शुक्रवार, 28 अगस्त, 2015 | 07:43 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
धौनी को सभी प्रारूपों की कप्तानी नहीं करनी चाहिएः गांगुली
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:10-12-2012 04:47:44 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM
Image Loading

पूर्व कप्तान सौरव गांगुली ने हर प्रारूप के लिए अलग कप्तान के विचार का समर्थन किया और कहा कि महेंद्र सिंह धौनी को क्रिकेट के सभी प्रारूपों में भारतीय टीम की कप्तानी नहीं करनी चाहिए। उन्होंने कहा कि मैं यह नहीं कह रहा हूं कि उससे सभी प्रारूपों की जिम्मेदारी ले ली जाए क्योंकि भारतीय टीम बदलाव के दौर से गुजर रही है और नयी टीम बना रही है।

गांगुली ने सतर्कता भरे लहजे से कहा कि धौनी के साथ बैठकर उससे पूछना चाहिए कि वह क्रिकेट के किस प्रारूप की कप्तानी करना चाहता है। उसने भारतीय क्रिकेट के लिए काफी अच्छी चीजें की हैं, लेकिन इस समय मुझे सिर्फ इतना डर है कि अगर वह इसी तरह जारी रहा तो हम बतौर खिलाड़ी उसे गंवा देंगे।

इंग्लैंड के खिलाफ पिछले सात टेस्ट में से छह गंवाने के बावजूद गांगुली ने धौनी के प्रति आलोचनात्मक रवैया नहीं अपनाया। उन्होंने कहा कि विकेटकीपिंग इतनी आसान नहीं है और जब गेंदबाजी आक्रमण हमारे जैसा हो जिसका प्रदर्शन पिछले कुछ समय में अच्छा नहीं रहा है। आप घंटों तक विकेटकीपिंग करते हो और फिर आप टीम की कप्तानी करते हो। फिर आप सातवें नंबर पर बल्लेबाजी करने क्रीज पर उतरते हो।

गांगुली ने हेडलाइंस टुडे से कहा कि इसलिए धौनी के लिए यह इतना आसान नहीं है। मेरा वाकई में मानना है कि उसके काम को बांट देना चाहिए और उससे किसी प्रारूप से राहत चाहिए। सचिन तेंदुलकर की फार्म के बारे में इस पूर्व भारतीय कप्तान ने कहा कि सचिन को रन बनाने की जरूरत है। उसने काफी उपलब्धियां हासिल की हैं। उसने जो उपलब्धियां अपने नाम की है, उसकी वजह से ही उसे लंबा समय दिया जा रहा है। उसे खुद जानना चाहिए कि उसे कैसे इसे बदलना चाहिए।

गांगुली ने कहा कि बाहर से देखने वालों के लिए तेंदुलकर प्रदर्शन नहीं कर रहा है, मुझे लगता है कि अगर मैं तेंदुलकर होता तो मैं चला जाता। लेकिन इस समय यह उस पर निर्भर करता है। हम एक महान खिलाड़ी को बल्ला ऊंचा कर गर्व से जाते हुए देखना चाहते हैं, हम उसे खराब फार्म में जाते हुए नहीं देखना चाहते।

 

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
 
Image Loading

जब पप्पू पहंचा परीक्षा देने...
अध्यापिका: परेशान क्यों हो?
पप्पू ने कोई जवाब नहीं दिया।
अध्यापिका: क्या हुआ, पेन भूल आये हो?
पप्पू फिर चुप।
अध्यापिका : रोल नंबर भूल गए हो?
अध्यापिका फिर से: हुआ क्या है, कुछ तो बताओ क्या भूल गए?
पप्पू गुस्से से: अरे! यहां मैं पर्ची गलत ले आया हूं और आपको पेन-पेंसिल की पड़ी है।