शुक्रवार, 28 अगस्त, 2015 | 02:54 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
शीना बोरा के इस्तीफे पर फर्जी साइनः राकेश मारिया।
एमएस धौनी ने क्यूरेटर से दूर किये मतभेद
कोलकाता, एजेंसी First Published:05-12-2012 03:27:13 PMLast Updated:05-12-2012 03:28:45 PM
Image Loading

पिछले एक पखवाड़े से चल रहे वाकयुद्ध के बाद भारतीय कप्तान महेंद्र सिंह धौनी और ईडन गार्डन के क्यूरेटर प्रबीर मुखर्जी ने बुधवार को इंग्लैंड और भारत के बीच तीसरे टेस्ट की शुरूआत के साथ आपसी मतभेद दूर करने का फैसला किया।

लगातार तीसरी बार टॉस जीतने वाले धौनी सपाट पिच से खुश दिखे और उन्होंने मुखर्जी को ईडन का बॉस कहा। टॉस के बाद धौनी 83 वर्षीय मुखर्जी के पास गए और उनसे बात की। दोनों को ठहाके लगाते और एक-दूसरे के गले लगते देखा गया।

इस बातचीत के बाद मुखर्जी ने कहा कि धौनी ने मुझसे कहा कि आपको कभी मैंने बुरा बोला है दादा। आप यहां के बॉस हो। पूर्व क्रिकेटर और कमेंटेटर रवि शास्त्री ने विकेट की तारीफ करते हुए कहा कि यह अब तक सीरीज का सबसे अच्छा विकेट है।

करीब 70,000 की क्षमता वाले इस स्टेडियम पर हालांकि 80 फीसदी सीटें खाली थीं। इस मैदान पर सचिन तेंदुलकर के मैदान पर उतरने के बाद दर्शक आते दिखाई देने लगे।

दर्शक दीर्घा में नारी कांट्रेक्टर और टेड डैक्सटर भी मौजूद थे। बंगाल क्रिकेट संघ ने उनका स्वागत किया था। दोनों भारत और इंग्लैंड की टीम के सबसे उम्रदराज पूर्व कप्तान हैं।

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
 
Image Loading

जब पप्पू पहंचा परीक्षा देने...
अध्यापिका: परेशान क्यों हो?
पप्पू ने कोई जवाब नहीं दिया।
अध्यापिका: क्या हुआ, पेन भूल आये हो?
पप्पू फिर चुप।
अध्यापिका : रोल नंबर भूल गए हो?
अध्यापिका फिर से: हुआ क्या है, कुछ तो बताओ क्या भूल गए?
पप्पू गुस्से से: अरे! यहां मैं पर्ची गलत ले आया हूं और आपको पेन-पेंसिल की पड़ी है।