शनिवार, 30 मई, 2015 | 11:39 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    पतंजलि फूड फैक्टरी से मिले हथियार, जांच में जुटी एसटीएफ पांचवीं बार फीफा के अध्यक्ष बने सेप ब्लेटर अमेरिकी संस्था का दावा: भारत में पड़ सकता है बड़ा अकाल, 100 करोड़ लोग होंगे प्रभावित! लाहौर के गद्दाफी स्टेडियम में चल रहा था पाक-जिम्बाब्वे मैच, बाहर हुआ आत्मघाती हमला अमेरिका में रंगभेद का सामना करना पड़ा था प्रियंका चोपड़ा को! 'वेलकम टू कराची' देखने से पहले रिव्यू तो पढ़ लीजिए FIL M REVIEW: सैन एंड्रियाज डर के साथ एंटरटेनमेंट  केजरीवाल को SC और HC का डबल झटका, LG ही करेंगे नियुक्ति  क्या दाऊद को जल्द भारत ला रही सरकार बीएमडब्ल्यू ने पेश किया ग्रान कूपे का नया मॉडल
अमरनाथ को ऐसी टिप्पणी नहीं करनी चाहिए थी: मोरे
मुंबई, एजेंसी First Published:13-12-12 05:45 PM
Image Loading

पूर्व राष्ट्रीय चयनन समिति अध्यक्ष किरण मोरे को लगता है कि मोहिंदर अमरनाथ का चयन मामलों में बीसीसीआई अध्यक्ष के हस्तक्षेप का खुलासा करना ठीक नहीं था।
मोरे ने कहा कि मुझे लगता है कि यह बहुत गोपनीय क्षेत्र होता है। जब आप चयनकर्ता बनते हो, आपको जानना चाहिए कि बीसीसीआई के नियम और इसका संविधान क्या है। मैं अमरनाथ से सहमत नहीं हूं और यह भारतीय क्रिकेट के लिए अच्छा नहीं है। टीम चयन वाला कमरा बहुत गोपनीय होता है और इससे बाहर कुछ नहीं आना चाहिए।

उन्होंने कहा कि मुझे बहुत बुरा लग रहा है। यह भारतीय क्रिकेट के लिए दुखद है। यह सही नहीं है। बतौर क्रिकेटर मुझे लगता है कि आपके एक खिलाड़ी के खिलाफ जो भी मुद्दे हों, वे कमरे के भीतर (खुद तक) ही सीमित रहने चाहिए। मोरे ने पत्रकारों से कहा कि आप अपनी रिपोर्ट बोर्ड को लिख सकते हो, लेकिन मीडिया के सामने यह बताना और कहना कि उसे बाहर किया जाना चाहिए था या नहीं, यह ठीक नहीं है। इसे बैठक कमरे के भीतर ही रहना चाहिए था।

पूर्व राष्ट्रीय चयनकर्ता अमरनाथ ने यह कहकर सनसनी फैला दी थी कि पांच सदस्यीय पैनल के तीन चयनकर्ता महेंद्र सिंह धोनी को इस साल जनवरी में बाहर करना चाहते थे लेकिन बीसीसीआई अध्यक्ष एन श्रीनिवासन ने ऐसा नहीं होने दिया।

मोरे ने कहा कि पिछली चयन समिति को नई टीम बनाने पर ध्यान लगाना चाहिए था। उन्होंने कहा कि मुझे लगता है कि हमें 2011 के बाद ज्यादा काम करना चाहिए था। विश्व कप जीतने के बाद अच्छी टीम तैयार करने की प्रक्रिया शुरू हो जानी चाहिए थी। मुझे सिर्फ इसी पर सवालिया निशान लगाना है। इस पूर्व विकेटकीपर ने कहा कि नई चयन समिति सिर्फ एक महीने पहले बनी है। हमें उन्हें समय देना चाहिए। वे काफी दबाव में हैं। हमें आगे देखना होगा और अच्छी टीम बनाने की प्रक्रिया पर ध्यान देना होगा। भले दो वर्ष खराब रहे हों, लेकिन हमारे पास काफी प्रतिभाशाली क्रिकेटर हैं जो देश का प्रतिनिधित्व कर सकते हैं।

उन्होंने कहा कि नई चयन समिति को कड़ी मेहनत करनी होगी और भविष्य के लिए अच्छी टेस्ट टीम बनानी होगी। मुझे लगता है कि टेस्ट टीम एक या डेढ़ साल तक जूझेगी। वनडे और टी20 में हम अच्छा करेंगे। मोरे ने धौनी का भी बचाव किया और कहा कि उसमें खेल के सभी प्रारूपों में खेलने के लिए काफी क्रिकेट बचा है। इस पूर्व क्रिकेटर ने कहा कि धौनी में अभी काफी क्रिकेट बचा है। वह शानदार क्रिकेटर है। पूरी टीम ही अच्छा नहीं कर रही है। बतौर खिलाड़ी क्रिकेट के सभी प्रारूपों में खेलने के लिए वह काफी अच्छा है।

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
Image Loadingअंतिम 11 में जगह मिलने की नहीं थी उम्मीद : सरफराज
इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) में अपने प्रदर्शन से प्रभावित करने वाले रॉयल चैलेंजर्स बेंगलोर (आरसीबी) के सबसे युवा बल्लेबाज सरफराज खान का कहना है कि उन्हें क्रिस गेल, ए.बी. डीविलियर्स और विराट कोहली जैसे विध्वंसक बल्लेबाजों के बीच अंतिम 11 में जगह मिलने का यकीन नहीं था और नम्बर छह की बेहद महत्वपूर्ण स्थान पर मौका दिये जाने से उनका आत्मविश्वास सातवें आसमान पर है।
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड