मंगलवार, 26 मई, 2015 | 17:14 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
वायदों से मुकरने का लगाया आरोपसरकार के एक साल पर कांग्रेस का हमलाएक साल देश बदहाल: कांग्रेसमहिला सुरक्षा सिर्फ चुनावी जुमला: कांग्रेस
'पोंटिंग के संन्यास की खबर से सुन्न पड़ गया था'
पर्थ, एजेंसी First Published:30-11-12 02:35 PM
Image Loading

ऑस्ट्रेलियाई कप्तान माइकल क्लार्क ने कहा कि टीम के सबसे अनुभवी खिलाड़ी रिकी पोंटिंग के संन्यास की घोषणा सुनते ही वह सुन्न पड़ गए थे।
 
क्लार्क ने कहा कि टीम के होटल में अन्य खिलाड़ियों और स्टाफ के साथ खड़े होकर जब पोंटिंग ने यह कहा कि पर्थ उनका आखिरी टेस्ट होगा तो मैं यह खबर सुनकर इतना हैरान था कि मेरा शरीर पूरी तरह से सुन्न पड़ गया था।
 
ऑस्ट्रेलियाई कप्तान ने कहा कि रिकी टीम के वह खिलाड़ी हैं जिन्होंने मुझसे पहले अपने क्रिकेट करियर की शुरूआत की थी। ऑस्ट्रेलिया क्रिकेट में उनका योगदान और उपस्थिति हमेशा से रही है। अगले महीने श्रीलंका में रिकी के बगैर खेलने जाना हमारे लिए काफी अजीब अनुभव होगा।
 
न्यूज लिमिटेड अखबार के कॉलम में ऑस्ट्रेलियाई कप्तान ने पर्थ टेस्ट के बाद क्रिकेट को अलविदा करने वाले पूर्व कप्तान पोंटिंग की जमकर प्रशंसा करते हुए कहा कि पोंटिंग एक महान खिलाड़ी हैं जिन्होंने ऑस्ट्रेलिया का लंबे समय तक प्रतिनिधित्व किया।
 
क्लार्क ने कहा कि पोंटिंग टेस्ट में सचिन के बाद सर्वाधिक रन बनाने वाले दूसरे खिलाड़ी ही नहीं बल्कि इससे कहीं आगे हैं। उन्होंने इतना कुछ किया है जिसके बारे में दुनिया जानती ही नहीं है। जो समय उन्होंने अपने टीम के सदस्यों के साथ बिताया है। जो सलाह हमेशा उन्होंने अपने साथी खिलाड़ियों को दी और जब कई खिलाड़ी अपने कमजोर दौर से गुजर रहे थे तो उन्होंने जिस तरह से उन्हें संभाला वह काबिलेतारीफ है।
 
उल्लेखनीय है कि ऑस्ट्रेलिया के महान खिलाड़ी पोंटिंग ने दशकों तक चले अपने क्रिकेट करियर को दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ सीरीज के तीसरे और अंतिम पर्थ टेस्ट के बाद विराम लगाने की गुरुवार को घोषणा कर दी थी। पोंटिंग की इस अचानक की गई घोषणा से उनकी टीम के सदस्य काफी स्तब्ध हैं।

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
Image Loadingधौनी से कप्तानी के गुर सीखे : होल्डर
वेस्टइंडीज की वनडे टीम के युवा कप्तान जैसन होल्डर को लगता है कि चेन्नई सुपरकिंग्स के साथ बिताये गये दिनों में उन्हें किसी और से नहीं बल्कि भारत के सीमित ओवरों की टीम के कप्तान महेंद्र सिंह धौनी से कप्तानी के गुर सीखने को मिले थे।