class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कभी पत्थर तोड़ने पर मजबूर था यह खिलाड़ी, गावस्कर ने की मदद, और अब...

रांची, लाइव हिन्दुस्तान टीम
कभी पत्थर तोड़ने पर मजबूर था यह खिलाड़ी, गावस्कर ने की मदद, और अब...

1/2कभी पत्थर तोड़ने पर मजबूर था यह खिलाड़ी, गावस्कर ने की मदद, और अब...

झारखंड के पूर्व अंतरराष्ट्रीय हॉकी खिलाड़ी गोपाल भेंगरा की महान क्रिकेटर सुनील गावस्कर से मिलने की कई सालों की हसरत आज पूरी हुई। पिछले कई सालों से पूर्व अंतररार्ष्ट्रीय हॉकी खिलाड़ी झारखंड के गोपाल भेंगरा की वित्तीय मदद कर रहे हैं। भेंगरा को यह पता चलते ही कि उनके अन्नदाता गावस्कर इस समय रांची में हैं, गोपाल भेंगरा में उनसे मिलने की इच्छा जाहिर की थी।

सुनील गावस्कर ने रविवार को जेएससीए स्टेडियम में उनसे मुलाकात की

साल 1978 के ब्यूनस आयर्स में खेले गये तीसरे हॉकी विश्वकप में भारतीय टीम का प्रतिनिधित्व करने वाले भेंगरा ने गावस्कर से मिलकर उन्हें मदद के लिए शुक्रिया अदा किया। उन्होंने कहा कि वह गावस्कर से मिलकर अभिभूत हैं। यह पल गावस्कर के लिए भी भावनाओं से भरा रहा और उन्होंने भी भेंगरा से मिलने पर खुशी जाहिर की। गावस्कर की तरफ से भेंगरा को कई सालों से साढ़े सात हजार रूपये की मासिक आर्थिक सहायता दी जा रही है।

मिल गया धौनी का चोरी हुआ फोन, रूम की सफाई के समय ही...

झारखंड के खूंटी जिला के तोरपा प्रखंड के उचुर गांव के रहने वाले भेंगरा साल 1975 से 1985 तक देश के लिए हॉकी खेलते थे। पश्चिम बंगाल राज्य हॉकी टीम के कप्तान भेंगरा ने वर्ष 1986 में शारीरीक कारणों से हॉकी खेलना छोड़ दिया था और गांव लौट आये। सेना में नौकरी करने के बावजूद भी किसी कारणवश भेंगरा को पेंशन नहीं मिली।

सबसे ज्यादा बॉल खेलने वाले पहले भारतीय खिलाड़ी बने पुजारा

आगे की स्लाइड में पढ़ें, क्या है पूरा मामला

Next

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:former hockey player gopal bhangra 17th years dream came true finally meet sunil gavaskar
From around the web