शनिवार, 05 सितम्बर, 2015 | 17:47 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
सहारा रियल्टी कंपनी का इरादा संदेहजनक: सर्वोच्च न्यायालय
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:03-12-2012 08:36:13 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM
Image Loading

सर्वोच्च न्यायालय ने सोमवार को सहारा समूह की रियल्टी कंपनी को फटकार लगाई और कहा कि निवेशकों का पैसे लौटाने में कंपनी का इरादा संदेहास्पद है। कंपनी ने वैकल्पिक रूप से पूरी तरह परिवर्तनीय डिबेंचर योजना के तहत निवेशकों से पैसे जुटाए थे।

मुख्य न्यायाधीश अल्तमस कबीर, न्यायमूर्ति एस.एस. निज्जर और न्यायमूर्ति जे. चेलामेस्वर की पीठ ने कहा कि (निवेशकों के पैसे) लौटाने का आपका इरादा नहीं है। आपका इरादा संदेहास्पद है। सहारा इंडिया रियल एस्टेट कारपोरेशन और सहारा हाउसिंग इनवेस्टमेंट कारपोरेशन ने शेयर अपीलीय न्यायाधिकरण द्वारा जारी एक आदेश को अदालत में चुनौती दी है।

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
Image Loadingनए घर में मिला रहाणे को खूबसूरत सरप्राइज
टीम इंडिया के बल्लेबाज अजिंक्य रहाणे नए घर में शिफ्ट हो गए हैं। श्रीलंका दौरे से लौटने के बाद रहाणे ने नए घर में कदम रखा और उन्हें बहुत खूबसूरत सरप्राइज भी मिला।
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड Others
 
Image Loading

अलार्म से नहीं खुलती संता की नींद
संता बंता से: 20 सालों में, आज पहली बार अलार्म से सुबह-सुबह मेरी नींद खुल गई।
बंता: क्यों, क्या तुम्हें अलार्म सुनाई नहीं देता था?
संता: नहीं आज सुबह मुझे जगाने के लिए मेरी बीवी ने अलार्म घड़ी फेंक कर सिर पर मारी।