बुधवार, 26 नवम्बर, 2014 | 04:34 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
Image Loading    झारखंड में पहले चरण में लगभग 62 फीसदी मतदान  जम्मू-कश्मीर में आतंक को वोटरों का मुंहतोड़ जवाब, रिकार्ड 70 फीसदी मतदान  राज्यसभा चुनाव: बीरेंद्र सिंह, सुरेश प्रभु ने पर्चा भरा डीडीए हाउसिंग योजना का ड्रॉ जारी, घर का सपना साकार अस्थिर सरकारों ने किया झारखंड का बेड़ा गर्क: मोदी नेपाल में आज से शुरू होगा दक्षेस शिखर सम्मेलन  दक्षिण एशिया में शांति, विकास के लिए सहयोग करेगा भारत काले धन पर तृणमूल का संसद परिसर में धरना प्रदर्शन 'कोयला घोटाले में मनमोहन से क्यों नहीं हुई पूछताछ' दो राज्यों में प्रथम चरण के चुनाव की पल-पल की खबर
दोहरे कराधान से बचने के लिए भारत-इथोपिया में करार
अदिस अबाबा, एजेंसी First Published:06-04-12 05:07 PM
Image Loading

दोहरे कराधान से बचने के लिए इथोपिया ने भारत सहित चार देशों के साथ समझौते किए हैं। इनमें चीन, सूडान और मिस्र भी शामिल हैं।

उक्त देशों के साथ हुए समझौते गुरुवार को मंजूरी के लिए हाउस ऑफ पीपुल्स रिप्रजेंटेटिव्स में रखे गए। दोहरा कराधान समाझौता (डीटीए) संसद से मंजूरी मिल जाने के बाद अगले तीन सप्ताह में लागू हो सकता है।

वित्त एवं आर्थिक विकास मामलों की समिति (एमओएफईडी) के अनुसार, समझौता निवेशकों को समान घोषित आय पर दोहरा कर नहीं देने की अनुमति देता है। समझौते के अनुसार, भारत, चीन, सूडान और मिस्र से व्यापार करने वाले इथोपिया के व्यवसायियों को दोहरा कर नहीं देना होगा।

एमओएफईडी के एक पत्र में यह भी स्पष्ट किया गया है कि दोहरे कराधान से बचने के इस समझौते में अप्रत्यक्ष कर और अन्य कर शामिल नहीं हैं। ऐसे में कोई देश आय कर के अलावा अन्य करों की उगाही कर सकता है।

इथोपिया ने चारों देशों के साथ समझौते के तहत कुछ निश्चित क्षेत्रों में निवेश को प्रोत्साहित करने पर भी सहमति जताई है। इन क्षेत्रों का चयन आपसी बातचीत के जरिये किया जाएगा। तय सम्पदा पर कर मेजबान देश द्वारा अदा किया जाएगा।

 
 
 
टिप्पणियाँ