रविवार, 23 नवम्बर, 2014 | 15:04 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
सोनिया : गुजरात में कुपोषण की चर्चा नहींअच्छे दिन के लुभावने नारे दिये : सोनियासोनिया : भाजपा अधिकार छीन रही हैहम सबको साथ लेकर चलते हैं : सोनियासोनिया गांधी ने कहा, आज भी झारखंड में अंधेरा हैआज चुनाव प्रचार का आखिरी दिनझारखंड के गुमला में सोनिया गांधी की रैली
मुंबई ने जीत से किया आगाज
चेन्नई, एजेंसी First Published:04-04-12 10:09 PMLast Updated:04-04-12 11:28 PM
Image Loading

पिछले साल के चैंपियन्स लीग के चैंपियन मुंबई इंडियन्स ने कसी गेंदबाजी, चपल क्षेत्ररक्षण और सकारात्मक बल्लेबाजी का अच्छा नजारा पेश करके बुधवार को चेन्नई सुपरकिंग्स को एकतरफा मैच में आठ विकेट से करारी शिकस्त देकर इंडियन प्रीमियर लीग के पांचवें सत्र का शानदार आगाज किया।

पिछले चैंपियन चेन्नई सुपरकिंग्स के लिए शुरू से ही कुछ भी सकारात्मक नहीं रहा। उसके कप्तान महेंद्र सिंह धौनी ने पहले टॉस गंवाया और इसके बाद उसके बल्लेबाज आयाराम गयाराम साबित हुए। रही सही कसर मुंबई के बल्लेबाजों विशेषकर रिचर्ड लेवी ने पूरी कर दी।

मुंबई ने चेन्नई की पूरी टीम 19.5 ओवर में 112 रन पर ढेर कर दी जिसने आखिरी आठ विकेट 37 रन के अंदर गंवाए। चेन्नई के चार बल्लेबाज दोहरे अंक में पहुंचे जिनमें से सुरेश रैना ने सर्वाधिक 36 रन बनाए। इसके बाद लेवी ने 35 गेंद पर 50 रन की पारी खेली। सचिन तेंदुलकर (16) को रिटायर्ड हर्ट होकर मैदान छोड़ना पड़ा लेकिन जेम्स फ्रैंकलिन (नाबाद 25) और अंबाती रायुडु (नाबाद 18) के प्रयास ने मुंबई ने 16.5 ओवर में दो विकेट पर 115 रन बनाकर आसान जीत दर्ज की।

हरभजन सिंह की अगुवाई वाली मुंबई की इस जीत के नायक उसके गेंदबाज रहे जिन्होंने चेन्नई के बल्लेबाजों को रन बनाने का मौका नहीं दिया। मुंबई की तरफ से कीरेन पोलार्ड, लसिथ मालिंगा और प्रज्ञान ओझा ने दो-दो विकेट लिए। चेन्नई के बल्लेबाज परिस्थितियों से तालमेल बिठाने में नाकाम रहे और उन्होंने हवा में शॉट खेलकर अपने विकेट इनाम में दिए।

लेकिन जब मुंबई की टीम बल्लेबाजी के लिए उतरी तो समां बदला हुआ नजर आया। उन्होंने रणनीतिक बल्लेबाजी की। लेवी ने शुरू में रन बनाने का जिम्मा उठाया और तेंदुलकर ने उनके सहयोगी की भूमिका निभाई। यही वजह है कि जब 69 रन पर लेवी का विकेट गिरा तो तेंदुलकर 14 रन पर खेल रहे थे।

लेवी ने डग बोलिंजर के पारी के दूसरे ओवर में दो चौके जड़कर अपने इरादे जतलाये, हालांकि वह तेंदुलकर थे जिन्होंने पारी का पहला छक्का जमाया। उन्होंने एल्बी मोर्कल की गेंद पर एक्स्ट्रा कवर पर चार रन के लिए भेजने के बाद इसी ओवर में डीप एक्स्ट्रा कवर पर छक्का भी लगाया।

इसके बाद रन बनाने की जिम्मेदारी लेवी ने उठा ली। उन्होंने बोलिंजर के अगले ओवर में भी दो चौके लगाये और जब रविंदर जडेजा आये तो उनके पहले ओवर में ही दो चौके और डीप मिडविकेट पर छक्का जमाया। इस साल सबसे अधिक कीमत पर बिके जडेजा अपेक्षाओं पर खरे नहीं उतरे तथा बल्लेबाजी और गेंदबाजी दोनों विभागों में बुरी तरह नाकाम रहे।

