बुधवार, 05 अगस्त, 2015 | 05:24 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    परिवार मोह में फंसकर लालू बन गए हैं नेता से नीतीश का पिछलग्गुः रामकृपाल  होंडा ने 7.30 लाख में पेश की सीबीआर-650  आतंकियों तक जाने वाले कालेधन के रूट पर कसेगी लगाम  बेनकाब हुआ पाक का नापाक चेहरा, पाकिस्तान में रची गई थी मुंबई अटैक की साजिश सीबीआई ने यादव सिंह के खिलाफ भ्रष्टाचार के दो मामले दर्ज किए  आरबीआई की नीतिगत दर में बदलाव नहीं, फिलहाल नहीं घटेगी ईएमआई  खुशखबरी...और सस्ता होने वाला है पेट्रोल और डीजल बॉस हो तो ऐसा, हर एक कर्मचारी को बोनस में दिए 1.6 करोड़ रुपये  पाकिस्तानी पत्रकार चांद नवाब का नया वीडियो वायरल, क्या आपने देखा  हॉकी: पहले टेस्ट मैच में भारत ने फ्रांस को 2-0 से हराया
तेंदुलकर की भावनाओं की कद्र करें: कुंबले
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:29-11-2012 07:44:12 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM
Image Loading

सचिन तेंदुलकर के संन्यास को लेकर चल रही चर्चा के बीच पूर्व भारतीय कप्तान अनिल कुंबले ने टीम में इस स्टार बल्लेबाज की जगह पर सवाल उठा रहे लोगों की कड़ी आलोचना की। उन्होंने कहा कि तेंदुलकर की भावनाओं की कद्र की जानी चाहिए।

तेंदुलकर लंबे समय से खराब फार्म में चल रहे हैं और कई लोगों ने भारतीय टीम में उनके स्थान पर सवाल खड़े किये हैं लेकिन कुंबले ने कहा कि यह समय उन पर उंगली उठाने का नहीं बल्कि समर्थन करने का है। कुंबले ने वीक पत्रिका में अपने कालम में लिखा, कई ऐसे मौके थे जबकि उन्होंने अकेले भारत को जीत दिलाई लेकिन वह भारत की हार के एकमात्र कारण कभी नहीं रहे। बेहतर यही होगा कि उनके सामने जो है उससे उन्हें खुद निबटने दें क्योंकि कोई उनकी जगह नहीं ले सकता। किसी ने अब तक 192 टेस्ट मैच नहीं खेले हैं, 34 हजार रन नहीं बनाए हैं या 100 शतक नहीं लगाए हैं। उन्हें वह सम्मान दें जिसके वह हकदार हैं।

उन्होंने लिखा है, पिछले 23 साल में उन्होंने लोगों के सपने साकार करने में मदद की। उन्हें भावनात्मक रूप से बेहतर महसूस कराया। अब हमें उनकी भावनाओं की भी कद्र करनी चाहिए।

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
Image Loadingतेंदुलकर ने मलिंगा की तारीफों के पुल बांधे
तेज गेंदबाज लसिथ मलिंगा की तारीफ करते हुए महान बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर ने आज कहा कि श्रीलंका का यह क्रिकेटर विश्व स्तरीय गेंदबाज है और उनके साथ इंडियन प्रीमियर लीग में खेलना शानदार अनुभव रहा।
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
 
Image Loading

संता बंता और अलार्म

संता बंता से - 20 सालों में, आज पहली बार अलार्म से सुबह सुबह मेरी नींद खुल गई।

बंता - क्यों, क्या तुम्हें अलार्म सुनाई नहीं देता था?

संता - नहीं आज सुबह मुझे जगाने के लिए मेरी बीवी ने अलार्म घड़ी फेंक कर सिर पर मारी।