गुरुवार, 30 अक्टूबर, 2014 | 23:45 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
Image Loading    नौकरानी की हत्या: धनंजय को जमानत, जागृति के रिकार्ड मांगे अमर सिंह के समाजवादी पार्टी में प्रवेश पर उठेगा पर्दा योगी आदित्य नाथ ने दी उमा भारती को चुनौती देश में मौजूद कालेधन पर रखें नजर : अरुण जेटली शिक्षा को लेकर मोदी सरकार पर आरएसएस का दबाव कोयला घोटाला: सीबीआई को और जांच की अनुमति सिख दंगा पीड़ितों के परिजनों को पांच लाख देगा केंद्र अपमान से आहत शिवसेना ने किया फडणवीस के शपथ ग्रहण का बहिष्कार सरकार का कटौती अभियान शुरू, प्रथम श्रेणी यात्रा पर प्रतिबंध बेटे की दस्तारबंदी के लिए बुखारी का शरीफ को न्यौता, मोदी को नहीं
धौनी को सभी प्रारूपों की कप्तानी नहीं करनी चाहिएः गांगुली
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:10-12-12 04:47 PM
Image Loading

पूर्व कप्तान सौरव गांगुली ने हर प्रारूप के लिए अलग कप्तान के विचार का समर्थन किया और कहा कि महेंद्र सिंह धौनी को क्रिकेट के सभी प्रारूपों में भारतीय टीम की कप्तानी नहीं करनी चाहिए। उन्होंने कहा कि मैं यह नहीं कह रहा हूं कि उससे सभी प्रारूपों की जिम्मेदारी ले ली जाए क्योंकि भारतीय टीम बदलाव के दौर से गुजर रही है और नयी टीम बना रही है।

गांगुली ने सतर्कता भरे लहजे से कहा कि धौनी के साथ बैठकर उससे पूछना चाहिए कि वह क्रिकेट के किस प्रारूप की कप्तानी करना चाहता है। उसने भारतीय क्रिकेट के लिए काफी अच्छी चीजें की हैं, लेकिन इस समय मुझे सिर्फ इतना डर है कि अगर वह इसी तरह जारी रहा तो हम बतौर खिलाड़ी उसे गंवा देंगे।

इंग्लैंड के खिलाफ पिछले सात टेस्ट में से छह गंवाने के बावजूद गांगुली ने धौनी के प्रति आलोचनात्मक रवैया नहीं अपनाया। उन्होंने कहा कि विकेटकीपिंग इतनी आसान नहीं है और जब गेंदबाजी आक्रमण हमारे जैसा हो जिसका प्रदर्शन पिछले कुछ समय में अच्छा नहीं रहा है। आप घंटों तक विकेटकीपिंग करते हो और फिर आप टीम की कप्तानी करते हो। फिर आप सातवें नंबर पर बल्लेबाजी करने क्रीज पर उतरते हो।

गांगुली ने हेडलाइंस टुडे से कहा कि इसलिए धौनी के लिए यह इतना आसान नहीं है। मेरा वाकई में मानना है कि उसके काम को बांट देना चाहिए और उससे किसी प्रारूप से राहत चाहिए। सचिन तेंदुलकर की फार्म के बारे में इस पूर्व भारतीय कप्तान ने कहा कि सचिन को रन बनाने की जरूरत है। उसने काफी उपलब्धियां हासिल की हैं। उसने जो उपलब्धियां अपने नाम की है, उसकी वजह से ही उसे लंबा समय दिया जा रहा है। उसे खुद जानना चाहिए कि उसे कैसे इसे बदलना चाहिए।

गांगुली ने कहा कि बाहर से देखने वालों के लिए तेंदुलकर प्रदर्शन नहीं कर रहा है, मुझे लगता है कि अगर मैं तेंदुलकर होता तो मैं चला जाता। लेकिन इस समय यह उस पर निर्भर करता है। हम एक महान खिलाड़ी को बल्ला ऊंचा कर गर्व से जाते हुए देखना चाहते हैं, हम उसे खराब फार्म में जाते हुए नहीं देखना चाहते।

 

 
 
 
टिप्पणियाँ