रविवार, 30 अगस्त, 2015 | 00:26 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
गाजीपुर रोड पर गाड़ियों पर लदे जानवर मिलने से बवाल, लगाया जाम।
शर्मनाक हार से नहीं बच पाई टीम इंडिया
कोलकाता, एजेंसी First Published:09-12-2012 10:39:27 AMLast Updated:09-12-2012 12:30:45 PM
Image Loading

रविचंद्रन अश्विन की नाबाद 91 रन की साहसिक पारी की बदौलत भारत ने तीसरे टेस्ट में पारी की हार को तो टाल दिया, लेकिन वह मैच बचाने में नाकाम रहे और टेस्ट के पांचवें और आखिरी दिन उसे सात विकेट से इंग्लैंड के हाथों हार का सामना करना पड़ा।

भारत ने चौथे दिन के नौ विकेट पर 239 रन से आगे खेलना शुरू किया। भारत ने 84.4 ओवरों मे कुल 247 रन बनाकर इंग्लैंड के सामने 41 रनों का मामूली लक्ष्य रखा। इसके जवाब में इंग्लैंड ने अपनी दूसरी पारी में 12.1 ओवरों में तीन विकेट के नुकसान पर जीत दर्ज करने के साथ ही चार टेस्टों की सीरीज में 2.1 से बढ़त हासिल कर ली।

मैच के आखिरी दिन तक मैदान पर डटी हुई भारत की आखिरी जोड़ी अश्विन और प्रज्ञान ओझा देर तक मैच को खींचने में सफल नहीं हो सके और ओझा तीन रन बनाकर आखिरी विकेट के रूप में इंग्लैंड का शिकार बने। ओझा जेम्स एंडरसन के हाथों बोल्ड हो गए। लेकिन इसी के साथ अश्विन का शतक बनाने का सपना पूरा नहीं हो सका और वह 91 रन पर नाबाद रहे।

इंग्लैंड की ओर से ओपनिंग करने उतरे कप्तान एलेस्टेयर कुक शायद अपनी जीत को लेकर अति उत्साहित थे। इसी कारण अब तक अपनी बड़ी पारियों से टीम इंडिया की नाक में दम करने वाले कुक महज एक रन बनाकर अश्विन की गेंद पर आउट होकर सस्ते में लौट गए।

भारतीय गेंदबाजों ने हालांकि पांचवें दिन इंग्लैंड की आसान जीत को अधिक आसान नहीं रहने दिया और महज 4.2 ओवरों में मेहमान टीम ने अपने तीन विकेट गंवा दिए। इंग्लैड की ओर से इयान बेल ने मैच विजई पारी खेलते हुए 28 गेंदों में चार चौकों की मदद से नाबाद 28 रन बनाए।

इसके अलावा निक काम्पटन ने नाबाद 9, जोनाथन ट्रॉट 3 रन बनाए जबकि केविन पीटरसन अपना खाता नहीं खोल सके।

 

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
Image Loadingगावस्कर ने पुजारा की तारीफों के पुल बांधे
अपनी अच्छी तकनीक और शांत चित के कारण चेतेश्वर पुजारा क्रीज पर अपने पांव जमाने में माहिर हैं और पूर्व कप्तान सुनील गावस्कर ने भी इस युवा बल्लेबाज की आज जमकर तारीफ की जिन्होंने अपने नाबाद शतक से भारत को संकट से उबारा।
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
 
Image Loading

जब संता के घर आए डाकू...
आधी रात को संता के घर डाकू आए।
संता को जगाकर पूछा: यह बताओ कि सोना कहां है?
संता (गुस्से से): इतना बड़ा घर है कहीं भी सो जाओ। इतनी छोटी बात के लिए मुझे क्यों जगाया!