शनिवार, 01 नवम्बर, 2014 | 03:36 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
विद्या प्रकाश ठाकुर ने भी राज्यमंत्री पद की शपथ लीदिलीप कांबले ने ली राज्यमंत्री पद की शपथविष्णु सावरा ने ली मंत्री पद की शपथपंकजा गोपीनाथ मुंडे ने ली मंत्री पद की शपथचंद्रकांत पाटिल ने ली मंत्री पद की शपथप्रकाश मंसूभाई मेहता ने ली मंत्री पद की शपथविनोद तावड़े ने मंत्री पद की शपथ लीसुधीर मुनघंटीवार ने मंत्री पद की शपथ लीएकनाथ खड़से ने मंत्री पद की शपथ लीदेवेंद्र फडणवीस ने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री पद की शपथ ली
40 हजार रूपए के अनुबंध से नाखुश पाक खिलाड़ी
कराची, एजेंसी First Published:30-11-12 01:25 PMLast Updated:30-11-12 02:27 PM
Image Loading

पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड (पीसीबी) ने अपने छह खिलाड़ियों को चार महीने के लिए महज 40 हजार रूपए महीने की राशि पर करार किया है। हालांकि खिलाड़ियों ने मामूली राशि पर दिए गए इस अनुबंध पर नाखुशी जताई है।
 
पीसीबी के अधिकारी ने इस खबर की पुष्टि करते हुए बताया कि तेज गेंदबाजों मोहम्मद तलहा, मोहम्मद समी, तबिश खान और उमैद आसिफ और ऑलराउंडर फवद आलम, लेग स्पिनर यासिर शाह के साथ चार महीने के लिए 40 हजार रूपए प्रतिमाह पर करार किया गया है। लेकिन यह खिलाड़ी बोर्ड की असल करार किए गए खिलाड़ियों की सूची में शामिल नहीं है।
 
बोर्ड अधिकारी ने कहा कि इन खिलाड़ियों के प्रदर्शन को चयनकर्ताओं और बोर्ड समिति ने समीक्षा करने के बाद लघु अवधि सितंबर से दिसंबर तक के लिए करार किया है। लेकिन यह खिलाड़ी बोर्ड के केंद्रीय अनुबंध के खिलाड़ियों की सूची में शामिल नहीं है।
 
पीसीबी द्वारा दिए जाने वाले केंद्रीय अनुबंध के तहत खिलाड़ियों को तीन लाख 13 हजार रूपए प्रतिमाह जबकि मई तक अनुबंध पर रखे गए खिलाड़ियों को प्रतिमाह 75 हजार रूपए प्रतिमाह दिए जाते हैं। ऐसे में चार महीने के लिए अनुबंध किए गए सभी छह खिलाड़ियों ने बोर्ड द्वारा दी जाने वाली इस मामूली राशि पर नाखुशी जताई है।
 
दूसरी ओर पीसीबी अध्यक्ष जका अशरफ को भी इस प्रकार का रवैया अपनाने पर आलोचना झेलनी पड़ रही है जिसके बाद इस पूरे मामले की जांच के निर्देश दिए गए हैं।
 
इस बीच एक खिलाड़ी ने कहा कि बोर्ड ने जल्दबाजी में अपनी गलती सुधारने के लिए हमें महज चार महीने के लिए अनुबंध दे दिए हैं लेकिन बोर्ड की ओर से इस बात का जिक्र नहीं किया गया है कि सितंबर से दिसंबर तक के लिए इस करार में जो महीने पहले ही खतम हो चुके हैं उसके बाबत क्या कदम उठाए जाएंगे।

 
 
 
टिप्पणियाँ