गुरुवार, 23 अक्टूबर, 2014 | 12:12 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
वोडाफोन के समर्थन में विकसित देशों के उद्योगमंडल
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:02-04-12 04:02 PM
Image Loading

औद्योगिक देशों के उद्योग मंडल भारत में मोबाइल फोन सेवा बाजार की एक प्रमुख सेवा प्रदाता वोडाफोन पर हचिसन के साथ सौदे को लेकर कर लगाए जाने के मामले में उसके समर्थन में खड़े हो गए हैं।

इन संगठनों ने वोडाफोन के साथ विवाद के मद्देनजर भारतीय आयकर कानून में पीछे की तिथि से प्रभावी संशोधन के प्रस्ताव की आलोचना की है। इन संगठनों ने आगह किया है कि इस प्रस्ताव के मद्देनजर बड़ी संख्या में विदेशी कंपनियां ने भारत में कारोबार की लागत और निवेश को लेकर फिर से विचार शुरू कर दिया है।

ब्रिटेन की  कनफेडरेरशन ऑफ ब्रिटिश इंडस्ट्री, अमेरिका की यूएस काउंसिल फॉर इंटरनेशनल बिजनेस और जापान फॉरेन ट्रेड काउंसिल ने प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को पत्र लिखकर कहा है कि यदि कर कानून में बदलाव होते हैं, तो वे आगे की तारीख से  लागू होने चाहिए न कि पिछली तारीख से। कानून में बदलाव भले हो पर पूर्व के अदालती फैसले कायम रहने चाहिए।

इन एसोसिएशनों का दावा है कि दुनिया की ढाई लाख कंपनियां उनसे संबद्ध हैं। वित्त मंत्री प्रणव मुखर्जी ने पिछले सप्ताह संसद में वोडाफोन जैसे विलय एवं अधिग्रहण सौदों को आयकर के दायरे में लाने के लिए आयकर कानून में पिछली तिथि से संशोधन को उचित ठहराते हुए कहा है, भारत कर-शून्य व्यवस्था वाला देश नहीं है। भारत में करों की एक निश्चित दर है, लेकिन यह करापवंचकों की पनाहगाह नहीं है।
 
 
 
टिप्पणियाँ