सोमवार, 25 मई, 2015 | 14:58 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
एनजीटी ने दिल्ली-एनसीआर में 10 साल से पुराने डीजल वाहनों के परिचालन पर प्रतिबंध लगाने वाले अपने आदेश पर रोक 13 जुलाई तक बढ़ाई।कोशांबी में मुरि एक्सप्रेस पलटी, कई के हताहत होने की सूचना
चयनकर्ताओं पर कोई दबाव नहीं: बीसीसीआई
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:12-12-12 05:18 PM
Image Loading

बीसीसीआई ने बुधवार को पूर्व चयनकर्ता मोहिंदर अमरनाथ के इस आरोप को खारिज किया कि बोर्ड अध्यक्ष एन श्रीनिवासन के दबाव में कप्तान महेंद्र सिंह धौनी को बाहर नहीं किया गया।
 
अमरनाथ ने कहा था कि कुछ अंदरूनी कारणों से चयन समिति ने इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया में लगातार आठ टेस्ट हारने के बावजूद धौनी को कप्तानी से नहीं हटाया। बीसीसीआई उपाध्यक्ष और इंडियन प्रीमियर लीग के अध्यक्ष राजीव शुक्ला ने कहा कि मैं इस बात को नहीं मानता। ऐसा कभी नहीं हुआ। इस तरह के बयान देना सही नहीं है।

उन्होंने कहा कि चयन समिति की बैठक में सभी को अपनी राय रखने का अधिकार है। इस तरह के बयान देकर खिलाड़ियों और क्रिकेटप्रेमियों में कोई धारणा पैदा करना गलत है। उन्होंने कहा कि चयनकर्ता स्वतंत्र हैं। उन पर कोई दबाव नहीं है। अमरनाथ ने कहा था कि धौनी को हटाने पर बात हुई थी और उस पर सहमति भी बन गई थी लेकिन कुछ आंतरिक कारणों से ऐसा हुआ नहीं। मैं कारणों का ब्यौरा अभी नहीं दूंगा लेकिन सही समय आने पर देशवासियों को उसके बारे में बताऊंगा। उन्होंने यह भी कहा था कि धौनी को बाहर करने के मामले में चयन समिति पर बाहरी दबाव भी था।
 
अमरनाथ ने कहा था कि भारतीय राजनीति और क्रिकेट, ये दोनों समान ही हैं। कुछ लोग हैं जो खेल को नियंत्रित कर रहे हैं और अन्य लोग कदम उठाने से डरते हैं। उन्होंने यह भी कहा कि मुझे लगता है कि धौनी को टेस्ट से बतौर कप्तान हटा देना चाहिए। उसने टेस्ट स्तर पर कोई आक्रामक प्रदर्शन नहीं किया है। कप्तान का टीम में स्थान सुरक्षित होना चाहिए, लेकिन मुझे टीम में उसका स्थान सुरक्षित नहीं लगता। उसके पास टेस्ट क्रिकेट के लिए तकनीक ही नहीं हैं।

ऐसा माना जाता है कि 69 टेस्ट और 74 वनडे खेल चुके अमरनाथ चयन समिति के अध्यक्ष बनने की दौड़ में शामिल थे, लेकिन उन्हें बीसीसीआई अध्यक्ष एन श्रीनिवासन के आदेश पर हटा दिया गया क्योंकि उनके धौनी के साथ मतभेद थे।

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट स्कोरबोर्ड