शनिवार, 25 अक्टूबर, 2014 | 00:13 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
ग्रीन पार्क में निर्माण गति से नाखुश बीसीसीआई
कानपुर, एजेंसी First Published:01-12-12 03:49 PM
Image Loading

भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड के अधिकारियों ने शनिवार को उत्तर प्रदेश के इकलौते क्रिकेट स्टेडियम ग्रीन पार्क के सुस्त निर्माण कार्य पर ग्रीनपार्क के अधिकारियों को चेतावनी देते हुये कहा कि वह जनवरी 2013 के पहले सप्ताह तक स्टेडियम का निर्माण कार्य पूरा करवा ले वरना उन्हें भारत-ऑस्ट्रेलिया के फरवरी मार्च में होने वाले संभावित क्रिकेट मैच से हाथ धोना पड़ सकता है और मैच किसी और स्टेडियम को आवंटित किया जा सकता है।
    
ग्रीनपार्क स्टेडियम के अधिकारियों ने बीसीसीआई के अधिकारियों को आश्वस्त किया कि वह जनवरी के प्रथम सप्ताह तक ग्रीन पार्क का अधूरा कार्य हर हालत में पूरा करवा देंगे और बीसीसीआई के अधिकारिययों को अगले दौरे पर कोई शिकायत का मौका नहीं मिलेगा।
   
भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) के जीएम क्रिकेट डेवलपमेंट रत्नाकर शेट्टी और मैनेजर क्रिकेट डेवलपमेंट सुरूनायक आज सुबह ग्रीन पार्क पहुंचे और उन्होंने निर्माणाधीन ग्रीन पार्क के एक एक हिस्से का मुआयना किया, उनके साथ उत्तर प्रदेश क्रिकेट संघ (यूपीसीए) के जनरल मैनेजर रोहित तलवार और खेल विभाग के उप निदेशक और ग्रीन पार्क के प्रभारी अनिल बनौधा भी साथ थे।
    
बीसीसीआई के रत्नाकर शेट्टी ने ग्रीन पार्क के प्रभारी अनिल बनौधा से कहा कि पिछली बार अंतिम समय में यूपीसीए ने बीसीसीआई को सूचित किया कि दर्शक स्टैंड तैयार नही है इसलिये मैच नही कराया जा सकता है बीसीसीआई को मैच कैसिंल करना पड़ा। यूपीसीए के साथ-साथ बीसीसीआई की भी काफी किरकिरी हुई। इस बार ऐसा न हो इस लिये ग्रीन पार्क अधिकारियों को जनवरी माह मे लिखकर देना होगा कि स्टेडियम पूरी तरह से तैयार है इसके बाद ही बीसीसीआई अंतिम फैसला करेंगा कि फरवरी मार्च में भारत और ऑस्ट्रेलिया का मैच ग्रीन पार्क को आवंटित किया जायें या नहीं।

बीसीसीआई के शेट्टी ने ग्रीन पार्क के खिलाड़ियों के ड्रेसिंग रूम और डायनिंग रूम पर नाखुशी जाहिर करते हुये कहा कि यहां दोनो टीमों के खिलाड़ियों और अधिकारियों के लिये अलग अलग भोजन करने की व्यवस्था नहीं है। इसके अलावा ग्रीन पार्क की कई दर्शक दीर्घाओं का निर्माण कार्य अधूरा पड़ा है तथा स्टेडियम के अंदर और बाहर काफी मलबा पड़ा है। इसके अलावा स्टेडियम के अंदर की फेंसिंग का काम भी अधूरा पड़ा है। कुल मिलाकर अभी ग्रीन पार्क के निर्माण कार्य से बीसीसीआई संतुष्ट नहीं है।
    
शेट्टी ने कहा कि अभी यह बीसीसीआई के अधिकारियों का प्रारंभिक दौरा है बीसीसीआई के अधिकारियों का एक दल 9 और 10 जनवरी को भी फिर ग्रीन पार्क का निरीक्षण करने आयेंगा और तब तक ग्रीन पार्क में सभी निर्माण कार्य पूरे नही हुये तो फिर कानपुर के ग्रीन पार्क में होने वाले भारत ऑस्ट्रेलिया के संभावित मैच को किसी अन्य राज्य के स्टेडियम को एलॉट कर दिया जायेगा।
   
उन्होंने कहा कि इस बीच ऑस्ट्रेलिया की टीम के अधिकारियों का भी एक दल ग्रीन पार्क का दौरा करने आयेंगा तब तक भी ग्रीन पार्क का हुलिया कुछ ठीक हो जाना चाहिये क्योंकि अगर ऑस्ट्रेलियाई अधिकारियों ने ग्रीन पार्क की तैयारियों और स्थिति पर अपनी संतुष्टि नही जताई तो भी ग्रीन पार्क में मैच पर संकट के बादल मंडरा सकते है।
    
उन्होंने यह भी कहा कि बीसीसीआई ने कई बार यूपीसीए से अपना स्टेडियम बनाने के लिये कहा है और इसके लिये पैसे की भी व्यवस्था भी करने को तैयार है लेकिन अभी तक यूपीसीए जो कि देश का सबसे पुराना क्रिकेट संघ में से एक है वह अपना स्टेडियम नही बनवा पाई है।
   
इस पर ग्रीन पार्क के प्रभारी अनिल बनौधा और निर्माण कार्य में लगे उत्तर प्रदेश सरकार के इंजीनियरों ने उन्हें भरोसा दिलाया कि 15 जनवरी तक ग्रीन पार्क पूरी तरह से तैयार हो जायेंगा क्योंकि यहां पर निर्माण कार्य दिन और रात दो शिफ्टों में हो रहा है।

ग्रीन पार्क स्टेडियम अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट के नक्शे पर बरकरार रह पायेंगा नही या तो फिर उत्तर प्रदेश से अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट का खात्मा हो जायेगा। यूपीसीए के जीएम रोहित तलवार कहते है कि बीसीसीआई के इन दोनो अधिकारियों की रिपोर्ट काफी महत्तवपूर्ण क्योंकि यह रिपोर्ट ही ग्रीन पार्क का भविष्य तय कर सकती है।
    
उत्तर प्रदेश के कानपुर के ग्रीन पार्क स्टेडियम में अंतिम क्रिकेट टेस्ट मैच 24 से 27 नवंबर 2009 को भारत और श्रीलंका के बीच हुआ था।
    
ग्रीन पार्क का  निर्माण कार्य पूरा नहीं होने के कारण इससे पहले भी भारत और दक्षिण अफ्रीका के बीच 24 फरवरी 2010 को होने वाला एक वनडे क्रिकेट मैच यूपीसीए को आवंटित होने के बाद भी छीन कर अंतिम मौके पर ग्वालियर को दे दिया गया था। इसी तरह भारत और न्यूजीलैंड के बीच 12 से 16 नवंबर 2010 के बीच होने वाला दूसरा टेस्ट ग्रीन पार्क में होना था लेकिन स्टेडियम तैयार न होने के कारण इस मैच को भी बाद में यहां से हटा दिया गया था।
    
पिछली सरकार के समय स्टेडियम में मार्च 2010 में पुर्ननिर्माण के लिये तोड़ी गयी स्टूडेंट गैलरी पूरी तरह से तोड़ दी गयी थी। इसके अलावा कई अन्य दर्शक गैलरियों को भी तोड़कर उनका पुर्ननिर्माण किया जा रहा है लेकिन दो साल से अधिक समय बीतने के बाद भी इन गैलरियों का निर्माण अभी तक पूरा नही हो पाया है।
 
 
 
टिप्पणियाँ