बुधवार, 22 अक्टूबर, 2014 | 05:38 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
मेरे हीरो रहेंगे आर्मस्ट्रांग: युवराज
कोलकाता, एजेंसी First Published:02-01-13 08:28 PM
Image Loading

सात बार के टूर डि फ्रांस चैम्पियन रहे लांस आर्मस्ट्रांग पर डोपिंग का दाग लगने के बावजूद भारतीय आलराउंडर युवराज सिंह का इस अमेरिकी साइकिलिस्ट के प्रति नजरिया नहीं बदला है। आर्मस्ट्रांग पर शक्तिवर्धक दवाओं के इस्तेमाल के लिए प्रतिबंध लगा है।

कैंसर की बीमारी से संघर्ष के बाद क्रिकेट के मैदान पर वापसी करने वाले युवराज ने कहा कि मैंने उसके बारे में सब कुछ पढ़ा है। मैं उन्हें नये साल पर संदेश भेजा कि वह हमेशा मेरे हीरो रहेंगे फिर दुनिया चाहे कुछ भी कहे। उन्होंने कहा कि कैंसर से वापसी करते हुए इतना कुछ हासिल करना उसे महान बनाता है। वह आदर्श है। आपने काल्पनिक कथाओं में सुपर हीरो देखे होंगे। वह असल जिंदगी का हीरो है।

अमेरिकी डोपिंग रोधी संस्था ने कहा था कि आर्मस्ट्रांग व्यवस्थित डोपिंग कार्यक्रम का हिस्सा रहे जिसके बाद उनके सातों टूर डि फ्रांस खिताब छीन लिए गए और उन्होंने अपने अधिकांश प्रायोजक गंवा दिए। इस बीच युवराज ने कहा कि वह सचिन तेंदुलकर को हमेशा बड़े भाई के रूप में देखते हैं और वनडे क्रिकेट से उनके संन्यास ने उन्हें दुखी कर दिया।

युवराज ने कहा कि निजी तौर यह मेरे लिए काफी दुख की बात है कि वह अब वनडे ड्रेसिंग रूम में नहीं होंगे। निश्चित तौर पर एक महान खिलाड़ी वनडे क्रिकेट को छोड़ गया। मुझे निजी तौर पर उनकी काफी कमी खलेगी। उन्होंने कहा कि उनके रिकार्ड के बारे में बात करने का कोई मतलब नहीं है। अगर हम इस बारे में बात करेंगे तो इसे पूरा होने में कम से कम एक साल लग जाएगा। वह ऐसे व्यक्ति है जिन्हें मैं बड़े भाई के रूप में देखता हूं।

युवराज से वर्ष 2011 के बारे में पूछा गया जब टीम इंडिया ने विश्व कप जीता और उन्हें फेफड़ों के बीच कैंसर का पता चला, तो उन्होंने कहा कि 2011 भारतीय क्रिकेट के लिए अहम रहा क्योंकि हमने विश्व कप जीता। उन्होंने कहा कि इस साल का पूर्वानुमान नहीं लगाया जा सकता था। एक तरफ तो विश्व कप जीतने का जश्न था तो दूसरी तरफ कैंसर का पता चला। इससे उबरना मुश्किल था। मुझे गर्व है कि मैं ऐसा करने में सफल रहा।

युवराज ने कहा कि 2013 उनके लिए महत्वपूर्ण साल होगा। उन्होंने कहा कि 2013 रोचक साल होगा। यह साबित करेगा कि क्या मैं उस तरह प्रदर्शन कर पाऊंगा जिस तरह करता था। मुझे अपने प्रदर्शन को बेहतर करने की उम्मीद है। इस चरण से बाहर निकलने में मैंने कड़ी मेहनत की है।
 
 
 
टिप्पणियाँ