गुरुवार, 30 अक्टूबर, 2014 | 23:46 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
Image Loading    नौकरानी की हत्या: धनंजय को जमानत, जागृति के रिकार्ड मांगे अमर सिंह के समाजवादी पार्टी में प्रवेश पर उठेगा पर्दा योगी आदित्य नाथ ने दी उमा भारती को चुनौती देश में मौजूद कालेधन पर रखें नजर : अरुण जेटली शिक्षा को लेकर मोदी सरकार पर आरएसएस का दबाव कोयला घोटाला: सीबीआई को और जांच की अनुमति सिख दंगा पीड़ितों के परिजनों को पांच लाख देगा केंद्र अपमान से आहत शिवसेना ने किया फडणवीस के शपथ ग्रहण का बहिष्कार सरकार का कटौती अभियान शुरू, प्रथम श्रेणी यात्रा पर प्रतिबंध बेटे की दस्तारबंदी के लिए बुखारी का शरीफ को न्यौता, मोदी को नहीं
कप्तानी को लेकर सवालों को टाल गए धौनी
पुणे, एजेंसी First Published:19-12-12 09:06 PM
Image Loading

इंग्लैंड के हाथों टेस्ट सीरीज में 1-2 की शर्मनाक हार के बाद आलोचकों के निशाने पर रहे भारतीय कप्तान महेंद्र सिंह धौनी ने अलग प्रारूप के लिए अलग कप्तान नियुक्त करने संबंधी चर्चा पर बुधवार को टिप्पणी करने से इन्कार कर दिया।

धौनी से जब स्थानीय पत्रकार ने इस संबंध में चल रही चर्चा के बारे में पूछा तो उनका सीधा जवाब था, आपका सवाल मुझे लगता है कि अलग प्रारूप के लिए अलग कप्तान से जुड़ा है लेकिन अभी ट्वंटी20 प्रारूप की बात करें क्योंकि हमें कल टी20 मैच खेलना है।

धौनी इस मसले से पल्ला झाड़ना चाहते थे और इसका सबूत फिर से तब मिला जब उन्होंने ब्रिटिश पत्रकार को भी इसी तरह से कड़े अंदाज में जवाब दिया। भारतीय कप्तान ने कहा कि इस महत्वपूर्ण सीरीज के शुरू होने से पहले मैं इस पर टिप्पणी नहीं करना चाहता था। क्योंकि जब भारतीय क्रिकेट की बात होती है, यदि सब कुछ अनुकूल नहीं हुआ तो कप्तानी, सीनियर खिलाड़ियों, जूनियर खिलाड़ियों और हमारे पास मौजूद कौशल और बेंच स्ट्रेंथ को लेकर सवाल उठने शुरू हो जाते हैं। कई तरह के सवाल खड़े कर दिए जाते हैं और यदि आप सभी का जवाब देने लगो तो मुझे लगता है कि हमारे पास समय की कमी पड़ जाएगी।

धौनी ने भारत की असफलता से जुड़े कड़े सवालों से भी बचने की कोशिश की। उन्होंने कहा कि मेरा हमेशा से यही कहना रहा है कि जो हो गया उस पर बात करने का कोई मतलब नहीं बनता। चाहे हम जीते हों या हमें हार मिली है। वर्तमान के बारे में सोचना ज्यादा महत्वपूर्ण होता है तथा आगामी प्रारूप बहुत अलग है। उस पर ध्यान देना महत्वपूर्ण है।

धौनी ने कहा कि यह पूरी तरह से अलग तरह का प्रारूप है इसलिए मुझे नहीं लगता कि टेस्ट सीरीज से कुछ लेकर आगे बढ़ने का कोई मतलब होगा। यह पूरी तरह से अलग तरह का प्रारूप है। भारतीय कप्तान ने हालांकि कहा कि हार के बावजूद टेस्ट सीरीज में उनके कुछ सकारात्मक पक्ष भी रहे। उन्होंने कहा कि यह निराशाजनक रहा कि हम सीरीज नहीं जीत पाए और लंबे अर्से बाद हम ऐसा नहीं कर पाये। लेकिन (नागपुर में खेले गए) आखिरी टेस्ट मैच में हमने अच्छा प्रदर्शन किया। विकेट काफी सपाट था। (श्रंखला के) फिर भी कुछ सकारात्मक पहलू रहे।

धौनी ने कहा कि मुझे लगता है कि चेतेश्वर पुजारा हमारा भविष्य है। उन्होंने और विराट कोहली ने अच्छा प्रदर्शन किया। आपने देखा होगा कि गेंदबाजों विशेषकर स्पिनरों ने अच्छा प्रदर्शन किया जबकि उन्हें विकेट से बहुत अधिक मदद नहीं मिल रही थी। धौनी ने कहा कि नागपुर में ड्रा छूटे मैच के बाद सीनियर बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर ने अपने भविष्य को लेकर कोई संकेत नहीं दिए। उन्होंने कहा कि नहीं ऐसा कुछ नहीं है। भारतीय कप्तान ने कहा कि टेस्ट से टी20 के प्रारूप में जल्द से जल्द सामंजस्य बिठाना मुश्किल होता है लेकिन पेशेवर खिलाड़ियों से ऐसी उम्मीद की जाती है।

उन्होंने कहा कि टेस्ट क्रिकेट टी20 से पूरी तरह से भिन्न होता है लेकिन अंतरराष्ट्रीय क्रिकेटर होने के नाते हमें खेल की मांग के अनुरूप चलना पड़ता है। एक और अभ्यास सत्र से मदद मिलती लेकिन हमें अभ्यास के लिए केवल एक दिन मिला। इसलिए हमने इसका अधिक से अधिक फायदा उठाने की कोशिश की। धौनी ने कहा कि ओस भी भूमिका निभाएगी जिससे स्पिनरों का प्रभाव कम हो जाता है। उन्होंने कहा कि प्रारूप कोई भी हो इंग्लैंड की टीम संतुलित है। वर्ष के इस समय में परिस्थितियां थोड़ी भिन्न होती हैं। इस समय ओस पड़ती है जिसका मतलब है कि स्पिनर अधिक प्रभाव नहीं छोड़ पाएंगे लेकिन ये सब कयास हैं।

 
 
 
टिप्पणियाँ