शनिवार, 01 नवम्बर, 2014 | 09:29 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
Image Loading    केंद्र सरकार के सचिवों से आज चाय पर चर्चा करेंगे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भाजपा आज से शुरू करेगी विशेष सदस्यता अभियान आयोग कर सकता है देह व्यापार को कानूनी बनाने की सिफारिश भाजपा की अपनी पहली सरकार के समारोह में दर्शक रही शिवसेना बेटी ने फडणवीस से कहा, ऑल द बेस्ट बाबा झारखंड में हेमंत सरकार से समर्थन वापसी की तैयारी में कांग्रेस अब एटीएम से महीने में पांच लेन-देन के बाद लगेगा शुल्क  पेट्रोल 2.41 रुपये, डीजल 2.25 रुपये सस्ता फड़णवीस को मोदी ने चढ़ाईं सत्ता की सीढ़ियां  फडणवीस ने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ली, उद्धव भी पहुंचे
सात जनवरी को फिर होगी स्पेक्ट्रम नीलामी पर मंत्रिसमूह की बैठक
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:03-01-13 05:35 PM
Image Loading

दूरसंचार क्षेत्र पर मंत्रियों के अधिकार प्राप्त समूह ने गुरुवार को स्पेक्ट्रम नीलामी से जुड़े़ कई मुद्दों पर विचार किया लेकिन कोई निर्णय नहीं किया है। नीलामी इसी वित्त वर्ष में होनी है और इस विषय में निर्णय के लिए इन मंत्रियों की बैठक अब सात जनवरी को होगी।

दूरसंचार मंत्री कपिल सिब्बल ने बैठक के बाद यहां संवाददाताओं से कहा कि मंत्रिसमूह की बैठक करीब दो घंटे चली जिसमें विभिन्न मामलों पर विचार किया गया। इन मामलों पर और चर्चा के लिए सात जनवरी को फिर से बैठक करने का फैसला किया।

शीर्षस्थ सूत्र ने बताया अधिकार प्राप्त मंत्रिसमूह ने 1800-900 मेगाहर्ट्ज स्पेक्ट्रम के विषय में विचार-विमर्श किया लेकिन वह सीडीएमए फ्रिक्वेंसी (800 मेगाहर्ट्ज) पर चर्चा नहीं कर सका। नीलामी 18 जनवरी तक संभव नहीं लगती लेकिन यह चालू वित्त वर्ष के दौरान ही होगी।

जिन दूरसंचार कंपनियों के लाइसेंस उच्चतम न्यायालय के फैसले के बाद रद्द हो चुके हैं उन्हें अब 18 जनवरी तक ही सेवाएं जारी रखने का समय है। मंत्रिमंडल ने 1800 मेगाहर्ट्ज और 900 मेगाहर्ट्ज बैंड में शेष बचे जीएसएम स्पेक्ट्रम की बिक्री को मंजूरी दे रखी है।

मंत्रिसमूह को दूरसंचार विभाग द्वारा तैयार नीलामी योजना पर निर्णय करना है। आज की बैठक में इस योजना पर चर्चा की गयी। समझा जाता है कि सरकार स्पेक्ट्रम नीलामी की नई योजना तैयार कर रही है जिससे सरकारी खजाने में न्यूनतम अनुमानित 39,895 करोड़ रुपए आएंगे। इसमें से 25,316 करोड़ रुपए ज्यादा महंगे 900 मेगाहत्र्ज बैंड के स्पेक्ट्रम से और 14,579 करोड़ रुपए 1800 मेगाहत्र्ज स्पेक्ट्रम से आने की संभावना है। 

 
 
 
टिप्पणियाँ