लेवी ने आर अश्विन और फिर डेरेन ब्रावो की गेंद पर छक्का जड़कर अपना अर्धशतक पूरा किया लेकिन अगली गेंद को भी सीमा रेखा पार भेजने के प्रयास में लांग आफ पर कैच दे बैठे। उन्होंने अपनी पारी में छह चौके और तीन छक्के लगाए।

यहां से फिर मैच ने करवट बदली। रोहित शर्मा बिना खाता खोले पवेलियन लौट गये जबकि इसी ओवर में बोलिंजर की गेंद तेंदुलकर की उंगली पर लगी और उन्हें क्रीज छोड़नी पड़ी। जब गेंद और जरूरी रनों के बीच फासला काफी था तो फ्रैंकलिन और रायुडु ने किसी तरह का जोखिम नहीं उठाया और सहजता से टीम को लक्ष्य तक पहुंचाया। रायुडु ने बोलिंजर पर विजयी छक्का लगाया।

इससे पहले मुंबई इंडियन्स ने पिछले चैंपियन चेन्नई सुपरकिंग्स को 19.5 ओवर में 112 रन पर ढेर कर दिया। महेंद्र सिंह धौनी की अगुवाई वाली चेन्नई सुपरकिंग्स के लिए शुरू से ही कुछ भी सकारात्मक नहीं रहा। पहले उसने टॉस गंवाया और उसके बाद उसके बल्लेबाज आयाराम गयाराम साबित हुए। उसके केवल चार बल्लेबाज दोहरे अंक में पहुंचे जिनमें से सुरेश रैना ने सर्वाधिक 36 रन बनाए। मुंबई की तरफ से कीरेन पोलार्ड, लेसिथ मालिंगा और प्रज्ञान ओझा ने कसी हुई गेंदबाजी करते हुए दो-दो विकेट लिए।

चेन्नई के बल्लेबाजों ने तेजी से रन बनाने के प्रयास में गलत शॉट खेले। यही वजह रही कि उसके आखिरी आठ विकेट 37 रन के अंदर गिरे। मुंबई इंडियन्स के कप्तान हरभजन सिंह ने चेन्नई को पहले बल्लेबाजी का न्यौता दिया और शुरुआती ओवर में ही सफलता भी हासिल की। अंबाती रायुडु के बेहतरीन क्षेत्ररक्षण से फाफ डु प्लेसिस (3) रन आउट होकर पवेलियन लौटे।

पहले तीन ओवर में कोई बाउंड्री नहीं गई और केवल 15 रन बने। रैना ने अबु नाचिम अहमद की गेंद मिड ऑफ पर छह रन के लिए भेजकर चेन्नई के दर्शकों का हौसला बढ़ाया जबकि मुरली विजय ने इसी ओवर में चौका जड़ा। विजय आज सही तरह से शॉट लगाने के लिए जूझते नजर आए और उन्होंने जेम्स फ्रैंकलिन की उठती गेंद हवा में खेलकर हरभजन को आसान कैच थमा दिया। उन्होंने 17 गेंद पर दस रन बनाए।

फ्रैंकलिन का अगला ओवर हालांकि काफी महंगा साबित हुआ जिसमें 14 रन बने। इनमें ब्रावो के दो चौके भी शामिल हैं। दूसरे छोर पर खड़े रैना पर रन गति में तेजी लाने का दबाव साफ दिख रहा था और ऐसे में उन्होंने बाएं हाथ के स्पिनर ओझा की गेंद हवा में उछालकर आसान कैच थमा दिया। रैना ने 26 गेंद खेली तथा दो चौके और एक छक्का लगाया।

ओझा ने अगले ओवर में ब्रावो (19 गेंद पर 19 रन) को भी पवेलियन भेज दिया जबकि एल्बी मोर्कल (3) का विकेट गिरने से चेन्नई का स्कोर पांच विकेट पर 85 रन हो गया। ब्रावो और मोर्कल दोनों ने थोड़ा भी संयम नहीं दिखाया और हवा में शॉट खेलकर अपना विकेट इनाम में दिया।

विकेट गिरने का क्रम यहीं पर नहीं रुका। कप्तान महेंद्र सिंह धौनी (4) ने भी तेजी से रन चुराने के प्रयास में अपना विकेट गंवाया। ऐसा लग रहा था कि चेन्नई के बल्लेबाज विकेट गंवाने के लिए ही क्रीज पर उतर रहे हैं। एस बद्रीनाथ (10) को कैच का अभ्यास कराया तो मालिंगा ने इस साल नीलामी में सबसे अधिक कीमत पर बिके रविंदर जडेजा (3) की गिल्लियां बिखेरी और फिर डग बोलिंजर (3) को आउट करके चेन्नई की पारी का अंत किया।

 
 
 
टिप्पणियाँ