रविवार, 26 अक्टूबर, 2014 | 02:36 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
Image Loading    राजनाथ सोमवार को मुंबई में कर सकते हैं शिवसेना से वार्ता नरेंद्र मोदी ने सफाई और स्वच्छता पर दिया जोर मुंबई में मोदी से उद्धव के मिलने का कार्यक्रम नहीं था: शिवसेना  कांग्रेस ने विवादित लेख पर भाजपा की आलोचना की केन्द्र ने 80 हजार करोड़ की रक्षा परियोजनाओं को दी मंजूरी  कांग्रेस नेता शशि थरूर शामिल हुए स्वच्छता अभियान में हेलमेट के बगैर स्कूटर चला कर विवाद में आए गडकरी  नस्ली घटनाओं पर राज्यों को सलाह देगा गृह मंत्रालय: रिजिजू अश्विका कपूर को फिल्मों के लिए ग्रीन ऑस्कर अवार्ड जम्मू-कश्मीर और झारखंड में पांच चरणों में मतदान की घोषणा
40 हजार रूपए के अनुबंध से नाखुश पाक खिलाड़ी
कराची, एजेंसी First Published:30-11-12 01:25 PMLast Updated:30-11-12 02:27 PM
Image Loading

पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड (पीसीबी) ने अपने छह खिलाड़ियों को चार महीने के लिए महज 40 हजार रूपए महीने की राशि पर करार किया है। हालांकि खिलाड़ियों ने मामूली राशि पर दिए गए इस अनुबंध पर नाखुशी जताई है।
 
पीसीबी के अधिकारी ने इस खबर की पुष्टि करते हुए बताया कि तेज गेंदबाजों मोहम्मद तलहा, मोहम्मद समी, तबिश खान और उमैद आसिफ और ऑलराउंडर फवद आलम, लेग स्पिनर यासिर शाह के साथ चार महीने के लिए 40 हजार रूपए प्रतिमाह पर करार किया गया है। लेकिन यह खिलाड़ी बोर्ड की असल करार किए गए खिलाड़ियों की सूची में शामिल नहीं है।
 
बोर्ड अधिकारी ने कहा कि इन खिलाड़ियों के प्रदर्शन को चयनकर्ताओं और बोर्ड समिति ने समीक्षा करने के बाद लघु अवधि सितंबर से दिसंबर तक के लिए करार किया है। लेकिन यह खिलाड़ी बोर्ड के केंद्रीय अनुबंध के खिलाड़ियों की सूची में शामिल नहीं है।
 
पीसीबी द्वारा दिए जाने वाले केंद्रीय अनुबंध के तहत खिलाड़ियों को तीन लाख 13 हजार रूपए प्रतिमाह जबकि मई तक अनुबंध पर रखे गए खिलाड़ियों को प्रतिमाह 75 हजार रूपए प्रतिमाह दिए जाते हैं। ऐसे में चार महीने के लिए अनुबंध किए गए सभी छह खिलाड़ियों ने बोर्ड द्वारा दी जाने वाली इस मामूली राशि पर नाखुशी जताई है।
 
दूसरी ओर पीसीबी अध्यक्ष जका अशरफ को भी इस प्रकार का रवैया अपनाने पर आलोचना झेलनी पड़ रही है जिसके बाद इस पूरे मामले की जांच के निर्देश दिए गए हैं।
 
इस बीच एक खिलाड़ी ने कहा कि बोर्ड ने जल्दबाजी में अपनी गलती सुधारने के लिए हमें महज चार महीने के लिए अनुबंध दे दिए हैं लेकिन बोर्ड की ओर से इस बात का जिक्र नहीं किया गया है कि सितंबर से दिसंबर तक के लिए इस करार में जो महीने पहले ही खतम हो चुके हैं उसके बाबत क्या कदम उठाए जाएंगे।
 
 
 
टिप्पणियाँ