की जा सकती है।
 
हालांकि इसके बावजूद किंग्स की स्थिति रायल चैलेंजर्स से फिलहाल थोड़ी अच्छी कही जा सकती है क्योंकि अंकतालिका में वह बेंगलोर से एक पायदान ऊपर है। लेकिन अगर देखा जाए तो दोनों ही टीमों ने अब तक पांच मैंचों में दो-दो में जीत हासिल की है और दोनों ही टीमों के चार चार अंक हैं।
 
किंग्स ने अपने मैदान में कोलकाता से हार का सामना किया है लेकिन इससे पहले उसने कोलकाता को उसी के घरेलू मैदान ईडन गार्डन में महज दो रन से शिकस्त दी थी। लेकिन देखने वाली बात है कि किंग्स ने अभी तक अपने मैचों में विपक्षी टीमों के सामने कोई बड़ा लक्ष्य नहीं रखा है। ऐसे में रॉयल चैलेंजर्स जैसी टीम जिसमें क्रिस गेल जैसा तूफानी बल्लेबाज और विराट कोहली जैसा मझा हुआ खिलाड़ी हो किंग्स के आगे जीत के लिए बड़ा लक्ष्य रखना या बड़े स्कोर का पीछा करना जैसी बड़ी चुनौती होगी।
 
किंग्स के पास कप्तान एडम गिलक्रिस्ट के रूप में शीर्ष क्रम का एक बढ़िया बल्लेबाज है जो एक बड़ा स्कोर बनाने में सक्षम है। गिली की कप्तानी में फिलहाल किंग्स की हालत कुछ अच्छी दिखाई दे रही है और उनके नेतृत्व में टीम में संतुलन दिखाई दे रहा है।

इसके अलावा पॉल वालथाटी, ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाज शॉन मार्श, ऑलराउंडर डेविड हस्सी और मंदीप सिंह से भी अच्छी पारी की उम्मीद की जा सकती है जो टीम के लिए जीत के सूत्रधार हो सकते हैं। हालांकि पिछले सत्र में खूब धमाल करने वाले वालथाटी ने सीजन पांच में अभी तक कोई ऐसी कोई पारी नहीं खेली है जिसे याद रखा जा सके।
 
पिछले मैच में किंग्स के बल्लेबाजों से ज्यादा गेंदबाजों ने अपने प्रदर्शन से निराश किया। गेंदबाज प्रवीण कुमार ने मैच में अपनी गेंदबाजी से बिल्कुल प्रभावित नहीं किया। कोलकाता के खिलाफ बुधवार को मोहाली में खेले गए मैच में प्रवीण ने 23 रन देकर एक भी विकेट हासिल नहीं किया। इसके अलावा हरमीत सिंह ने 26, भार्गव भट ने सर्वाधिक 32 और दिमित्रि मैक्हारेनहास ने 23 रन लुटाए और कोई विकेट हासिल नहीं किया। गेंदबाजी में अकेले पीयूष चावला ने 19 रन देकर दो विकेट अपने नाम किए।
 
दूसरी ओर अगर बात की जाए रॉयल चैलेंजर्स बेंगलोर की तो पिछला मैच पुणे के हाथों जीतने के बाद टीम को प्रोत्साहन मिला है। टीम के कप्तान डेनियल वेट्टोरी का खुद मानना है कि टूर्नामेंट में टीम की स्थिति में सुधार लाने के लिए पुणे के खिलाफ मिली जीत उनके लिए काफी अहम है।
 
पिछले सत्र में मजबूत टीमों में से विजय माल्या के मालिकाना हक वाली रॉयल चैलेंजर्स का प्रदर्शन आईपीएल सीजन पांच के कोई खास नहीं रहा है। टीम ने लीग के शुरूआत से ही संघर्ष किया है। रॉयल चैलेंजर्स ने अभी तक पांच में से तीन में हार का मुंह देखा है और इससे उसकी छवि को काफी धक्का पहुंचा है।

रॉयल चैलेंजर्स को पुणे के खिलाफ मिली जीत के बाद टीम के लिए बड़ी चुनौती जीत के इस सिलसिले को बरकरार रखने की है। टीम हर हाल में अगला मैच जीतकर अपनी स्थिति में सुधार कर अंक बटोरना चाहेगी।

रॉयल चैलेंजर्स की सबसे बड़ी ताकत है उसका बल्लेबाजी क्रम। कैरेबियाई बल्लेबाज क्रिस गेल एक बार यदि क्रीज पर टिक गए तो उनके पांच उखाड़ना किसी के लिए भी आसान नहीं है।

गेल ने पिछले मैच में अपनी तूफानी पारी से इस बात को बाखूबी साबित भी किया है। गेल ने पुणे के खिलाफ पिछले मैच में 48 गेंदों में आठ छक्कों और चार चौकों की मदद से 81 रन की जो पारी खेली थी वह शायद ही कोई भूला सकता हो।

इसके अलावा टीम में श्रींलकाई खिलाड़ी तिलकरत्ने दिलशान, युवा बल्लेबाज विराट कोहली, ए बी डीविलियर्स और सौरभ तिवारी से बेशक एक बड़े स्कोर की उम्मीद की जा सकती है। कई स्टार खिलाड़ियों से सजी इस टीम में जहीर खान, आर विनय कुमार, हर्शल पटेल और कप्तान डेनियल वेट्टोरी के रूप में कई बढ़िया गेंदबाज भी हैं जो विपक्षी टीम के बल्लेबाजों को कम स्कोर पर चलता कर सकते हैं।
 
ऐसे में दोनों ही टीमों के लिए अपनी स्थिति में सुधार कर टूर्नामेंट के आगामी मैचों में विपक्षी टीमों को अपनी मजबूती का एहसास कराना भी किसी चुनौती की तरह होगा। मोहाली के घरेलू मैदान में पंजाब की टीम किसी भी हाल में बेंगलोर के हाथों शिकस्त से बचने को संघर्ष करेगी जिससे एक रोमांचक मुकाबले की उम्मीद की जा सकती है।

 
 
 
टिप्पणियाँ