रविवार, 30 अगस्त, 2015 | 07:01 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
पूर्व कप्तानों ने कहा, भारत-पाक क्रिकेट अब जंग नहीं
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:08-12-2012 12:59:37 PMLast Updated:08-12-2012 01:08:59 PM
Image Loading

अपने जमाने के दिग्गज आलराउंडरों कपिल देव और इमरान खान सहित छह पूर्व कप्तानों ने स्वीकार किया कि भारत और पाकिस्तान के बीच जब मैच होते हैं तो खिलाड़ियों पर बहुत अधिक दबाव होता है, लेकिन इनको महायुद्ध का नाम नहीं दिया जा सकता।

इन कप्तानों ने एजेंडा आज तक में चर्चा के दौरान शुक्रवार को कहा कि इन दोनों देशों के बीच आगामी श्रृंखला में जो भी टीम दबाव बेहतर तरीके से झेलेगी, उसके जीतने की संभावना अधिक है। इस चर्चा में भारत के तीन पूर्व कप्तानों कपिल, मोहम्मद अजहरूद्दीन और सौरव गांगुली तथा पाकिस्तान के पूर्व कप्तानों वसीम अकरम और वकार यूनिस ने भाग लिया। इस अवसर पर दर्शक दीर्घा में मौजूद इमरान ने भी कुछ सवालों के जवाब दिये।

कपिल ने कहा कि जब वह पहली बार 1978 में पाकिस्तान दौरे पर गये थे तो तब दोनों देशों के बीच मैच युद्ध जैसे लगे थे, लेकिन अब हालात बदल गये हैं। उन्होंने कहा कि अब जब महायुद्ध कहा जाता है तो दुख होता है। हमारे समय में ऐसा होता था, जबकि हम सोचते थे कि इनकी जान निकाल देनी है, लेकिन जब सौरव गांगुली की अगुवाई में भारतीय टीम 2004 में पाकिस्तान दौरे पर गयी थी तो तब माहौल एकदम बदला हुआ था।

पाकिस्तान के पूर्व कप्तान इमरान ने कहा कि दोनों देशों के लोग परिपक्व हो गये हैं और केवल चार पांच प्रतिशत लोग निहित स्वार्थों के लिये इसे जंग का रूप देते हैं। उन्होंने कहा कि जब सौरव की टीम भारत आयी तो हमारे देश के लोगों ने बड़े सभ्य तरीके से हार को स्वीकार किया था। अब लोगों में परिपक्वता आ चुकी है।

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
Image Loadingगावस्कर ने पुजारा की तारीफों के पुल बांधे
अपनी अच्छी तकनीक और शांत चित के कारण चेतेश्वर पुजारा क्रीज पर अपने पांव जमाने में माहिर हैं और पूर्व कप्तान सुनील गावस्कर ने भी इस युवा बल्लेबाज की आज जमकर तारीफ की जिन्होंने अपने नाबाद शतक से भारत को संकट से उबारा।
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
 
Image Loading

जब संता के घर आए डाकू...
आधी रात को संता के घर डाकू आए।
संता को जगाकर पूछा: यह बताओ कि सोना कहां है?
संता (गुस्से से): इतना बड़ा घर है कहीं भी सो जाओ। इतनी छोटी बात के लिए मुझे क्यों जगाया!