रविवार, 02 अगस्त, 2015 | 05:46 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    बिहार का चुनाव बना प्रतिष्ठा का प्रश्न, झारखंड के भाजपाइयों ने डाला बिहार में डाला याकूब को फांसी दिए जाने के विरोध में सुप्रीम कोर्ट के डिप्टी रजिस्ट्रार ने दिया इस्तीफा दिल्ली में तेज हुआ पोस्टर वार, केजरीवाल सरकार के विज्ञापनों के खिलाफ भाजपा ने लगाए पोस्टर पूर्व गृह मंत्री सुशील शिंदे ने कहा, मैंने संसद में हिंदू आतंकवाद शब्द का इस्तेमाल कभी नहीं किया  पाकिस्तानी रेंजर्स ने किया सीजफायर का उल्लंघन, बीएसफ ने दिया करारा जवाब खेल रत्न के लिए सानिया के नाम की सिफारिश भाजपा सांसद वरुण गांधी का बयान, 94 फीसदी दलित, अल्पसंख्यक समुदाय को मिली फांसी की सजा विमान हादसे में ओसामा बिन लादेन के परिवार के सदस्यों की मौत  10 रुपए में ऐप उपलब्ध कराएगा गूगल प्ले  ISIS की शर्मनाक हरकत: चार साल के बच्चे को दी तलवार और कहा...मां का सिर काट डालो
धौनी-कोहली की सयंमित पारियों से भारत संभला
नागपुर, एजेंसी First Published:15-12-2012 11:07:52 AMLast Updated:15-12-2012 06:04:01 PM
Image Loading

मध्यक्रम बल्लेबाज विराट कोहली (103) और कप्तान महेंद्र सिंह धौनी (99) ने विपरीत परिस्थितियों में संयमित पारियां खेलते हुए भारत को इंग्लैंड के खिलाफ चौथे और अंतिम टेस्ट के तीसरे दिन संभलने में मदद की। लेकिन मेजबान टीम ने चार विकेट 28 रन के अंदर गंवा दिए, जिससे उसकी पहली पारी में बढ़त लेने की उम्मीद कम ही है।

धौनी और कोहली ने गजब का जज्बा दिखाते हुए पांचवें विकेट के लिए 198 रन की भागीदारी की जो सीरीज में अब तक भारत की सबसे बड़ी साझेदारी है। भारतीय टीम दिन का खेल समाप्त होने तक आठ विकेट खोकर 297 रन पर थी जिससे वह इंग्लैंड की 330 रन की पहली पारी से अब भी 33 रन पीछे है।
    
धौनी और कोहली की पांचवें विकेट की जोड़ी कल जब मैदान पर खेलने उतरी थी तब भारतीय टीम 71 रन पर चार विकेट गंवाकर जूझ रही थी और इन दोनों ने अपने विकेट बचाकर रखते हुए चार विकेट पर 87 रन तक पहुंचाया था। आज भी इन दोनों ने शानदार जज्बा दिखाते हुए शतकीय साझेदारी से बेहतरीन ढंग से वापसी की और पहले दोनों सत्र में कोई विकेट नहीं गिरने दिया। एक समय ऐसा लग रहा था कि ये दोनों टीम को पहली पारी में बढ़त दिला देंगे, लेकिन धीमी रनगति के कारण यह नहीं हो सका। टीम ने आज पूरे दिन 210 रन जोड़े।

लंच के बाद नई गेंद 81 ओवर के बाद ली गई, धौनी और कोहली थोड़े आक्रामक हो गये थे। कोहली ने जामथा में वीसीए स्टेडियम में टिम ब्रेसनन और मोंटी पनेसर पर खूबसूरत कवर ड्राइव लगायी। इन दोनों ने दूसरे सत्र में 27 ओवर में 81 रन बनाए। कोहली को लंच के बाद अर्धशतक बनाने के लिए चार रन की जरूरत थी और उन्होंने पनेसर की गेंद को एक्सट्रा कवर में सीमारेखा पार कराकर इसे पूरा किया।

कोहली ने तीन घंटे क्रीज पर बिताकर 171 गेंद में महज चार चौके की मदद से 50 रन बनाए, उन्होंने टीम की जरूरत को देखते हुए अपनी नैसर्गिक आक्रामकता को दबाकर रखा। हालांकि थोड़ी देर बाद वह थोड़े आक्रामक हो गए थे। इस आक्रामकता की बदौलत वह अपना तीसरा टेस्ट शतक पूरा करने और फार्म में वापसी करने में सफल रहे। उनका यह सैकड़ा आलोचकों के लिए जवाब था जिन्होंने उनकी प्रतिबद्धता पर सवाल उठाते हुए कहा था कि उन्होंने सीरीज में अपना विकेट भेंट में दे दिया।

धौनी ने ब्रेसनन की गेंद पर स्क्वायर कट पर चौका जमाकर अपना अर्धशतक पूरा किया। उन्होंने 137 गेंद में सात चौके की मदद से यह 50 रन बनाए। धौनी और कोहली ने धीमे विकेट पर इंग्लिश गेंदबाजी आक्रमण का डटकर सामना किया। दिन का शानदार शाट कोहली ने ब्रेसनन की गेंद पर कवर और एक्सट्रा कवर के क्षेत्ररक्षकों को बांटते हुए सामने से जमाया।

स्वान जब नए स्पैल के लिए आए तो धौनी ने इस ऑफ स्पिनर का स्वागत उनकी गेंद पर लांग आन पर अपनी पारी का पहला छक्का जमाकर किया। इसके बाद इन दोनों बल्लेबाजों ने 93वें ओवर में छह घंटे 15 मिनट क्रीज पर खेलते हुए भारत को 200 रन पूरे कराए। ब्रेसनन ने चाय के ब्रेक से पहले धौनी को परेशान किया और आउट करने की उनकी दो अपील भी अंपायर राड टर्नर ने खारिज कर दी। इन दो अपील के बीच यह तेज गेंदबाज धोनी का रिटर्न कैच भी नहीं लपक सका, जब यह भारतीय कप्तान 72 रन पर खेल रहा था।

कोहली के 269 रन के स्कोर पर स्वान की गेंद पर पगबाधा आउट होते ही रन गति भी धीमी हो गई। जडेजा 31 गेंद में दो चौके से 12 रन बनाकर एंडरसन की गेंद पर एलबीडब्ल्यू हुए। इसके बाद धोनी 295 रन के स्कोर पर रन आउट होकर पवेलियन लौटे। दो रन बाद ही चावला इंग्लैंड के ऑफ स्पिनर स्वान की गेंद पर बोल्ड हुए।

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
Image Loadingआक्रामक शैली बरकरार रखें कोहली: द्रविड़
राहुल द्रविड़ को बतौर टेस्ट कप्तान श्रीलंका में पहली पूर्ण सीरीज खेलने जा रहे विराट कोहली के कामयाब रहने का यकीन है और उन्होंने कहा कि कोहली को अपनी आक्रामक शैली नहीं छोड़नी चाहिए।
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
 
Image Loading

जब बीमार पड़ा संता...
जीतो बीमार पति से: जानवर के डॉक्टर को मिलो तब आराम मिलेगा!
संता: वो क्यों?
जीतो: रोज़ सुबह मुर्गे की तरह जल्दी उठ जाते हो, घोड़े की तरह भाग के ऑफिस जाते हो, गधे की तरह दिनभर काम करते हो, घर आकर परिवार पर कुत्ते की तरह भोंकते हो, और रात को खाकर भैंस की तरह सो जाते हो, बेचारा इंसानों का डॉक्टर आपका क्या इलाज करेगा?