रविवार, 30 अगस्त, 2015 | 02:28 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
BCCI ने निम्बालकर के निधन पर शोक जताया
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:12-12-2012 02:25:24 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM
Image Loading

बीसीसीआई ने पूर्व रणजी क्रिकेटर बीबी निम्बालकर के निधन पर शोक जताया है। बढ़ती उम्र से जुड़ी बीमारियों के चलते बुधवार को उनका कोल्हापूर में निधन हो गया था।

बीसीसीआई सचिव संजय जगदाले ने एक बयान में कहा कि भाउसाहेब निम्बालकर बेहतरीन बल्लेबाज थे, जिनका प्रथम श्रेणी में औसत 57 था। प्रथम श्रेणी क्रिकेट में किसी भारतीय के सर्वोच्च व्यक्तिगत स्कोर का रिकॉर्ड अभी भी उनके नाम है। उन्होंने 1948-49 में महाराष्ट्र के लिए काठियावाड़ के खिलाफ नाबाद 443 रन बनाये थे।

उन्होंने कहा कि बीसीसीआई ने उन्हें 2002 में कर्नल सीके नायडू लाइफटाइम अचीवमेंट पुरस्कार दिया था। बोर्ड की ओर से मैं उनके परिवार को सांत्वना देता हूं। भगवान उनकी आत्मा को शांति दे। उस समय उनकी इस पारी से बेहतर प्रथम श्रेणी स्कोर सिर्फ डॉन ब्रैडमैन के नाम था, जिन्होंने नाबाद 452 रन बनाये थे। बाद में ब्रैडमैन ने चिट्ठी लिखकर निम्बालकर से कहा था कि उनकी पारी उन्हें बेहतर लगी।

12 दिसंबर 1919 को जन्में निम्बालकर ने बड़ादा, होल्कर, महाराष्ट्र, राजस्थान और रेलवे के लिए खेला। उन्होंने रणजी ट्रॉफी में 56-72 की औसत से 3,687 रन बनाए, जिसमें 11 शतक शामिल है। उन्होंने 1939-40 से 1964-65 तक घरेलू करियर में 58 विकेट भी लिए। भारत के लिए वह कभी आधिकारिक टेस्ट नहीं खेल सके, लेकिन 1949-50 राष्ट्रमंडल खेलों में भाग लेकर उन्होंने 48 रन बनाए थे।

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
Image Loadingगावस्कर ने पुजारा की तारीफों के पुल बांधे
अपनी अच्छी तकनीक और शांत चित के कारण चेतेश्वर पुजारा क्रीज पर अपने पांव जमाने में माहिर हैं और पूर्व कप्तान सुनील गावस्कर ने भी इस युवा बल्लेबाज की आज जमकर तारीफ की जिन्होंने अपने नाबाद शतक से भारत को संकट से उबारा।
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
 
Image Loading

जब संता के घर आए डाकू...
आधी रात को संता के घर डाकू आए।
संता को जगाकर पूछा: यह बताओ कि सोना कहां है?
संता (गुस्से से): इतना बड़ा घर है कहीं भी सो जाओ। इतनी छोटी बात के लिए मुझे क्यों जगाया!