शनिवार, 29 अगस्त, 2015 | 14:52 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
देश तानाशाही की ओर जा रहा है, यह बिहार का चुनाव नहीं पूरे देश को बचाने का चुनाव है: लालू।लालू यादव ने सपा को 5 सीट देने की घोषणा की।उत्तराखंडः रुड़की के मोहनपुरा फाटक के पास टैंकर और बाइक की टक्कर, बाइक सवार महिला की मौत, पति घायल।झारखंड: रांची में डीपीएस स्कूल के पास ट्रेन से कटकर एक व्यक्ति की मौत।
अप्रत्याशित नहीं थी जीत : तमीम
खुलना (बांग्लादेश), एजेंसी First Published:01-12-2012 02:06:58 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM
Image Loading

बांग्लादेशी क्रिकेट टीम के सलामी बल्लेबाज तमीम इकबाल ने कहा है कि वेस्टइंडीज के खिलाफ पांच मैचों की सीरीज के पहले वनडे अंतर्राष्ट्रीय मुकाबले में मिली जीत अप्रत्याशित नहीं थी।

शेख अबू नासिर स्टेडियम में शुक्रवार को खेले गए पहले मुकाबले में बांग्लादेश ने वेस्टइंडीज को सात विकेट से हराकर सीरीज में 1-0 की बढ़त बना ली। तमीम ने इस मुकाबले में 51 गेंदों पर आठ चौकों और दो छक्कों की मदद से 58 रन बनाए थे।

वेबसाइट ‘क्रिक इंफो डॉट कॉम’ के मुताबिक तमीम ने कहा कि ईमानदारी से कहूं तो यह अप्रत्याशित जीत नहीं थी। वनडे क्रिकेट के लिहाज से हमारी टीम अच्छी हैं। हमने पहले भी अच्छा प्रदर्शन किया है। बतौर टीम हमने अच्छा खेला। आपने ऐसे मौके बहुत कम देखे होंगे जब बांग्लादेश ने किसी एक खिलाड़ी की बदौलत जीत हासिल की हो।

बांग्लादेश की ओर से अपना पदार्पण वनडे अंतर्राष्ट्रीय मैच खेल रहे स्पिनर सोहाग गाजी ने बेहतरीन गेंदबाजी करते हुए 9.5 ओवरों में 29 रन खर्च कर चार विकेट झटके। गाजी के इस शानदार प्रदर्शन के लिए ‘मैन ऑफ द मैच’ चुना गया।

वेबसाइट के मुताबिक तमीम ने कहा कि हम वनडे मैच अधिक खेलते हैं और हमारी टीम आत्मविश्वास से लबरेज हैं। हम टेस्ट मैच अधिक नहीं खेलते। उल्लेखनीय है बांग्लादेश की 263 वनडे अंतर्राष्ट्रीय मैचों में यह 73वीं जीत थी।

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
Image LoadingLIVE: भारत को 7वां झटका, आर. अश्विन आउट
भारतीय क्रिकेट टीम ने शनिवार को सिन्हलीज स्पोर्ट्स क्लब मैदान पर श्रीलंका के खिलाफ तीसरे निर्णायक टेस्ट में बल्लेबाजी करते हुए अपना 7वां विकेट गंवा दिया।
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
 
Image Loading

जब जय की हुई जमकर पिटाई...
वीरू (जय से): कल तुझे मेरे मोहल्ले के दस लड़कों ने बहुत बुरी तरह पीटा। फिर तूने क्या किया?
जय: मैंने उन सभी से कहा कि कि अगर हिम्मत है, तो अकेले-अकेले आओ।
वीरू: फिर क्या हुआ?
जय: होना क्या था, उसके बाद उन सबने एक-एक करके फिर से मुझे पीटा।