सोमवार, 24 नवम्बर, 2014 | 23:24 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
Image Loading    श्रीनिवासन आईपीएल टीम मालिक और बीसीसीआई अध्यक्ष एकसाथ कैसे: सुप्रीम कोर्ट  झारखंड और जम्मू-कश्मीर में पहले चरण की वोटिंग कल  पार्टियों ने वोटरों को लुभाने के लिए किया रेडियो का इस्तेमाल सांसद बनने के बाद छोड़ दिया अभिनय : ईरानी  सरकार और संसद में बैठे लोग मिलकर देश आगे बढाएं :मोदी ग्लोबल वॉर्मिंग से गरीबी की लड़ाई पड़ सकती है कमजोर: विश्व बैंक सोयूज अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन के लिए रवाना  वरिष्ठ नेता मुरली देवड़ा का निधन, मोदी ने जताया शोक  छह साल बाद पाक के पास होंगे 200 एटमी हथियार अलग विदर्भ के लिए गडकरी ने कांग्रेस से समर्थन मांगा
'बड़े नामों और दबाव से नहीं डरता भुवनेश्वर'
नयी दिल्ली, एजेंसी First Published:27-12-12 04:28 PM
Image Loading

पाकिस्तान के खिलाफ पहले टी20 क्रिकेट मैच में तीन विकेट चटकाकर शानदार पदार्पण करने वाले तेज गेंदबाज भुवनेश्वर सिंह के कोच ने इसका श्रेय उसकी बरसों की मेहनत और लगन को दिया। उन्होंने कहा कि वह बल्लेबाज की ख्याति और दबाव के हालात से डरता नहीं है।
    
भुवनेश्वर ने चार ओवर में नौ रन देकर तीन विकेट लिये थे। इनमें नासिर जमशेद, अहमद शहजाद और उमर अकमल के विकेट शामिल थे।
   
मेरठ के रहने वाले 22 वर्षीय भुवनेश्वर को क्रिकेट का ककहरा सिखाने वाले कोच संजय रस्तोगी ने कहा कि भुवनेश्वर 13 साल की उम्र में जब मेरठ कॉलेज के ग्राउंड पर खेलने आया, तभी हमने उसकी प्रतिभा को पहचान लिया था। उसमें गेंद को इनस्विंग और आउटस्विंग कराने की नैसर्गिक क्षमता थी और कड़ी मेहनत से उसने इसे निखारा।
    
उन्होंने कहा कि अंडर 15 क्रिकेट में पदार्पण करते हुए उसने पांच विकेट चटकाये थे। वह दबाव से डरता नहीं है और यही उसकी सबसे बड़ी खूबी है। उन्होंने बताया कि पहले टी20 मैच के बाद भुवनेश्वर ने मैच नहीं जीत पाने पर दुख जताया था। उन्होंने हालांकि उसे शुक्रवार को होने वाले दूसरे मैच में भी सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन की सलाह दी।
    
रस्तोगी ने कहा कि मैंने उसे इतना ही कहा कि अगले मैच पर पूरा फोकस करे। पिछली हार को भुलाकर नये सिरे से सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन की कोशिश करे। मुझे यकीन है कि वह इस लय को कायम रखेगा।

 
 
 
टिप्पणियाँ