शनिवार, 05 सितम्बर, 2015 | 00:18 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
पाक के खिलाफ सीरीज़ में टॉस अहम होगा : धौनी
मुंबई, एजेंसी First Published:23-12-2012 12:25:06 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM
Image Loading

भारतीय कप्तान महेंद्र सिंह धौनी का मानना है कि चिर प्रतिद्वंद्वी पाकिस्तान के खिलाफ 25 दिसंबर से होने वाली सीमित ओवरों की सीरीज़ में टॉस की भूमिका अहम होगी।

धौनी ने यहां संवाददाताओं से कहा कि टॉस जीतना महत्वपूर्ण होगा क्योंकि ओस प्रभाव डाल सकती है। यदि आप दोनों टीमों पर गौर करो तो दोनों लगभग एक जैसी हैं। स्पिनरों को खेलने की उनकी क्षमता भी समान है। उम्मीद है कि ये रोमांचक मैच होंगे।

पाकिस्तान के खिलाफ टी20 मैच 25 दिसंबर को बेंगलूरु और 28 दिसंबर को अहमदाबाद में खेले जाएंगे। वनडे सीरीज़ 30 दिसंबर से चेन्नई में शुरू होगी। दूसरा वनडे मैच तीन जनवरी को कोलकाता तथा तीसरा और अंतिम मैच छह जनवरी को दिल्ली में खेला जाएगा।

पाकिस्तान के साथ खेलने और सीरीज़ के महत्व के बारे में धौनी ने कहा कि कोई ऐसी सीरीज़ बताओ जो हमारे लिये महत्वपूर्ण नहीं हो। चाहे हम इंग्लैंड, पाकिस्तान, ऑस्ट्रेलिया या किसी अन्य से सीरीज़ खेलें हमारे लिये सभी एक समान हैं।

उन्होंने कहा कि हमारा नजरिया यही है। हम वास्तव में यह नहीं सोचते कि हम किसके खिलाफ खेल रहे हैं क्योंकि इससे अतिरिक्त दबाव बन सकता है। हम केवल प्रारूप पर ध्यान देकर अपनी रणनीति पर अमल करने की कोशिश करते हैं।

पाकिस्तान के खिलाफ तीन मैचों की सीरीज़ के बाद इंग्लैंड के खिलाफ 11 जनवरी से पांच मैचों की वनडे सीरीज़ होगी। इंग्लैंड के खिलाफ अन्य मैच कोच्चि (15 जनवरी), रांची (19 जनवरी), मोहाली (23 जनवरी) और धर्मशाला (27 जनवरी) में खेले जाएंगे। इसके बाद ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ चार टेस्ट मैचों की सीरीज़ होगी।

इस व्यस्त क्रिकेट कार्यक्रम के बारे में धौनी ने कहा कि यदि किसी खिलाड़ी को लगता है कि किसी सीरीज़ में खेलने या अगले कुछ मैचों में खेलने से आप चोटिल हो सकते हैं जिससे आप छह से आठ सप्ताह तक बाहर रह सकते हो तो बेहतर यही होगा कि आप बीसीसीआई से कहो कि आपको विश्राम चाहिए। उन्होंने कहा कि मैं बहुत अधिक सीरीज़ से चिंतित नहीं हूं क्योंकि मुझे क्रिकेट खेलना पसंद है।

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
क्रिकेट स्कोरबोर्ड Others
 
Image Loading

अलार्म से नहीं खुलती संता की नींद
संता बंता से: 20 सालों में, आज पहली बार अलार्म से सुबह-सुबह मेरी नींद खुल गई।
बंता: क्यों, क्या तुम्हें अलार्म सुनाई नहीं देता था?
संता: नहीं आज सुबह मुझे जगाने के लिए मेरी बीवी ने अलार्म घड़ी फेंक कर सिर पर मारी।