रविवार, 25 जनवरी, 2015 | 17:40 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
हमारी दोस्ती का असर दोनों देशों के रिश्तों में दिख रहा है: ओबामाओबामा : अकेले में मिलते हैं तो एक दूसरे को समझते हैंएक-दूसरे को जानने की कोशिश की : मोदीमोदी : पर्सनल कमेस्ट्री मायने रखती हैअकेले में जो बात होती है उसे पर्दे में रहने दें : मोदीरक्षा क्षेत्र में तकनीकी सहयोग पर हमारी चर्चा हुई:ओबामाओबामा : मंगलवार को रेडियो पर भारतीय लोगों से बातचीत का इंतजार हैहम परमाणु करार पर अमल की ओर आगे बढ़े :ओबामाओबामा :हम भारत-अमेरिका के रिश्तों को नई ऊंचाई तक ले जाना चाहते हैंहम अपने व्यापारिक रिश्तों को और आगे ले जाएंगे : ओबामाओबामा : चाय पर चर्चा के लिए पीएम मोदी का शुक्रियान्योते के लिए धन्यवाद : ओबामाओबामा ने हिंदी में कहा मेरा प्यार भरा नमस्कारओबामा ने नमस्ते के साथ अपना बयान शुरू कियापर्यावरण के लिए दोनों देश मिलकर काम करेंगे :मोदीआतंकी गुटों पर कार्रवाई को लेकर कोई भेद नहीं रखेंगे :मोदीमोदी: रक्षा के क्षेत्र में, समुद्री सुरक्षा के क्षेत्र में हम सहयोग बढ़ाएंगेपरमाणु करार के व्यवसायिक नतीजे अब दिखेंगे : मोदीमोदी : पिछले कुछ दिनों में दोनों देशों में गर्मजोशी दिखीअमेरिका सबसे अच्छा दोस्त है :मोदीमैं अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा का धन्यवाद करते हैं कि उन्होंने हमारा न्यौता स्वीकारा। मैं जानता हूं कि दोनों कितने व्यस्त रहते हैं- मोदीमोदी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि भारत में ओबामा और मिशेल का स्वागत है। गणतंत्र दिवस पर हमारा महमान बनना खास हैहैदराबाद हाउस में हुई मोदी और ओबामा की मुलाकातओबामा और मोदी देंगे साझा बयानथोड़ी देर में मीडिया के सामने आएंगे ओबामा और मोदी
'बड़े नामों और दबाव से नहीं डरता भुवनेश्वर'
नयी दिल्ली, एजेंसी First Published:27-12-12 04:28 PM
Image Loading

पाकिस्तान के खिलाफ पहले टी20 क्रिकेट मैच में तीन विकेट चटकाकर शानदार पदार्पण करने वाले तेज गेंदबाज भुवनेश्वर सिंह के कोच ने इसका श्रेय उसकी बरसों की मेहनत और लगन को दिया। उन्होंने कहा कि वह बल्लेबाज की ख्याति और दबाव के हालात से डरता नहीं है।
    
भुवनेश्वर ने चार ओवर में नौ रन देकर तीन विकेट लिये थे। इनमें नासिर जमशेद, अहमद शहजाद और उमर अकमल के विकेट शामिल थे।
   
मेरठ के रहने वाले 22 वर्षीय भुवनेश्वर को क्रिकेट का ककहरा सिखाने वाले कोच संजय रस्तोगी ने कहा कि भुवनेश्वर 13 साल की उम्र में जब मेरठ कॉलेज के ग्राउंड पर खेलने आया, तभी हमने उसकी प्रतिभा को पहचान लिया था। उसमें गेंद को इनस्विंग और आउटस्विंग कराने की नैसर्गिक क्षमता थी और कड़ी मेहनत से उसने इसे निखारा।
    
उन्होंने कहा कि अंडर 15 क्रिकेट में पदार्पण करते हुए उसने पांच विकेट चटकाये थे। वह दबाव से डरता नहीं है और यही उसकी सबसे बड़ी खूबी है। उन्होंने बताया कि पहले टी20 मैच के बाद भुवनेश्वर ने मैच नहीं जीत पाने पर दुख जताया था। उन्होंने हालांकि उसे शुक्रवार को होने वाले दूसरे मैच में भी सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन की सलाह दी।
    
रस्तोगी ने कहा कि मैंने उसे इतना ही कहा कि अगले मैच पर पूरा फोकस करे। पिछली हार को भुलाकर नये सिरे से सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन की कोशिश करे। मुझे यकीन है कि वह इस लय को कायम रखेगा।

 
 
 
टिप्पणियाँ
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड