सोमवार, 24 नवम्बर, 2014 | 20:30 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
शिवसेना ने कहा कि अगर बीमा विधेयक में कर्मचारियों और किसानों के हित के लिए संशोधन नहीं लाया गया तो वह इसका विरोध करेगी।श्रीलंका के राष्‍ट्रपति महिन्‍दा राजपक्षे मंगलवार को लुम्बिनी आएंगे। वह वहां पूर्वाह्न 11 बजे से एक बजे तक रहेंगे। महामाया मंदिर में पूजा अर्चना करेंगे।प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और उनके पाकिस्तानी समकक्ष नवाज शरीफ के बीच संभावित बैठक के बारे में विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने कहा कि कल तक इंतजार कीजिए।केंद्र के खिलाफ आरोप लगाकर आपराधिक मामलों में आरोपियों की मदद कर रही हैं ममता बनर्जी: केंद्रीय मंत्री एम वेंकैया नायडू।
तेंदुलकर की भावनाओं की कद्र करें: कुंबले
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:29-11-12 07:44 PM
Image Loading

सचिन तेंदुलकर के संन्यास को लेकर चल रही चर्चा के बीच पूर्व भारतीय कप्तान अनिल कुंबले ने टीम में इस स्टार बल्लेबाज की जगह पर सवाल उठा रहे लोगों की कड़ी आलोचना की। उन्होंने कहा कि तेंदुलकर की भावनाओं की कद्र की जानी चाहिए।

तेंदुलकर लंबे समय से खराब फार्म में चल रहे हैं और कई लोगों ने भारतीय टीम में उनके स्थान पर सवाल खड़े किये हैं लेकिन कुंबले ने कहा कि यह समय उन पर उंगली उठाने का नहीं बल्कि समर्थन करने का है। कुंबले ने वीक पत्रिका में अपने कालम में लिखा, कई ऐसे मौके थे जबकि उन्होंने अकेले भारत को जीत दिलाई लेकिन वह भारत की हार के एकमात्र कारण कभी नहीं रहे। बेहतर यही होगा कि उनके सामने जो है उससे उन्हें खुद निबटने दें क्योंकि कोई उनकी जगह नहीं ले सकता। किसी ने अब तक 192 टेस्ट मैच नहीं खेले हैं, 34 हजार रन नहीं बनाए हैं या 100 शतक नहीं लगाए हैं। उन्हें वह सम्मान दें जिसके वह हकदार हैं।

उन्होंने लिखा है, पिछले 23 साल में उन्होंने लोगों के सपने साकार करने में मदद की। उन्हें भावनात्मक रूप से बेहतर महसूस कराया। अब हमें उनकी भावनाओं की भी कद्र करनी चाहिए।

 
 
 
टिप्पणियाँ