रविवार, 26 अक्टूबर, 2014 | 02:41 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
Image Loading    राजनाथ सोमवार को मुंबई में कर सकते हैं शिवसेना से वार्ता नरेंद्र मोदी ने सफाई और स्वच्छता पर दिया जोर मुंबई में मोदी से उद्धव के मिलने का कार्यक्रम नहीं था: शिवसेना  कांग्रेस ने विवादित लेख पर भाजपा की आलोचना की केन्द्र ने 80 हजार करोड़ की रक्षा परियोजनाओं को दी मंजूरी  कांग्रेस नेता शशि थरूर शामिल हुए स्वच्छता अभियान में हेलमेट के बगैर स्कूटर चला कर विवाद में आए गडकरी  नस्ली घटनाओं पर राज्यों को सलाह देगा गृह मंत्रालय: रिजिजू अश्विका कपूर को फिल्मों के लिए ग्रीन ऑस्कर अवार्ड जम्मू-कश्मीर और झारखंड में पांच चरणों में मतदान की घोषणा
'पाकिस्तानी गेंदबाज भारत को परेशान कर सकते हैं'
कराची, एजेंसी First Published:15-12-12 02:37 PM
Image Loading

पाकिस्तान के वनडे कप्तान मिस्बाह उल हक और टवेंटी20 कप्तान मोहम्मद हफीज का मानना है कि भारत में होने वाली आगामी सीरीज़ के लिये चुने गये तेज गेंदबाजों में मेजबान टीम के मजबूत बल्लेबाजी क्रम को ध्वस्त करने की क्षमता है।
    
हफीज ने कहा कि मेरा मानना है कि टीम में चुने गये तेज गेंदबाजों में भारतीयों को उनकी सरजमीं पर पस्त करने की क्षमता है। उन्होंने कहा कि बायें हाथ के तेज गेंदबाज मोहम्मद इरफान को टवेंटी20 सीरीज़ में बेहतरीन ढंग से इस्तेमाल किया जायेगा।
    
हफीज भारत में दो टवेंटी20 मैचों में पाकिस्तान की अगुवाई करेंगे जबकि मिस्बाह होने वाले तीन वनडे मैचों में टीम की कमान संभालेंगे। दोनों टीमों में कई तेज गेंदबाज उमर गुल, जुनैद खान, वहाब रियाज, मोहम्मद इरफान, अनवर अली, असद अली और सोहेल तनवीर शामिल हैं। इनमें से चार बायें हाथ के तेज गेंदबाज हैं।
    
हफीज ने कहा कि मुझे पूरा भरोसा है कि हमारी टीम भारत को हराकर दोनों सीरीज़ (टी20 और वनडे) जीतेगी।  मिस्बाह ने स्वीकार किया कि भारत के खिलाफ मैच हमेशा ही खिलाड़ियों और दोनों देशों के लिये दबाव भरे होते हैं।
    
उन्होंने कहा कि पेशेवर खिलाड़ी के तौर पर हमें इस दबाव में रहने और इससे अनुकूलित होना चाहिए और मैं सभी खिलाड़ियों को टूर में सकारात्मक रूप से खेलने के लिये कहूंगा। अनुभवी ऑल राउंडर अब्दुल रज्जाक को दोनों टीमों से जबकि शाहिद अफरीदी को वनडे टीम से बाहर किये जाने के संबंध में पूछने पर मिस्बाह ने कहा कि दोनों ने पाकिस्तान क्रिकेट की अच्छी तरह सेवा की है।
    
उन्होंने कहा कि लेकिन लोगों को यह याद रखना होगा कि सीनियर खिलाड़ियों को बाहर करने का फैसला सिर्फ इसलिये कप्तान के कहने पर नहीं लिया गया बल्कि इस तरह के फैसले सर्वसम्मति से लिये जाते हैं।
 
 
 
टिप्पणियाँ