रविवार, 21 दिसम्बर, 2014 | 12:20 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
हार के लिए कोच नहीं, खिलाड़ी दोषी: धौनी
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:05-01-13 05:11 PM
Image Loading

भारतीय टीम के लगातार लचर प्रदर्शन के कारण कोच डंकन फ्लैचर की भूमिका को लेकर लगातार सवाल खड़े किये जा रहे हैं लेकिन कप्तान महेंद्र सिंह धौनी ने उनका बचाव करते हुए कहा कि हार के लिये कोच नहीं बल्कि खिलाड़ी जिम्मेदार हैं।

फ्लैचर के कोच पद संभालने के बाद भारत को इंग्लैंड और आस्ट्रेलिया दौरे में करारी हार झेलनी पड़ी थी। इसके बाद इंग्लैंड और पाकिस्तान के हाथों घरेलू सीरीजों में हार ने रही सही कसर पूरी कर दी। तब से फ्लैचर की जगह किसी भारतीय को कोच बनाने की मांग की जाने लगी है।

धौनी ने पाकिस्तान के खिलाफ कल यहां होने वाले तीसरे और आखिरी मैच की पूर्व संध्या पर कहा कि कोच आपको केवल गाइड कर सकते हैं। कोच आपकी मदद कर सकते हैं। आपकी किसी कमी को दूर करने की कोशिश कर सकते हैं लेकिन वे मैदान पर नहीं जा सकते। मैं समझता हूं कि कोच को दोष देना गलत है। हार की जिम्मेदारी खिलाड़ियों की होती है क्योंकि मैदान पर उन्हें प्रदर्शन करना होता है।

भारतीय कप्तान से जब पूछा गया कि विदेशी कोच के बजाय किसी भारतीय को कोच बनाने की मांग की जा रही है तो उन्होंने मजाकिया अंदाज में कहा कि देशी विदेशी क्या होता है मैं नहीं जानता। मैं इतना जानता हूं देशी विदेशी मुर्गे होते हैं।

धौनी ने फिर से दोहराया कि भारत को यदि तीसरे मैच में जीत दर्ज करनी है तो टीम को तीनों विभाग में अच्छा प्रदर्शन करना होगा। उन्होंने कहा कि हमारे पास प्रतिभा है लेकिन हमें मिलकर प्रदर्शन करना होगा। यदि किसी मैच में हम अच्छी बल्लेबाजी करते हैं तो उसमें हमारी गेंदबाजी अच्छी नहीं होती है। जीत के लिए हमें तीनों विभाग में अच्छा प्रदर्शन करना होगा।

धौनी ने हालांकि स्वीकार किया कि बल्लेबाजों का बड़ा स्कोर खड़ा करना होगा। उन्होंने कहा कि हम सीरीज हार गये हैं और हमारी बल्लबाजी अच्छी नहीं रही। हमें बड़ा स्कोर खडा करने की जरूरत है। शीर्ष क्रम के सभी बल्लेबाजों को बल्लेबाजी इकाई के रूप में खेलने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि कल के मैच में भी यदि हम पहले बल्लेबाजी करते है। तो हमें बड़ा स्कोर बनाना होगा। यदि हम बाद में बल्लेबाजी करते हैं तो हम कोशिश करेंगे कि हमें छोटा लक्ष्य मिले।

इस मैच के लिए रणनीति के बारे में उन्होंने कहा कि हमारी रणनीति पहले जैसी ही रहेगी। हम इस मैच में भी अपनी सर्वश्रेष्ठ एकादश उतारेंगे। हमें जिम्मेदारी लेनी होगी। भुवनेश्वर अच्छा खेल रहा है लेकिन हमें देखना है कि वह अलग अलग परिस्थितियों में कैसा खेलता है। फिरोजशाह कोटला की पिच के बारे में धौनी ने कहा कि यह कोटला के पारंपरिक विकेट की तरह ही दिख रहा है। मैच 12 बजे शुरू होगा लेकिन अधिक गर्मी होने की संभावना नहीं है। विकेट को लेकर अभी कुछ नहीं कहा जा सकता है। मैच से पहले ही उसकी स्थिति के बारे में कुछ कहा जा सकता है।

एकदिवसीय क्रिकेट में हाल में किए बदलावों के बारे में भारतीय कप्तान ने कहा कि टीम उनसे तालमेल बिठाने की कोशिश कर रही है। उन्होंने कहा कि पिछले दो मैचों में तो हमें बहुत ज्यादा परेशानी नहीं हुई लेकिन पांचवें गेंदबाज को लेकर थोड़ी सी परेशानी हो रही है। इसलिए हमने रविंदर जडेजा को टीम में शामिल किया। धौनी ने माना कि भारतीय टीम पाकिस्तान पर दबाव बनाने में नाकाम रही है। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान की टीम बेहद संतुलित है। उनके पास गेंदबाजी के कई विकल्प हैं। मोहम्मद हफीज और शोएब मलिक भी गेंदबाजी कर सकते हैं। हम उनके गेंदबाजों पर दबाव नहीं बना पाये हैं।

पाकिस्तान के पूर्व कप्तान जहीर अब्बास ने कहा था कि भारतीय टीम पर थकान हावी है, लेकिन धौनी ने इससे इन्कार किया। उन्होंने कहा कि ये कहना मुश्किल है। हम इस बारे में सोच ही नहीं सकते। हम जानते हैं कि हम कितने दिन बाद दूसरा मैच खेलना है और शरीर को कैसे विश्राम देना है। धौनी ने सुनील गावस्कर और इमरान खान की इस बात को भी नकार दिया कि भारत के खराब प्रदर्शन के लिए आईपीएल जिम्मेदार है। उन्होंने कहा कि आप दोष तो किसी पर भी मढ़ सकते हो। समाधान क्या है यह तो बताओ। आईपीएल फेवरिट डिश है। उसे आसानी से जिम्मेदार ठहराया जा सकता है।

धौनी से पूछा गया कि लगातार खराब प्रदर्शन के कारण क्या उन पर बहुत अधिक दबाव है। उन्होंने कहा कि जितना अधिक दबाव की बातें हो रही हैं यदि इतना अधिक दबाव होता तो मैं बिखर ही गया होता। भारतीय कप्तान ने इस बात को भी नकार दिया कि सीनियर खिलाड़ी आपस में विचार-विमर्श नहीं करते। उन्होंने कहा कि हम हमेशा ड्रेसिंग रूम में चर्चा करते हैं। बात नहीं करने का तो सवाल ही पैदा नहीं होता।

 
 
 
टिप्पणियाँ
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड