मंगलवार, 04 अगस्त, 2015 | 17:15 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
झारखंड: जमशेदपुर में एमडीएम में छिपकली गिरने से एक दर्जन बच्चे गंभीर बीमार, एमजीएम में चल रहा है इलाज।
बांग्लादेश ने पांच मैचों की सीरीज 3-2 से जीती
ढाका, एजेंसी First Published:08-12-2012 10:58:20 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM
Image Loading

बांग्लादेश ने मध्यक्रम बल्लेबाजों की मदद से शनिवार को पांचवें वनडे में वेस्टइंडीज को दो विकेट से हराकर पांच मैचों की वनडे सीरीज 3-2 से अपने नाम की। वेस्टइंडीज की टीम बल्लेबाजी का न्यौता मिलने के बाद किरोन पोलार्ड (85) और डेरेन ब्रावो (51) के अर्धशतकों के बावजूद 48 ओवर में 217 रन पर सिमट गई।
 
इसके जवाब में बांग्लादेश ने 44 ओवर में आठ विकेट पर 221 रन बनाकर दो विकेट से जीत दर्ज की। टीम के मध्यक्रम ने जिम्मेदारी से खेलते हुए शुरुआती झटकों के बावजूद टीम को 218 रन के लक्ष्य तक पहुंचाया। बांग्लादेश ने नौ रन पर दोनों सलामी बल्लेबाज तमीम इकबाल (8) और अनामुल हक (0) के विकेट खो दिए थे। विकेटकीपर बल्लेबाज मुश्फिकर रहीम ने 44, महमूदुल्लाह ने 48, नासिर हुसैन ने नाबाद 39 और मोमिनुल हक ने 25 रन का योगदान दिया। वेस्टइंडीज के केमार रोच ने पांच और सुनील नरेन ने तीन विकेट हासिल किए।

इससे पहले पोलार्ड ने 74 गेंद में पांच चौके और आठ छक्के से 85 जबकि ब्रावो ने तीन चौके और एक छक्के से 108 गेंद में 51 रन की पारी खेली। इन दोनों ने चौथे विकेट के लिए 132 रन की भागीदारी कर टीम को संभाला जो 17 रन पर तीन विकेट खोकर जूझ रही थी।

बांग्लादेश ने किरन पावेल (11), मार्लोन सैमुअल्स (1) और क्रिस गेल (2) के विकेट आठवें ओवर में हासिल कर अच्छी शुरुआत की। टीम में चोटिल मशरफी मुर्तजा की जगह शामिल हुए तेज गेंदबाज शफियुल इस्लाम ने तीन जबकि महमूदुल्लाह और मोमिनुल हक ने दो दो विकेट प्राप्त किए। पोलार्ड और ब्रावो ने चौथे विकेट के लिए यह भागीदारी कर वेस्टइंडीज और बांग्लादेश के बीच वनडे में इस विकेट के लिए नया रिकार्ड बनाया। इन्होंने जिमी एडम्स और शिवनारायण चंद्रपाल के बीच 1999 में ढाका में 92 रन की साझेदारी को पीछे छोड दिया। डेवन थामस ने 25 रन की उपयोगी पारी खेली और टीम को 200 रन के स्कोर के पार कराया।

 

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
 
Image Loading

संता बंता और अलार्म

संता बंता से - 20 सालों में, आज पहली बार अलार्म से सुबह सुबह मेरी नींद खुल गई।

बंता - क्यों, क्या तुम्हें अलार्म सुनाई नहीं देता था?

संता - नहीं आज सुबह मुझे जगाने के लिए मेरी बीवी ने अलार्म घड़ी फेंक कर सिर पर मारी।