शनिवार, 31 जनवरी, 2015 | 06:09 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
फतुहा में बिजली की तार की चपेट में ट्रॉली आई, दो की मौतअमिता को पीजीआई लखनऊ भेजा गया था महिला के खून का नमूना, जांच में स्वाइन फ्लू की पुष्टिबरेली में स्वाइन फ्लू से पहली मौत की पुष्टि, राममूर्ति मेडिकल कालेज में हुई थी 24 जनवरी को सीबीगंज की अमिता उपाध्याय की मौतपाकिस्तान के शिकारपुर में ब्लास्ट, 20 लोगों की मौतयूपी: लखीमपुर खीरी के मैगलंगज में युवक की हत्या, ट्रैक्टर ट्रॉली पर फेंक दिया शव, गला दबाकर हत्या का आरोपबरेली : इंडियन वैटेनरी रिसर्च इंस्टीट्यूट (आईवीआरआई) और सेंट्रल एवियन रिसर्च इंस्टीट्यूट (सीएआरआई) में रेबीज का कहर, आवारा कुत्तों के काटने से कई वैज्ञानिक रेबीज की चपेट में, मारे गए कुत्तों के पोस्टमार्टम में रेबीज की पुष्टि
पूर्व कप्तानों ने कहा, भारत-पाक क्रिकेट अब जंग नहीं
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:08-12-12 12:59 PMLast Updated:08-12-12 01:08 PM
Image Loading

अपने जमाने के दिग्गज आलराउंडरों कपिल देव और इमरान खान सहित छह पूर्व कप्तानों ने स्वीकार किया कि भारत और पाकिस्तान के बीच जब मैच होते हैं तो खिलाड़ियों पर बहुत अधिक दबाव होता है, लेकिन इनको महायुद्ध का नाम नहीं दिया जा सकता।

इन कप्तानों ने एजेंडा आज तक में चर्चा के दौरान शुक्रवार को कहा कि इन दोनों देशों के बीच आगामी श्रृंखला में जो भी टीम दबाव बेहतर तरीके से झेलेगी, उसके जीतने की संभावना अधिक है। इस चर्चा में भारत के तीन पूर्व कप्तानों कपिल, मोहम्मद अजहरूद्दीन और सौरव गांगुली तथा पाकिस्तान के पूर्व कप्तानों वसीम अकरम और वकार यूनिस ने भाग लिया। इस अवसर पर दर्शक दीर्घा में मौजूद इमरान ने भी कुछ सवालों के जवाब दिये।

कपिल ने कहा कि जब वह पहली बार 1978 में पाकिस्तान दौरे पर गये थे तो तब दोनों देशों के बीच मैच युद्ध जैसे लगे थे, लेकिन अब हालात बदल गये हैं। उन्होंने कहा कि अब जब महायुद्ध कहा जाता है तो दुख होता है। हमारे समय में ऐसा होता था, जबकि हम सोचते थे कि इनकी जान निकाल देनी है, लेकिन जब सौरव गांगुली की अगुवाई में भारतीय टीम 2004 में पाकिस्तान दौरे पर गयी थी तो तब माहौल एकदम बदला हुआ था।

पाकिस्तान के पूर्व कप्तान इमरान ने कहा कि दोनों देशों के लोग परिपक्व हो गये हैं और केवल चार पांच प्रतिशत लोग निहित स्वार्थों के लिये इसे जंग का रूप देते हैं। उन्होंने कहा कि जब सौरव की टीम भारत आयी तो हमारे देश के लोगों ने बड़े सभ्य तरीके से हार को स्वीकार किया था। अब लोगों में परिपक्वता आ चुकी है।

 
 
 
टिप्पणियाँ
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड