रविवार, 26 अक्टूबर, 2014 | 08:25 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
Image Loading    राजनाथ सोमवार को मुंबई में कर सकते हैं शिवसेना से वार्ता नरेंद्र मोदी ने सफाई और स्वच्छता पर दिया जोर मुंबई में मोदी से उद्धव के मिलने का कार्यक्रम नहीं था: शिवसेना  कांग्रेस ने विवादित लेख पर भाजपा की आलोचना की केन्द्र ने 80 हजार करोड़ की रक्षा परियोजनाओं को दी मंजूरी  कांग्रेस नेता शशि थरूर शामिल हुए स्वच्छता अभियान में हेलमेट के बगैर स्कूटर चला कर विवाद में आए गडकरी  नस्ली घटनाओं पर राज्यों को सलाह देगा गृह मंत्रालय: रिजिजू अश्विका कपूर को फिल्मों के लिए ग्रीन ऑस्कर अवार्ड जम्मू-कश्मीर और झारखंड में पांच चरणों में मतदान की घोषणा
2013 में स्लिम और शक्तिशाली गैजेट्स की मांग बढ़ेगी
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:28-12-12 04:59 PM
Image Loading

आईफोन 5, आईपैड मिनी, नेक्सस 7 और गैलेक्सी एस तीन ने 2012 में गैजेट्स यानी उपकरण बाजार में धूम मचाई है। लेकिन अब गैजेट्स अधिक स्लिम, सेक्सी तथा शक्तिशाली हो रहे हैं। 2013 में तरह-तरह के गैजेट्स रखने के शौकीनों को कई प्रकार के विकल्प उपलब्ध होंगे।

इस साल फीसर्च फोन से स्मार्टफोन की ओर बदलाव हुआ। अब लोग बात करने या संदेश भेजने से आगे यानी स्मार्ट फोन के जरिए टि्वट करने और शॉपिंग करने की ओर बढ़ गए हैं।

मोबाइल इंटरनेट की पहुंच बढ़ने के साथ ही इसके जरिये खरीदारी बढ़ती जा रही है। 2011 में इंटरनेट का इस्तेमाल करने वाले लोगों का आंकड़ा 10 करोड़ से कुछ अधिक था, जो अब बढ़कर 14 करोड़ पर पहुंच गया है। खासकर युवाओं में इंटरनेट की लोकप्रियता बढ़ रही है।

नोकिया के वरिष्ठ उपाध्यक्ष (बिक्री-आईएमईए) डी शिवकुमार ने कहा कि हैंडसेट बाजार में 2012 में स्मार्ट उपकरणों का आकर्षण बढ़ा है। यह रुख केवल महंगे उपकरणों तक सीमित नहीं रहा, बल्कि प्रवेश स्तर पर भी इसी तरह का चलन दिखाई दिया।

उन्होंने कहा कि 2013 में नोकिया को इन दो चलन का जुड़ाव देखने को मिलेगा। उपकरणों की निचली दरों पर कई तरह की सेवाएं और कंटेंट उपलब्ध होगा।

गैजेट्स के शौकीनों के लिए जो स्मार्टफोन आने हैं उनमें एप्पल आईफोन 5एस, सैमसंग गैलेक्सी एस 4 और नोकिया लूमिया 920 और 820 शामिल हैं।

मैकिंजी एंड कंपनी की एक रिपोर्ट के अनुसार इंटरनेट आधारित खपत और खर्च भारत में अनुमानत: 30 अरब डॉलर है। यह सकल घरेलू उत्पाद का 1.6 प्रतिशत है, जो 2015 तक बढ़कर 2.8 से 3.3 प्रतिशत पर पहुंच जाएगा।

इसी रपट में कहा गया है कि भारत में 2015 तक इंटरनेट के इस्तेमालकर्ताओं का आंकड़ा 33 से 37 करोड़ पर पहुंच जाएगा। इंटरनेट के मामले में भारत दुनिया में दूसरे स्थान पर होगा।

इस साल गैजेट्स बाजार की एक अन्य खास बात सस्ते टैबलेट पीसी रहे। माइक्रोमैक्स, एचसीएल और जेन ने देश के ग्रामीण इलाकों की बढ़ती मांग को पूरा करने के लिए अपने उपकरण उतारे।

आमतौर पर टैबलेट पीसी बाजार में एप्पल और सैमसंग जैसी कंपनियों का जलवा है, लेकिन सस्ते टैबलेट पीसी बाजार में कई कम नाम वाली कंपनियां भी दिखाई दीं।

लावा इंटरनेशनल के संस्थापक सदस्य और निदेशक एस एन राय ने कहा कि हमें महंगे फोन बेचने में ज्यादा आसानी हो रही है। औसतन हम इंटल चिप आधार जोलो फोन की 25,000 इकाइयां बेच पा रहे हैं। ये हैंडसेट 10,000 से 15,000 रुपए के हैं।

सरकार की महत्वाकांक्षी आकाश टैबलेट पीसी योजना में हालांकि विलंब हुआ है, लेकिन अब सरकार जल्द आकाश 2 पेश करने की तैयारी में हैं। आकाश बनाने वाली कंपनी कनाडा की डाटाविंड ने इसी तरह का उपकरण यूबिस्लेट ब्रांड नाम से पेश किया है।

आईडीसी के महाप्रबंधक जयदीप मेहता ने कहा कि टैबलेट पीसी बाजार 2013 में भी तेजी से बढ़ेगा। 2011 की पहली तिमाही में यह 34,000 इकाई था, जो इस साल की तीसरी तिमाही में 8.44 लाख इकाई का हो गया। इसमें दो स्पष्ट श्रेणियां हैं। 26,000 से 40,000 रुपए और 5,000 से 15,000 रुपए। दोनों श्रेणियां तेजी से आगे बढ़ेंगी।
 
 
|
 
 
टिप्पणियाँ